Crime NewsHazaribaghKhas-Khabar

दरिंदगीः पिता ने अपने दो बेटों को जिंदा जलाया, एक की मौत-दूसरा लड़ रहा जिंदगी की जंग, पत्नी गंभीर 

Hazaribagh: जिले से दिल दहला देने वाली घटना सामने आई है. शहर के दारू थाना क्षेत्र के पुण्याई बसरिया गांव में एक पिता कैलाश अग्रवाल ने अपने दो मासूम बच्चों को जिंदा जला डाला. कैलाश ने प्रियांशु (3 वर्ष) और राजा (2 वर्ष) पर केरोसिन डाल कर उन्हें आग लगा दी.

Jharkhand Rai

घटना के पीछे पारिवारिक कलह को कारण बताया जा रहा है. खबर है कि पुण्याई निवासी सुनीता ने राजस्थान के रहने वाले कैलाश अग्रवाल से 6 वर्ष पूर्व प्रेम विवाह किया था.

घटना के बाद रोती-बिलखती मां

बाद में दोनों के बीच अक्सर तकरार होने लगी. जिसके कारण सुनीता अपने बच्चों को लेकर अपने मायके आ गयाी. कैलाश भी तीन दिन पूर्व अपने ससुराल आया था. और मंगलवार को सुबह 10:00 बजे उसने इस दरिंदगी को अंजाम दिया.

आग में दोनों पुत्र बुरी तरह झुलस गये, जिसमें प्रियांशु की मौत हो गई. जबकि छोटा बेटा जिंदगी और मौत की बीच झुल रहा है. जानकारी की अनुसार, कैलाश अग्रवाल ने दोनों बेटों को कमरे में बंद कर केरोसीन छिड़क कर आग लगायी.

Samford

इसे भी पढ़ेंःधनबादः हाईटेंशन तार की चपेट में आने से मजदूर की मौत, लापरवाही को लेकर लोगों का हंगामा 

जिंदगी की जंग लड़ रहा दो साल का मासूम

जानकारी के बाद बच्चे को बचाने गई मां भी झुलस गयी. आग के लपटों से दोनों हाथ पूरी तरह जल गये. दोनों बेटे को जला देख मां ने हो-हल्ला किया. जिसके बाद गंभीर स्तिथि में दोनों को स्थानीय लोगों की मदद से सदर अस्पताल लाया गया.

इसे भी पढ़ेंःईवीएम के खाली बक्से लेकर जा रहे ट्रक को भीड़ ने रोका, नारेबाजी, जतायी ईवीएम बदलने की आशंका

जहां चिकित्सकों ने बड़े बेटे प्रियांशु को मृत घोषित कर दिया. वही प्राथमिक इलाज के बाद छोटे बेटे की गंभीर हालत को देखते हुए चिकित्सकों ने रिम्स रेफर कर दिया है. डॉक्टरों ने बताया है कि राजा की स्तिथि गंभीर बनी हुई है. वो 90% से ज्यादा जल गया है.

इधर घटना के बाद आरोपी पिता कैलाश अग्रवाल को दारु थाना पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है. हालांकि पुलिस की पूछताछ में अबतक घटना का कारण स्पष्ट नहीं हो पाया है. इस घटना से इलाके में हर कोई सकते में है.

इसे भी पढ़ेंःJAC इंटर आर्ट्स रिजल्ट जारी, 79.97 प्रतिशत बच्चे पास

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: