न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

दो जुलाई तक भरना है इंजीनियरिंग-मेडिकल का फॉर्म, मगर स्थानीयता प्रमाणपत्र बनाने में ही लग रहे 15 दिन

167

–              स्थानीयता को किया गया है अनिवार्य

–              बगैर स्थानीयता के नहीं कर सकते आवेदन

Trade Friends

–              तत्काल स्थानीयता बनाने में लगेंगे 15 दिन

Ranchi : राज्य के इंजीनियरिंग, मेडिकल सहित पॉलिटेक्निक कॉलेजों में दाखिले के लिए काउंसलिंग की प्रक्रिया का नोटिफिकेशन जारी कर दिया गया है. तीनों की कोर्सेस में दाखिले के लिए राज्य के लगभग 10 हजार से अधिक छात्रों को आवेदन करना है. काउंसलिंग में शामिल होने के लिए स्थानीयता प्रमाणपत्र को अनिवार्य किया गया है. पर छात्रों की स्थिति यह है कि वे स्थानीयता प्रमाणपत्र बनवाने के लिए केवल दौड़ ही लगा रहे हैं. क्योंकि फार्म भरने की आखिरी तारीख दो जुलाई है.

स्थानीयता प्रमाणपत्र बनाने को लेकर छात्र जब संबंधित प्रज्ञा केंद्र में जाते हैं, तो वहां उनसे आवेदन पत्र में एसडीओ का हस्ताक्षर कराकर लाने को कहा जा रहा है. जबकि नियम  के मुताबिक, आवेदन पत्र में एसडीओ का हस्ताक्षर करवाने का काम प्रज्ञा केंद्र का ही है. प्रज्ञा केंद्र संचालकों का कहना है कि तत्काल स्थानीयता प्रमाण पत्र बनाने में भी 15 दिन लगेंगे.

इसे भी पढ़ें – दुमका से हेमंत सोरेन नहीं लड़ेंगे चुनाव, सुरक्षित सीट की हो रही तलाश!

छात्रों की परेशानी देखें तो उन्हें सात दिनों के भीतर आवेदन प्रक्रिया को पूरा कर लेना है. अब तत्काल स्थानीयता प्रमाणपत्र बनाने में 15 दिनों का समय उन्हें बताया जाता है, जबकि सात दिनों के भीतर आवेदन प्रक्रिया को पूरा कर लेना है.

ऐसे में विद्यार्थियों की चिंता इस बात को लेकर हो रही है कि अगर समय पर आवेदन के साथ स्थानीयता प्रमाणपत्र नहीं दिया तो पूरे साल की पढ़ाई के बाद मिला नामांकन का अवसर चला जायेगा. उनका पूरा साल बर्बाद हो जायेगा.

इसे भी पढ़ें – हजारीबाग: चार सालों से धूल फांक रहा 8.50 करोड़ की लागत से बना बोंगागांव आइटीआइ का भवन

स्थानीयता प्रमाणपत्र के लिए जरूरी दस्तावेज

WH MART 1

–              माता पिता का स्थानीयता प्रमाणपत्र

–              1932 या 1984 का खतियान

–              आधार

–              स्कूल से 10 वीं व 12 वीं तक की शिक्षा का सर्टिफिकेट

–              सीओ व एसडीओ का अनुमोदन

–              30 रुपये का निबंधन शुल्क

–              वंशावली

इसे भी पढ़ें – NewsWing Impact : ऐतवारी के चेहरे पर छलकी मुस्कान, पेंशन बनी, राशन बाकी

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

kohinoor_add

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like