JharkhandLead NewsNEWSRanchi

वित्त मंत्री रामेश्वर उरांव बोले, दबाव में पेट्रोल-डीजल पर वैट कम नहीं करेगी सरकार

हेमंत सरकार के दो साल पूरे होने पर गिनाई उपलब्धियां

Ranchi : झारखंड के वित्त मंत्री डॉ रामेश्वर उरांव ने कहा है कि सरकार ने पेट्रोल-डीजल से वैट कम करने की कसम नहीं खाई है. दबाव में कोई काम नहीं होता है. वैट कब कम करना है, यह सरकार तय करेगी. सरकार दबाव या जिद में कोई काम नहीं करती. अगर अन्य राज्यों से तुलना करें तो झारखंड में पेट्रोल-डीजल की कीमत कम है. बिहार में पेट्रोल 108 रु बिक रही है. यहां 98 रु में बिक रहा है. यह महंगाई केंद्र की वजह से है. वर्ष 2014 में duty 9.30 फीसदी थी, उस वक्त केंद्र में यूपीए की सरकार थी. आज exise duty 9.30 फीसदी से बढ़ाकर 29 फीसदी कर दिया गया. डॉ उरांव सोमवार को अपने आवास पर पत्रकारों से बात कर रहे थे. इस दौरान उन्होंने सरकार के दो साल पूरे होने पर उपलब्धियां भी बतायीं. मौके पर कांग्रेस नेता आलोक दुबे, राजेश गुप्ता छोटू और लाल किशोर नाथ शाहदेव भी मौजूद थे.

 

नियुक्ति नियमावली बाधा थी जो खत्म हो गई

उन्होंने कहा कि इन दो सालों में सरकार ने हर क्षेत्र में काम किया है. चाहे वो रोजगार हो या स्वास्थ्य, कृषि का क्षेत्र हो. रोजगार के मुद्दे पर कहा कि हम कहने से मुकरते नहीं हैं और हम करेंगे. आनेवाले दिनों में नियुक्तियों की भरमार होगी. नियुक्ति नियमावली बाधा थी, जो अब खत्म हो गई है. पिछली सरकार में कई नियुक्तियां फंस गई. परीक्षाएं हुई लेकिन लगभग में कोर्ट केस हो गया. हमारी सरकार ने एहतिहात बरती और विभागवार नियुक्ति नियमावली बना रही है.

 

ram janam hospital
Catalyst IAS

सरकार आगे बढ़ रही है

The Royal’s
Pushpanjali
Sanjeevani
Pitambara

उन्होंने कहा कि हेमंत सोरेन के नेतृत्व में सरकार निरंतर आगे बढ़ रही है. हम किसी पर दोषारोपण नहीं करेंगे. जनता हमारे कामों का आकलन करें की हम कितने आगे बढ़ रहे है. एक सवाल के जवाब में डॉ उरांव ने कहा कि पुलिस state symbol है. हम मानते हैं कि कमियां हैं. सरकार उसपर काम भी कर रही है लेकिन पुलिस में केवल कमियां ही देखनी चाहिए उन्हें प्रोत्साहित भी करें.

 

पिछली सरकार की कारस्तानी का दंश झेल रहे हैं लोग

एचईसी के साथ लोगों ने किस तरह का एग्रिमेंट किया था मुझे नहीं पता. राउरकेला स्टील प्लांट 1954 में शुरू हुआ. कम्पनी के विस्तारण के समय जो सरप्लस जमीन बच गई उसे सरकार को दे दिया. राउरकेला स्टील प्लांट प्रबंधन ने ओडिशा सरकार को लगभग 5000 एकड़ सरेंडर किया. पिछली सरकार ने जो किया झारखंड उसी का दंश झेल रहा है. CNT-SPT Act में संशोधन कि वजह से ऐसी स्थिति उत्पन्न हुई. ऐसी बात नहीं है कि CNT-SPT का मार केवल आदिवासी ही झेला था इसका आक्रमण OBC और SC पर भी था.

Related Articles

Back to top button