Jamshedpur

रेक से रेल लाइन अनलोड करते समय पैर पर गिरा, तीन रेलकर्मी घायल, गंभीर

बिन सेफ्टी के ही रेलवे लाइन को उतरवाने का किया जा रहा था काम, रेलवे मेंस कांग्रेस नेता सुभाष मजुमदार ने पूछा किसकी है लापरवाही

Ashok kumar

Jamshedpur : चक्रधरपुर रेल मंडल के बांसपानी सेक्शन के जामकुंडिया में रविवार को रेल लाइन को अनलोड करने का काम किया जा रहा था. इस दौरान सेफ्टी का अभाव के कारण रेल लाइन तीन रेल कर्मचारियों के पैर पर गिर गया. इसके तीनों की हालत गंभीर बनी हुई है. सभी को इलाज के लिए टिस्को के नोवामुंडी अस्पताल में भर्ती कराया गया है. घटना के बाद मेंस कांग्रेस के नेता रेल अधिकारियों पर भड़के  हुए हैं और कहा कि यह किसकी लापरवाही है.

Catalyst IAS
ram janam hospital

घायल रेलकर्मी हैं ट्रैकमैन

The Royal’s
Pitambara
Pushpanjali
Sanjeevani

घटना में घायल रेल कर्मचारियों में ट्रैकमैन जगन्नाथ बेहरा, बुधराम लागुरी और एक अन्य रेल कर्मचारी शामिल है. सभी घायलों को देखने के लिए मेंस कांग्रेस के डंगुवापोसी शाखा सचिव सुभाष मजुमदार नोवामुंडी अस्पताल पहुंचे और उनका हाल जाना.

रेल अधिकारी भी नहीं थे मौजूद

रेल लाइन जब अनलोड करने का काम रेक से किया जाता है तब नियमतः एडीइएन की मौजूदगी आवश्यक होता है, लेकिन वे भी मौके पर मौजूद नहीं थे. पैनल को रेल कर्मचारी बिन सेफ्टी के ही अनलोड कर रहे थे. बल्कि यूं कहा जाए कि उनकी सेफ्टी के लिए रेलवे की ओर से कुछ उपलब्ध ही नहीं कराया गया था.

तीनों के पैर हो गये हैं क्षतिग्रस्त

घायल तीनों रेल कर्मचारियों का पैर क्षतिग्रस्त हो गया है. उनके पैर तो बिल्कुल ही काम नहीं कर रहे हैं. घायलों में दो की हालत बेहद नाजुक बनी हुई है. समाचार लिखे जाने तक रेल मंडल का कोई भी वरीय अधिकारी घायल रेल कर्मचारियों की सुधि  लेने नहीं पहुंचे थे.

दो साल पहले भी घटी थी घटना

दो साल पहले की बात करें तो डंगुवापोसी में ठीक इसी तरह की घटना घटी थी. तब भी रेलवे के नेताओं ने सेफ्टी का मुद्दा उठाया था. आज जामकुंडिया में घटना घटने के बाद फिर से वे उसी मांग को उठा रहे हैं.

रेल कर्मचारियों के साथ खिलवाड़ : सुभाष मजुमदार

मेंस कांग्रेस के शाखा सचिव सुभाष मजुमदार ने कहा कि किसी भी रेक का पैनल अनलोड करते समय नियमतः सेफ्टी का पूरा ख्याल रखा जाना चाहिए. बिन सेफ्टी और संबंधित रेल अधिकारियों की गैर मौजूदगी में सारा कार्य कराया जा रहा था. ऐसा करके रेल कर्मचारियों के साथ अधिकारी खिलवाड़ कर रहे हैं. रेल कर्मचारियों की जान की कीमत कुछ नहीं है.

इसे भी पढ़ें- भिक्षाटन करने वालों को भी बदमाशों ने नहीं बख्शा, 750 रुपये लूटे, विरोध करने पर मारकर किया घायल

Related Articles

Back to top button