Corona_UpdatesHEALTHJharkhand

#FightAgainstCorona: प्राइवेट क्लीनिकों में कार्यरत डायलिसिस टेक्नीशियनों की सेवा लेगा रिम्स प्रबंधन

Ranchi: राज्य के सबसे बड़े अस्पताल रिम्स में डायलिसिस मरीजों की संख्या लगातार बढ़ रही है. कोरोना से संक्रमित डायलिसिस मरीज मिलने के बाद से कई प्राइवेट डायलिसिस सेंटर में इलाज बंद है. इस कारण सारा लोड रिम्स पर बढ़ गया है.

पर, रिम्स में टेक्निशियंस की भारी कमी है. इस कारण रिम्स प्रबंधन ने इंडियन मेडिकल एसोसिएशन से प्राइवेट टेक्निशियंस की मांग की है. रिम्स प्रबंधन ने बताया कि कई डायलिसिस सेंटर में डायलिसिस नहीं होने के कारण टेक्निशियंस काम नहीं कर रहे हैं.

इसलिए उनका उपयोग कर रिम्स में वर्तमान में टेक्निशियंस की कमी की भरपाई करना चाहता है. इसलिए आइएमए से टेक्निशियंस देने का आग्रह किया है. बदले में रिम्स प्रबंधन उन्हें नियम अनुसार मानदेय देने की भी बात कही है.

ram janam hospital
Catalyst IAS

इसे भी पढ़ें : whatsapp पर खबरें भेजना मुश्किल, न्यूज विंग की खबरें पढ़ते रहने के लिए हमारे Telegram चैनल से जुड़ें, जानें कैसे जुड़ें टेलिग्राम चैनल से

The Royal’s
Pitambara
Sanjeevani
Pushpanjali

नेफ्रॉन क्लीनिक को किया जा चुका है सील

हिंदपीढ़ी से जिस दूसरी महिला को पॉजिटिव पाया गया था, वह किडनी की मरीज है. वह नेफ्रॉन क्लीनिक में अपना डायलिसिस कराती थी. पॉजिटिव पाये जाने के बाद नेफ्रॉन क्लीनिक में जहां वह डायलिसिस कराती थी, उसे पूरी तरह सील कर दिया गया है.

वहां कार्यरत टेक्नीशियन सहित डायलिसिस कराने वाले सभी मरीजों की कोरोना जांच भी हुई है. नेफ्रॉन के बंद होने के बाद कई प्राइवेट डायलिसिस सेंटर को भी बंद कर दिया गया है जिससे मरीजों को डायलिसिस में दिक्कत आ रही है.

अब सभी मरीज सीधा रिंग्स पहुंच रहे हैं. रिम्स में टेक्निशियंस की कमी के कारण उनका डायलिसिस नहीं हो पा रहा है. इसलिए रिम्स प्रबंधन अब बंद हो चुके डायलिसिस सेंटर के टेक्निशियंस को अपने यहां मानदेय के आधार पर उपयोग करना चाह रहा है.

इसे भी पढ़ें : बड़ी कार्रवाई :  कम राशन देने के आरोप में रांची के 12 पीडीएस दुकानदार निलंबित

सिर्फ चार डायलिसिस यूनिट के बल पर कैसे होगा इतने मरीजों का इलाज

जिस हिसाब से रिम्स में डायलिसिस मरीजों का बोझ बढ़ रहा है. उससे रिम्स प्रबंधन पर काफी दबाव है. कई मरीजों को डायलिसिस की तत्काल आवश्यकता होती है.

ऐसे में सिर्फ 4 मरीजों का ही एक साथ डायलिसिस किया जा सकता है. रिम्स के ट्रामा सेंटर में सिर्फ 5 डायलिसिस मशीन है जिसमें 4 ही एक्टिव हैं.

इसे भी पढ़ें : #FightAgainstCorona : कोरोना के बारे में कितना जानते हैं आप? कहीं आप भी तो इन झूठी बातों पर तो यकीन नहीं करते! जानें सच और झूठ क्या है

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button