न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

किसान खेती के साथ लघु उद्योगों पर भी ध्यान दें तो बन सकते हैं पूंजीपति : पंकज कुमार

लघु उद्योग के लिए हर तरह का हुनर जरूरी

64

Ranchi :  लघु उद्योग ऐसा क्षेत्र है. जिसे समझने से आम जनता पूंजीपति बन सकती है. सही जानकारी नहीं होने के कारण लोग लघु उद्योग से भाग रहे हैं. अगर भारतीय किसान खेती के साथ लघु उद्योगों में ध्यान दें तो वे इससे पूंजीपति बन सकते है. य़े बातें उर्जा दक्षता ब्यूरो के सचिव पंकज कुमार ने कही. वे उर्जा दक्षता ब्यूरो और भारतीय लघु उद्योग विकास बैंक की ओर से आयोजित कार्यशाला में शामिल हुए थे. इस कार्यशाला में उन्होंने कहा कि विश्व बैंक, लघु उद्योग विकास बैंक के साथ मिलकर उर्जा दक्षता में काम कर रहा है. जिसमें उर्जा दक्षता बढ़ाने, उर्जा संरक्षण के साथ ही लघु उद्योगों को बढ़ावा देने पर बल दिया जाएगा. कार्यक्रम का आयोजन होटल ली लैक में किया गया.

राज्य में 3.5 लाख लोग लघु उद्योग से जुड़ें

पंकज कुमार ने जानकारी दी कि झारखंड में 3.5 लाख लोग लघु उद्योग से जुड़े हैं. वहीं 11 नामित उपभोक्ता हैं. इसके संभावनाओं को व्यक्त करते हुए उन्होंने कहा कि 2022 तक राज्य में लगभग छह मिलियन लोग इस उद्योग से जुड़ेंगे. ऐसे में उर्जा की दक्षता बढ़ाने पर विचार करना चाहिए. लघु उद्योगों को सफल बनाने में उर्जा काफी महत्वपूर्ण है.

भविष्य को देखते हुए उर्जा संरक्षण जरूरी

Related Posts

बोकारो : तीन साल में बनना था ढाई किलोमीटर का ओवरब्रिज, साढ़े चार साल में भी अधूरा

डीवीसी बोकारो थर्मल की विलंब से पूरी होनेवाले प्रोजेक्ट (किस्त- 01) : 134 करोड़ का है ओवरब्रिज प्रोजेक्ट

SMILE

वहीं इस कार्यशाला में जेसिया के अजेय पेचरीवाल ने अपने भाषण में कहा कि भविष्य में न सिर्फ लघु उद्योग, बल्कि हर क्षेत्र में विकास के लिए उर्जा जरूरी होगी. बिना उर्जा के किसी भी क्षेत्र में सफलता नहीं मिलेगी. ऐसे में जो उद्योग बस चुके हैं या जो बसेंगे उन्हें इस बात पर ध्यान देने की आवश्यकता है कि उर्जा का संरक्षण हो. साथ ही उन्होंने पर्यावरण संरक्षण पर बल देते हुए कहा कि पर्यावरण संरक्षण काफी जरूरी है.

इस मौके पर हंस राज जैन, अविनो प्रसाद, पवन कुमार गुप्ता, हर्ष प्रसाद बियानी, जेपी नायर समेत अन्य लोग उपस्थित थे.

इसे भी पढ़ें – मिट्टी संग्रह के बहाने आदिवासियों के धार्मिक स्थल को निशाना बना रही है सरकारः आदिवासी संगठन

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
%d bloggers like this: