NationalNEWSWorld

#FightAgainstCorona को सांप्रदायिक रंग न दे ओआइसी, प्रॉपेगैंडा का शिकार होने से बचे – भारत

New Delhi: ऑर्गेनाइजेशन ऑफ इस्लामिक कोऑपरेशन (OIC) की तरफ से भारत में मुस्लिम समुदाय के अधिकारों के हनन की आशंका जताये जाने को भारत सरकार ने दुर्भाग्यपूर्ण करार दिया है. OIC मुस्लिम देशों का एक संगठन है.

केंद्र सरकार के सूत्रों ने गुरुवार को कहा कि ओआइसी ने तथ्य से परे बयान दिया है, जो बेहद दुखद है. OIC ने बीते रविवार को भारत से अनुरोध किया था कि वह अल्पसंख्यक मुस्लिम समुदाय के अधिकारों की रक्षा करने और देश में ‘इस्लामोफोबिया’ (इस्लाम धर्म के प्रति पूर्वाग्रह) की घटनाओं को रोकने के लिए तुरंत कदम उठाये.

इस पर भारत सरकार में सूत्रों ने कहा, ‘ओआइसी को कोविड-19 के खिलाफ वैश्विक लड़ाई को सांप्रदायिक रंग देने की कोशिश नहीं करनी चाहिए. हम अभी महामारी की चुनौती से लड़ रहे हैं. एक बार इस महामारी से हमारा पीछा छूट जाये तो हम इस सवाल पर विचार कर सकते हैं.’

इसे भी पढ़ें : #Godda: महगामा MLA दीपिका पांडेय सिंह के व्यवहार से नाराज 5 थानों के प्रभारियों व पुलिसकर्मियों ने मांगा ट्रांसफर

ओमान की राजकुमारी ने दी सफाई

सूत्रों ने कहा कि वह ट्विटर हैंडल ओमान की राजकुमारी का नहीं है जिससे भारत के बारे में कुछ कहा गया था. सूत्रों ने बताया कि ओमान की राजकुमारी ने सफाई दी है कि उनका उस ट्विटर हैंडल से कोई लेनादेना नहीं है.

हमें पता चल रहा है कि भारत के अंदर और खाड़ी देशों के साथ हमारे रिश्तों में दरार पैदा करने की साजिश रची जा रही है. हमारे दूतावासों ने इन देशों से अपील की है कि वो ऐसे घृणित प्रपंच में फंसने से बचें.

दरअसल, ओमान की राजकुमारी मोना बिंत फहद अल सैद के नाम से एक फर्जी ट्विटर अकाउंट बनाकर उल्‍टे-सीधे पोस्‍ट किये गये.

उस हैंडल से यहां तक लिख दिया कि ओमान ने कहा है कि सभी भारतीयों को बाहर निकाल देगा. बाद में विवाद बढ़ता देख ओमान की राजकुमारी को सामने आना पड़ा.

उन्‍होंने बयान जारी कर अपने ऑफिशियल अकाउंट्स के बारे में बताया और कहा कि उस अकाउंट से उनका कोई लेना-देना नहीं है.

इसे भी पढ़ें : सुनील कुमार बने पथ निर्माण के सचिव, अबु बकर को कृषि विभाग का मिला प्रभार

खाड़ी देशों से भारतीय कामगारों के हितों पर हो रही बात

बहरहाल, सूत्रों ने खाड़ी देशों में भारतीय कामगारों की नौकरियां छिनने की खबरों पर कहा कि भारतीय दूतावास वहां की सरकारों के संपर्क में हैं.

उन्होंने कहा- ‘भारतीय कामगारों के हितों की रक्षा पर लगातार बातचीत चल रही है. हमें ऐसी खबरें मिली हैं. हम लगातार इस पर बातचीत करते रहेंगे.’

इसे भी पढ़ें : बुधवार को हिंदपीढ़ी से मिला मरीज राज अस्पताल में कराता था डायलिसिस, छह स्वास्थ्य कर्मियों का लिया गया सैंपल

Advt

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button