Education & Career

सरकारी स्कूलों में लगनेवाली फीस भी हो सकती है माफ, विभाग कर रहा विचार

Ranchi : राज्य के हाइस्कूल और प्लस टू स्कूलों में लगनेवाली फीस भी माफ हो सकती है. इस फीस को माफ करने को लेकर स्कूली शिक्षा व साक्षरता विभाग मंथन कर रहा है. हालांकि इन स्कूलों में लगनेवाली फीस काफी कम है. राज्य सरकार के हाइस्कूल और प्लस टू स्कूल में एडमिशन के समय विभिन्न मदों में लगभग साढ़े चार सौ रुपये के करीब छात्रों को देने होते हैं. इसके अलावा माध्यमिक स्कूलों में भी फीस लगती है. ऐसे में विभाग की मानें तो इस साढ़े चार सौ रुपये की बाध्यता को खत्म करने पर विचार किया जा रहा है.

इसे भी पढ़ें – एडमिशन अलर्ट : 16 जुलाई तक RTE के तहत नामांकन के लिए करें आवेदन, रांची के 70 स्कूलों में 1005 सीटें

लॉकडाउन की वजह से हो रहा विचार

स्कूली शिक्षा व साक्षरता विभाग के अधिकारियों की मानें तो सरकारी स्कूलों में पढ़ने के लिए आनेवाले अधिकतर स्टूडेंट्स ऐसे वर्ग से आते हैं, जिनकी जिंदगी रोजमर्रा की कमाई से चलती है. लॉकडाउन के तीन महीनों में बेरोजगार हो चुके अभिभावकों के लिए यह बड़ी राशि हो सकती है. स्कूलों में विभिन्न मदों में छोटी-छोटी ही राशि ली जाती है, लेकिन सभी मिला कर यह राशि तीन सौ से चार सौ के बीच हो जाती है. स्कूलों में फॉर्म के लिए भी 50 से 100 रुपये अलग से लिये जा रहे हैं.

इसे भी पढ़ें – आर्थिक तंगी में पेट्रोलियम पदार्थों की कीमतों में वृद्धि कर मुनाफाखोरी कर रही मोदी सरकार: डॉ उरांव

स्कूलों में नामांकन फार्म की राशि अलग-अलग

सरकारी स्कूलों में लगने वाली फीस के मद अलग-अलग हैं. वहीं एडमिशन फॉर्म के लिए फीस भी अलग-अलग ली जाती है. यह स्कूलों पर निर्भर करता है. रांची के मारवाड़ी प्लस टू स्कूल में एडमिशन फार्म की कीमत 50 रुपये है. वहीं राजकीय बालिका प्लस टू विद्यालय में यह राशि केवल 10 रुपये है. वहीं स्कूलों में ली जानेवाली फीस की बात करें तो डेवलपमेंटल फीस 40 रुपये, एडमिशन फीस 05 रुपये, बागवानी शुल्क 12 रुपये, स्पोटर्स 14.50 रुपये, पूअर फंड 10 रुपये, परीक्षा शुल्क 40 रुपये, गाइड 2.50 रुपये, पंखा 05 रुपये, साइंस फीस 02 रुपये, मनोरंजन शुल्क 4.00 रुपये, कराटे 03 रुपये और आइकार्ड और बेल्ट 35 रुपये है.

इसे भी पढ़ें – Gumla : मालिक को लुटने से बचाने के लिए अपराधियों से भिड़ गया कर्मचारी, अपराधियों ने गोली मारी, चली गयी जान

Telegram
Advertisement

Related Articles

Back to top button
Close