न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

22 सूत्री मांगों को लेकर किसानों का 8 जनवरी को ग्रामीण इलाके में बंद, न्यूनतम समर्थन मूल्य बढ़ाने व कर्ज माफी मुख्य मांग

किसान संघर्ष समन्वय समिति के तीसरे अधिवेशन में लिया गया था निर्णय, राज्य में एआइकेएस करेगी बंद कर नेतृत्व, अन्य किसान संगठनों का भी समर्थन

981

Ranchi: आठ जनवरी को राज्य के ग्रामीण क्षेत्रों में बंद का आह्वान किया गया है. बंद अखिल भारतीय किसान संघर्ष समन्वय समिति की ओर से देश भर में बुलाया गया है. राज्य में बंद का नेतृत्व झारखंड राज्य किसान सभा (एआइकेएस) की ओर से किया जायेगा.

इसे भी पढ़ेंःकंबल घोटालाः IAS मंजूनाथ भजंत्री ने जब कार्रवाई शुरू की तो रघुवर सरकार ने उन्हें परेशान कर तबादला कर दिया
एआइकेएस के महासचिव सुरजीत सिन्हा ने बताया कि अखिल भारतीय किसान संघर्ष समन्वय समिति के तीसरे राष्ट्रीय अधिवेशन में इसका निर्णय लिया गया था. अधिवेशन पिछले साल 29 और 30 नंवबर को दिल्ली में आयोजित किया गया था. जिसमें दो सौ किसान संगठनों के लगभग छह सौ प्रतिनिधियों ने हिस्सा लिया.

Sport House

सुरजीत सिन्हा ने बताया कि इस अधिवेशन में निर्णय लिया गया कि आठ जनवरी को भारत के ग्रामीण क्षेत्र बंद रहेंगे. बंद 22 सूत्री मांगों के समर्थन में है. उन्होंने बताया कि इसके पहले पिछले साल किसानों की ओर से संसद मार्च का आयोजन किया गया था. जिसमें मजदूर भी शामिल हुए थे.

इसमें भी अखिल भारतीय किसान संघर्ष समन्वय समिति की 22 सूत्री मांगों को उठाया गया. लेकिन मोदी सरकार ने इस पर ध्यान नहीं दिया. जिसके बाद जनवरी में बंद करने का निर्णय लिया गया.

राज्य में अब तक पांच किसान संगठनों का समर्थन

सुरजीत ने बताया कि भले ही राज्य में एआइकेएस इसका नेतृत्व कर रही हो. लेकिन पांच अन्य किसान संगठनों ने बंद का समर्थन किया है. इसमें एआइकेएएस के दो अन्य किसान संगठन, किसान संग्राम समिति, सेंटर ऑफ इंडियन ट्रेड यूनियन और किसान को-ऑडिनेशन समिति समेत अन्य संगठन है.

Mayfair 2-1-2020

इसे भी पढ़ेंः#CAA के समर्थन में  RSS देशभर के कॉलेज-यूनिवर्सिटी में 2000 से ज्यादा सेमिनार का आयोजन करेगा  

उन्होंने कहा कि सिर्फ किसानों की मांग नहीं बल्कि मजदूरों की मांगों को भी इन 22 सूत्री मांगों में शामिल किया गया है. लंबे समय से न्यूनतम समर्थन मूल्य बढ़ाने की मांग की जा रही है. लेकिन मोदी सरकार किसान विरोधी है.

वहीं इनके मुख्य मांग किसानों की कर्ज माफी भी है. भूमि अधिकारों की रक्षा, वन अधिकार कानून 2006 को लागू करने, मनरेगा के तहत ग्रामीण स्तर पर काम बढ़ाने समेत अन्य मांग है. सेंटर ऑफ इंडियन ट्रेड यूनियन के सुनील मुखर्जी ने बताया कि किसानों और मजदूरों के ग्रामीण बंद में सेल्स प्रमोशन के कर्मचारी भी शामिल होंगे.

उन्होंने बताया कि इनकी मांगों में दवा और मेडिकल उपकरण को जीएसटी फ्री, फार्मास्यूटिकल प्रैक्टिस कोड लागू करने समेत अन्य मांग है. उन्होंने कहा कि मोदी सरकार श्रम कानूनों को लगातार मालिक पक्षीय बना रही है.

इसे भी पढ़ेंः#Garhwa: 14वें वित्त आयोग में 27 लाख रुपये की हेराफेरी, मुखिया सहित पांच लोगों पर एफआइआर दर्ज

SP Deoghar

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like