न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

किसानों का मार्चः पूर्वी, उत्तरपूर्वी दिल्ली में धारा 144 लागू

भारतीय किसान यूनियन के नेतृत्व में किसानों का दिल्ली मार्च

212

New Delhi: हजारों की संख्या में किसान भारतीय किसान यूनियन के नेतृत्व में दिल्ली कूच कर रहे हैं. हालांकि, हरिद्वार से आ रहे इन किसानों को दिल्ली में दाखिल होने की इजाजत नहीं दी गई है. इसके बावजूद किसान अपनी जिद पर अड़े हैं. किसानों के मार्च को देखते हुए दिल्ली-यूपी बॉर्डर को सील कर दिया गया है. ऐसे में कानून-व्यवस्था की समस्या खड़ी होने की आशंका को देखते हुए पुलिस ने सोमवार को पूर्वी और उत्तरपूर्वी दिल्ली में एक हफ्ते के लिए धारा 144 लागू की गई है. साथ ही बड़ी संख्या में सुरक्षाबल तैनात किए गए हैं.

इसे भी पढ़ेंःIL&FS पर सरकार का ‘कब्जा’, नया बोर्ड गठित

पूर्वी दिल्ली में धारा 144

भारतीय किसान यूनियन के हजारों कार्यकर्ताओं की संख्या को देखते हुए, दिल्ली में कानून-व्यवस्था बनाये रखने की नीयत से इलाके में निषेधाज्ञा लागू कर दी गई है. पूर्वी दिल्ली में पुलिस उपायुक्त (पूर्व) पंकज सिंह ने दंड प्रक्रिया संहिता की धारा 144 के तहत आदेश जारी किया जो आठ अक्टूबर तक प्रभावी रहेगा.

इस आदेश के अंतर्गत प्रीत विहार, जगतपुरी, शकरपुर, मधु विहार, गाजीपुर, मयूर विहार, मंडावली, पांडव नगर, कल्याणपुरी और न्यू अशोक नगर पुलिस थाना क्षेत्र आते हैं. उत्तरपूर्व दिल्ली में निषेधाज्ञा पुलिस उपायुक्त (उत्तरपूर्व) अतुल कुमार ठाकुर की तरफ से जारी की गई और यह चार अक्टूबर तक प्रभावी रहेगी.

दिल्ली पुलिस उत्तर प्रदेश पुलिस के भी संपर्क में है जिससे यह सुनिश्चित हो सके कि प्रदर्शनकारी किसान दिल्ली में प्रवेश न कर सकें. एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने कहा कि उन्होंने प्रदर्शन के लिये दिल्ली पुलिस से कोई इजाजत नहीं मांगी है.

इसे भी पढ़ेंःRPCL ने ठोका 80 करोड़ का दावा, सुप्रीम कोर्ट ने माना कंपनी की थी निगम के साथ मिलीभगत

किसान-मुख्यमंत्री की वार्ता विफल

palamu_12

गाजियाबाद में सोमवार को किसानों को रोका गया. जहां पहले प्रशासन और बाद में सीएम योगी ने इनसे मुलाकात की. लेकिन ये बातचीत बेनतीजा रही. जिलाधिकारी और एसएसपी ने करीब एक घंटे तक किसानों को समझाने की कोशिश की. लेकिन किसान दिल्ली जाने पर अड़े रहे. देर रात प्रशासन और पुलिस के अधिकारियों के साथ किसानों के एक प्रतिनिधिमंडल ने दिल्ली से वापस लौटे उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से हिंडन एयर फोर्स स्टेशन पर मुलाकात की. मुख्यमंत्री और प्रतिनिधिमंडल के बीच करीब दो घंटे चली वार्ता विफल रही और प्रतिनिधिमंडल के लोग प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मिलने की मांग पर अड़े रहे जिस पर मुख्यमंत्री ने केंद्रीय मंत्रियों से बातचीत की.

इसके बाद भारतीय किसान यूनियन का एक प्रतिनिधिमंडल गन्ना मंत्री सुरेश राणा के साथ दिल्ली के लिए रवाना हो गया. वहीं इस मामले पर जिलाधिकारी ऋतु माहेश्वरी का कहना है कि भाकियू का एक प्रतिनिधिमंडल दिल्ली के लिए रवाना हो गया है जहां वह केंद्रीय मंत्रियों के साथ वार्ता करेगा.

इसे भी पढ़ें : 162 IAS में सिर्फ 17 IAS के पास ही राज्य सरकार के सभी काम वाले विभाग, शेष मेन स्ट्रीम से बाहर

23 सितंबर को शुरु हुई थी यात्रा

ज्ञात हो कि कर्जमाफी और बिजली बिल के दाम कम करने जैसी मांगों को लेकर भारतीय किसान यूनियन के नेतृत्व में किसान क्रांति पदयात्रा 23 सितंबर को हरिद्वार से शुरु हुई थी. जिसके बाद पश्चिमी उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर और मेरठ जिलों से गुजरते हुए किसान सोमवार को गाजियाबाद तक पहुंच गए. जहां इन किसानों को रोक दिया गया.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

%d bloggers like this: