न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

रांची का ऐसा परिवार जिसके हर सदस्य को वाजपेयी ने दिया है नाम

अटल जी करेंगे परिवार के लोगों का नामकरण यह बनी परंपरा

1,457

Ranchi : शहर के निवारणपुर स्थित अमरावती कॉलोनी में रहने वाले स्वर्गीय प्रह्लाद राय का परिवार एक ऐसा परिवार है जिसके हर सदस्य का नाम और किसी ने नहीं बल्कि दिवंगत भारत रत्न से सम्मानित अटल बिहारी वाजपेयी ने रखा है. जब भी इस परिवार में किसी भी व्यक्ति का जन्म हुआ, स्वर्गीय प्रह्लाद राय ने तुरंत ही इसकी जानकारी वाजपेयी को पत्र के माध्यम से दी. बाद में वाजपेयी ने अपने जवाब में परिवार के उस सदस्य का नामकरण किया. ऐसे में अटल जी के निधन की खबर से पूरा परिवार काफी मर्माहत और शोकाकुल है. यह बात किसी और ने नहीं बल्कि खुद स्वर्गीय प्रह्लाद राय के पुत्र रवि भट्ट ने न्यूज विंग को बतायी. उन्होंने अपने पिताजी और वाजपेयी के हुए मुलाकात के कुछ लम्हों को न्यूज विंग के संवाददाता से साझा किया. उन्होंने बताया कि उनके परिवार के सभी सदस्यों का नामकरण स्वर्गीय अटल बिहारी वाजपेयी ने ही किया था.

इसे भी पढ़ें- अटल बिहारी वाजपेयी के निधन पर झारखंड में सात दिनों का राजकीय शोक, शुक्रवार को अवकाश

कोई राजनीतिक महत्वाकांक्षा नहीं फिर भी था लगाव

बातचीत में रवि भट्ट ने बताया कि उनके पिताजी भारतीय रेलवे में काम करते थे. इसके बावजूद उनका अटल जी के साथ एक बेहद करीब लगाव रहा था. दरअसल इसके पीछे पिताजी की कोई राजनीतिक महत्वाकांक्षा नहीं, बल्कि एक आत्मीय लगाव था. चूंकि पिताजी भारतीय मजदूर संघ से जुड़े हुए थे, साथ ही संघ के नेशनल एग्जीक्यूटिव कमिटी के सदस्य रहे थे. इस कारण अटल जी के साथ पिताजी की मुलाकात कई बार होती रही. प्रधानमंत्री बनने के पहले जब भी अटल जी रांची आते, पिताजी से उनकी मुलाकात जरूर होती थी. उन्होंने कहा कि स्वर्गीय वाजपेयी और मेरे पिताजी के बीच की दोस्ती काफी घनिष्ट थी. पत्रों के जरिये ही दोनों के बीच भावनाओं का आदान-प्रदान होता रहता था. त्योहार हो या फिर परिवार का कोई खास आयोजन, अटल जी का बधाई संदेश पिताजी को जरूर प्राप्त होता था.

इसे भी पढ़ें- 2012 से 2017 तक झारखंड के 218 NGO का FCRA लाइसेंस रद्द कर चुका है गृह मंत्रालय

अटल जी  करेंगे परिवार के लोगों का नामकरण यह बनी परंपरा

उन्होंने कहा कि उनके घर में जब भी किसी बच्चे का जन्म हुआ, उसका नामकरण अटल जी ने ही किया. बच्चे के जन्म होने के तुरंत बाद पिताजी अटल जी को एक पत्र लिख कर जानकारी देते, और कहते कि संबंधित तारीख को उनके घर पर पोता या पोती हुई है, तो कृपया कर आप ही नामकरण करें. बाद में अटल जी पिताजी को पत्र के माध्यम से नाम बताते थे. जिसके बाद पिताजी परिवार के बच्चों का नाम रखा करते थे. बाद में यही हमारे परिवार की एक परंपरा बन गयी. उन्होंने बताया कि परिवार के लिए इससे बड़ी बात और क्या हो सकती थी कि खुद अपने हाथों से अटल जी पिताजी को पत्र लिखते थे.

इसे भी पढ़ें- राज्य के वरिष्ठ आईएएस का छलका दर्द, कहा- मंत्री गंभीर विषयों को सुनना ही नहीं चाहते

अटल जी के व्यक्तित्व से प्रभावित थे पिताजी

रवि भट्ट ने बताया कि अटल जी के व्यक्तित्व से उनके पिताजी काफी प्रभावित थे. वे हमेशा कहा करते थे कि “अगर भविष्य में कभी भी राजनीति या सामाजिक क्षेत्र में जाना हो, तो अटल जी का ही अनुसरण करना. अटल जी जैसे हैं वैसा ही बनने का प्रयास करना”. हालांकि पिताजी यह भी कहते थे कि अटल जी जैसा बनना तो काफी मुश्किल है, लेकिन अगर अटल जी के बताये नक्शे-कदम पर ही चला जाए वही  काफी है.

इसे भी पढ़ें- अंतिम सफर पर अटल बिहारी वाजपेयी, दिन के एक बजे तक बीजेपी मुख्यालय में अंतिम दर्शन

अटल जी के राजनीति विरासत से सीखे लोग

अटल जी के निधन से काफी विचलित हुए रवि भट्ट ने कहा कि जो भी राजनीतिक विरासत वाजपेयी जी देश के समक्ष छोड़कर गये हैं, उससे हमें काफी कुछ सीखना चाहिए. उनका व्यक्तित्व ऐसा था कि सत्ता पक्ष या विपक्ष, देशी नागरिक हो या विदेशी, सभी उनका सम्मान करते थे. रवि भट्ट के मुताबिक उनके पिता कहा करते थे कि राजनीतिक और सामाजिक जीवन में अटल बिहारी वाजपेयी के आदर्शों पर चलना और उनकी किताबें जरूर पढ़ना. स्वयं वे अपने पिता को अंतिम दिनों में अटल जी की कविताएं और किताबें पढ़कर सुनाया करते थे. इससे उनके पिता को बड़ी शांति मिलती थी.

इसे भी पढ़ें- बढ़ानी है सरकार को स्थापना दिवस की शोभा, इसलिए छात्रों को तीन माह तक नहीं मिलेंगे 21 हजार शिक्षक

अस्वस्थ्य होने के बाद भी अटल जी ने किया इशारा

अटल जी के साथ हुए मुलाकात का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि झारखंड भाजपा की प्रभारी रही अटल जी की भतीजी करुणा शुक्ला के साथ वे करीब तीन साल पहले दिल्ली गये थे. इस दौरान उनका वाजपेयी के घर जाना हुआ. हालांकि वाजपेयी जी उस वक्त अस्वस्थ थे. यहां तक की डॉक्टर ने उनके साथ फोटो लेने से भी मना कर दिया था. जब उन्होंने अटल जी को प्रणाम किया, तो अटल जी ने आंखो से हल्का इशारा कर उन्हें आशीर्वाद दिया. अटल जी के साथ उनकी यह अंतिम मुलाकात थी.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: