JharkhandLead NewsNEWSRanchiTOP SLIDER

झारखंड में पहली बार किसी संगठित आपराधिक गिरोह की वारदात की जांच करेगी एनआइए, जानिये, क्या है मामला

तेतरियाखाड़ फायरिंग केस की जांच करेगी एनआइए, सुजीत सिन्हा गिरोह निशाने पर

Ranchi: लातेहार के बालूमाथ में हुए तेतरियाखाड़ फायरिंग केस की जांच अब एनआईए करेगी. 18 दिसंबर की रात लातेहार के बालूमाथ के तेतरियाखाड़ साइडिंग पर अपराधियों ने उत्पात मचाया था. आगजनी के साथ ही फायरिंग कर चार लोगों को घायल कर दिया गया था. झारखंड में  ऐसा पहली बार है जब संगठित आपराधिक गिरोह से जुड़े मामले की एनआइए करेगी.

 

तेतरियाखाड़ फायरिंग केस में बालूमाथ थाने में 234/20 केस दर्ज किया गया था. मामले की जांच के लिए एनआईए से पत्राचार किया गया था. एनआइए ने मामले के टेकओवर करते हुए लातेहार कोर्ट से केस से जुड़े कागजात हासिल कर लिए हैं.

 

लातेहार के चंदवा, बालूमाथ, चतरा के पिपरवार, रांची के खलारी समेत अन्य कोयला क्षेत्र में रंगदारी वसूली के लिए सुजीत सिन्हा गैंग के द्वारा नवंबर- दिसंबर 2020 में काफी दबाव डाला गया था. गिरोह के लोगों ने वीडियो जारी कर व कई जगहों पर पोस्टरबाजी कर कोयला कारोबारियों, डीओ होल्डर्स, ट्रांसपोर्टरों को काम करने के बदले पैसे की मांग की थी. इसी क्रम में पीएलएफआई से अलग होकर सुजीत सिन्हा गैंग के लिए काम करने वाले प्रदीप गंझू ने बालूमाथ में कई कारोबारियों से रंगदारी मांगी थी. इसके बाद 18 दिसंबर की देर शाम तेतरियाखाड़ साइडिंग पर ट्रकों में आगजनी व फायरिंग की वारदात को अंजाम दिया गया था. मामले में फरवरी महीने में पुलिस ने प्रदीप गंझू समेत सुजीत सिन्हा गैंग के कई अपराधियों को गिरफ्तार भी किया था.

ram janam hospital
Catalyst IAS

Related Articles

Back to top button