न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

देवबंद से आते हैं भाजपा की हार के लिए वजीफे पढ़ने के फतवे, तो मुसलमानों को कहां से  टिकट मिलेगा :  खान

आरिफ मोहम्मद खान ने पूछा कि क्या रमजान के दौरान सेहरी खाने से पहले वजीफा पढने से भाजपा चुनाव हार जायेगी?

234

NewDelhi :  दारुल-उलुम देवबंद से भाजपा के खिलाफ चुनावों के दौरान फतवा जारी होता है. ऐसे में मुस्लिम समुदाय कैसे उम्मीद कर सकता है कि पार्टी मुसलमानों को चुनावी टिकट देगी.  इंडियन एक्सप्रेस के आइडिया एक्सचेंज प्रोग्राम में पूर्व केंद्रीय मंत्री आरिफ मोहम्मद खान ने यह बात कही. इस क्रम में  खान ने कहा कि भारत जैसे बड़े देश में यह कैसे हो सकता है कि हम कुछ कहें या करें और फिर उसके परिणामों से डर जायें.  कहा कि हम ऐसे हालात के लिए सिर्फ भाजपा को कैसे दोषी ठहरा सकते हैं? उन्होंने सवाल पूछा कि अब ऐसी सियासी परिस्थितियां क्यों हो गयी हैं?

प्रोग्राम में आरिफ मोहम्मद खान से पूछा गया कि आप 1986 की बात करते हैं, जब सत्तासीन कांग्रेस पार्टी के पास बड़ा बहुमत था, और उसने जो चाहा, किया.  अभी उस पार्टी के पास बहुमत है, जिसने चुनाव में केवल मुट्ठी भर मुसलमानों को मैदान में उतारा, और अब कह जा रहा है कि संबंधित समुदाय के लोगों की आवाज को नजर अंदाज कर कुछ विधेयक पारित करेंगे.  क्या यह 1986 जैसा नहीं है?

इसे भी पढ़ें  सीजेआई ने कहा, वर्तमान समय में  कुछ लोगों और समूहों का व्यवहार आक्रामक नजर आ रहा है

पांच सालों में देश में कोई भी बड़ा साम्प्रदायिक दंगा नहीं हुआ

इस सवाल पर  खान ने कहा कि पिछले लोकसभा चुनाव के दौरान दारुल-उलुम-देवबंद द्वारा फतवे जारी किये गये थे, जिसमें रमजान के महीने में सेहरी से पहले लोगों को जागने और भाजपा को चुनावों में हारने के लिए वजीफा (कविता) पढ़ने को कहा गया था. खान ने कहा कि हमें यथार्थवादी होना पड़ेगा. इस क्रम में  पूर्व मंत्री आरिफ मोहम्मद खान से  ने कहा, मैं आशावादी हूं क्योंकि पिछले पांच सालों में देश में कोई भी बड़ा साम्प्रदायिक दंगा नहीं हुआ,

उन्होंने कहा कि पिछले पांच वर्षों में बड़ी संख्या में मुस्लिम युवाओं ने प्रशासनिक सेवाओं में प्रवेश किया है.  ऐसा पहले कभी नहीं हुआ.  यह इसलिए है क्योंकि वे मौलवियों पर अपना विश्वास खो रहे हैं.वे अब अपने पैरों पर खड़े होने लगे हैं. उन्होंने शिक्षा को महत्व देना शुरू कर दिया है.

आरिफ मोहम्मद खान ने पूछा कि क्या रमजान के दौरान सेहरी खाने से पहले वजीफा पढने से भाजपा चुनाव हार जायेगी? उन्होंने सवालिया लहजे में कहा कि क्या धर्म के नाम पर अफीम नहीं  दी जा रही है?  खान ने कहा कि   फिर आप भाजपा से अपेक्षा करते हैं कि वह आपको सांसद पद के लिए टिकट दे या नामित करे?

Mayfair 2-1-2020

इसे भी पढ़ें – घुसपैठ की कोशिश कर रहे सात पाकिस्तानी आतंकियों को भारतीय सेना ने मार गिराया

Sport House

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like