Crime NewsGiridihHEALTHJharkhand

इलाज में लापरवाही का आरोप लगाकर परिजनों ने क्लीनिक में की तोड़फोड़

Giridih: बच्चे के इलाज में लापरवाही का आरोप लगाकर परिजनों ने शुक्रवार दोपहर गिरिडीह के शिशु रोग विशेषज्ञ डॉ आर आर केडिया के क्लीनिक में हंगामा और तोड़फोड़ की.

परिजनों का गुस्सा और हंगामा बढ़ते देख चिकित्सक डॉ केडिया के कंपाउडरों ने मामले की जानकारी नगर थाना पुलिस को दिया. इस दौरान पुलिस भी पहुंची.

इसे भी पढ़ें:धनबाद मे वज्रपात से 10 साल के बच्चे की मौत, एक गंभीर

मामले की जानकारी मिलने के बाद डीएसपी संजय राणा भी शहर के बरगंडा के हर्ष प्लाजा स्थित डॉ केडिया के क्लीनिक पहुंचे और मामले को शांत किया और नगर थाना पहुंच कर आवेदन देने को कहा. इस दौरान परिजनों को नगर थाना पुलिस अपने वाहन से लेकर थाना चली गयी.

Sanjeevani

जानकारी के अनुसार सदर प्रखंड के डाड़ीडीह निवासी संजय दास अपने सात माह के बच्चे को लेकर पहले पहर में हर्ष प्लाजा स्थित डॉ आरआर केडिया के क्लिनिक पहुंचा और अपने बच्चे को चिकित्सक से दिखाया भी. चिकित्सक के कहने पर कंपाउडर ने बच्चे को एंटीबोयटिक इंजेक्शन दिया. इसके बाद बच्चे को लेकर उसके परिजन घर लौट गए.

इसे भी पढ़ें:2024 तक 59 लाख हाउस होल्ड तक पहुंच जायेगी नल से जल की सुविधा

करीब ढाई घंटे बाद बच्चे की हालत बिगड़ी तो परिजन उसे लेकर दोबारा क्लिनिक पहुंचे लेकिन बच्चे की मौत तब तक हो चुकी थी. इसके बाद भी चिकित्सक के कहने पर बच्चे को लेकर परिजन शहर के नर्सिंग होम ऑक्सीजन दिलाने ले गए जहां जांच के दौरान बच्चे के मौत की पुष्टि की गयी.

इसके बाद परिजन फिर डॉ केडिया के क्लिनिक पहुंचे और जमकर हंगामा किया. यही नहीं, परिजनों ने क्लिनिक में तोड़-फोड़ भी की.

इधर चिकित्स डॉ आरआर केडिया ने बच्चे के पिता द्वारा लगाए गए आरोपों को गलत बताते हुए कहा कि जब इंजेक्शन क्लिनिक में दिया गया था तो बच्चा पूरी तरह से सुरक्षित था. बच्चे को दो सीरप लिखा गया था.

जिसमें परिजनों ने एक सीरप अच्छे से पिलाया तो बच्चे को कोई नुकसान नहीं हुआ. दूसरा सीरप पिलाने पर बच्चे को तेज हिचकी आने के साथ उल्टी हुई. इसमें चिकित्सक की क्या गलती. बहरहाल, घटना को लेकर मामले की जांच में पुलिस जुटी हुई है.

इसे भी पढ़ें:BIT MESRA : एमटेक के 21 विषयों सहित तीन अन्य कोर्स में एडमिशन का अब भी है मौका

Related Articles

Back to top button