Lead NewsNationalNEWS

किसान संगठनों का भारत बंद कल, कई राजनीतिक दलों का समर्थन

New Delhi: कृषि कानूनों के खिलाफ जारी आंदोलन को और मजबूती करने के मकसद से किसान संगठनों ने 27 सितंबर को भारत बंद का आह्वान किया है. बंद के समर्थन में देश भर के 40 किसान संगठन संयुक्त किसान मोर्चा की अगुवाई में एकजुट हैं. इस बंद को विभिन्न विपक्षी दलों का भी समर्थन मिल रहा है. सुबह छह बजे से शाम चार बजे तक के लिये बंद का ऐलान किया गया है. जाहिर है विपक्षी दलों ने बंद का समर्थन किया है, इसे ध्यान में रखकर कहा जा सकता है कि जिन राज्यों में विपक्षी दलों की सत्ता है वहां बंद का व्यापक असर दिख सकता है.

इसे भी पढ़ेंःJharkhad Corona Update: तीन दिनों से संक्रमितों की संख्या में वृद्धि, सक्रिय मरीज भी बढ़े

कांग्रेस, माकपा, राकांपा, तृणमूल कांग्रेस समेत कुछ अन्य दलों ने बंद के समर्थन का ऐलान किया है. मालूम हो कि दिल्ली की सीमा पर पिछले दस महीनों से लगातार प्रदर्शन जारी है. भारत बंद सफल रहने के बाद इस आंदोलन को और गति मिल सकता है. पश्चिम बंगाल में तृणमूल कांग्रेस के नेताओं के अलावा माकपा महासचिव सीताराम येचुरी ने भी खुलकर इस बंद में किसान संगठनों के साथ शामिल होने की घोषणा पहले ही कर दी है. बिहार में राजद के प्रमुख नेता तेजस्वी यादव ने बंद के दौरान तीनों कृषि कानून रद कराने के लिए सड़क पर उतरने की घोषणा की है. आंध्र प्रदेश में तेदेपा, दिल्ली में आम आदमी पार्टी, कर्नाटक में जेडीएस, तमिलनाडु में सत्ताधारी द्रमुक जैसे दलों ने भी बंद का समर्थन करने का एलान करते हुए केंद्र सरकार से कृषि कानूनों को वापस लेने की मांग की है. इन राज्यों में बंद का व्यापक असर देखने को मिल सकता है.

advt

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: