JharkhandLead NewsRanchi

बहुफसलीय खेती की ओर अग्रसर किसान, 50 हजार से अधिक परिवारों को लाभ

Ranchi : राज्य सरकार कृषि आधारित ग्रामीण अर्थव्यवस्था के विकास का लक्ष्य लेकर कार्य कर रही है. जिसका प्रतिफल है कि राज्य के किसान बहुफसलीय खेती की ओर अग्रसर हो रहे हैं. मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने वित्तीय वर्ष 2021-22 के लिए पेश किये गये बजट में कृषि को बढ़ावा देने के लिए कई योजनाएं शुरू की हैं, जो अब परिलक्षित हो रही हैं. इस कार्य में सबसे अधिक योगदान अक्षय ऊर्जा परियोजनाओं का है. यह झारखंड के किसानों के लिए लाभदायक साबित हो रहा है.

सिंचाई के क्षेत्र में सहयोग देने के लिए लिफ्ट सिंचाई प्रणाली उन किसानों को मदद कर रही है, जो डीजल पंप समेत अन्य पारंपरिक संसाधन तथा बोरिंग सिस्टम का खर्च नहीं उठा सकते.

इसे भी पढ़ें :टोल प्लाजा के लिए सड़कों का चयन इस तरह किया जाये कि उसका आम जनता पर बोझ नहीं पड़े : CM

पारंपरिक सिंचाई व्यवस्था को सौर आधारित लिफ्ट सिंचाई से बदला गया

झारखंड के सिर्फ सिमडेगा जिला को लें तो यहां कई हिस्सों में सौर आधारित लिफ्ट सिंचाई प्रणाली लागू की गयी है. सौर आधारित लिफ्ट सिंचाई प्रणाली जिले के हजारों किसानों को सिंचाई सुविधा प्रदान कर रही है और इससे गरीब किसानों का जीवन बदल रहा है.

advt

पहले सिंचाई की सुविधा कम होने के कारण राज्य के किसान वर्ष में सिर्फ एक फसल ही पैदा करते थे. अब सौर-आधारित सिंचाई सुविधा की मदद से किसान एक वर्ष में कई फसलों का विकल्प चुन रहे हैं.

पहले झारखंड के अधिकतर किसान मानसून के दौरान ही खेती करते थे और इसके बाद आजीविका की तलाश में राज्य या देश के अन्य हिस्सों में रोजगार की तलाश में पलायन कर जाते थे. लेकिन, आधुनिक ऊर्जा आधारित सिंचाई प्रणाली की स्थापना के साथ पलायन दर भी कम हो गई है और किसान साल में कई फसलों का उत्पादन कर रहे हैं.

इसे भी पढ़ें :कंगना रनौत का दावा, EMERGENCY फिल्म को मुझसे बेहतर कोई डायरेक्ट नहीं कर सकता

50 हजार से अधिक परिवार योजना से लाभान्वित

इस परियोजना की निगरानी और स्थापना राज्य सरकार की देखरेख में एटीएमए, कृषि प्रौद्योगिकी प्रबंधन एजेंसी द्वारा की गयी. जो नवीनतम तकनीकों को अपनाने के साथ कृषि को बढ़ावा देती है.

परियोजना ने अक्टूबर 2020 में काम करना शुरू कर दिया था. सिर्फ सिमडेगा में 105 से अधिक सौर-आधारित लिफ्ट सिंचाई प्रणाली स्थापित की गयी है.

ग्राम सभा से सिंचाई सुविधा का जाना हाल, फिर शुरू की परियोजना

राज्य के किसान मानसून के दौरान प्रमुख रूप से सक्रिय रहते थे. सरकार ने समस्या का पता लगाने के लिए गहनता से काम किया. राज्यभर में हुई ग्राम सभा के बाद यह स्पष्ट हो गया कि किसान सिंचाई सुविधा की कमी के कारण धान के अलावा किसी अन्य फसल का उत्पादन करने में असमर्थ हैं.

इसके बाद परियोजना को घरातल पर उतारा गया और किसानों ने सौर आधारित लिफ्ट सिंचाई प्रणाली की मदद से साल में दो से तीन फसलों की खेती शुरू कर दी. इससे किसानों की आय में कई गुना वृद्धि हुई है और यह पलायन को रोकने में भी मदद कर रहा है.

इसे भी पढ़ें :ग्राम प्रधान, पड़हा राजा, मानकी मुंडा, डाकुआ, पैनभरा, कोटवार का हो ग्रुप बीमा, मिले पीएफ

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: