Crime NewsLead NewsNational

2000 से अधिक लोगों को लगा दी फेक वैक्सीनेशन, अब तक 8 लोगों को किया गया गिरफ्तार

नौ फर्जी शिविरों का आयोजन कर किया गया फेक वैक्सीनेशन

Mumbai : मुंबई के कांदिवली हीरानंदानी फर्जी वैक्सीनेशन मामले में कांदिवली पुलिस ने दो और लोगों को गिरफ्तार किया है. चारकोप में स्थित शिवम हॉस्पिटल के दो स्टाफ को गिरफ्तार किया गया है. शिवराज और नीता पठारिया नाम के दो आरोपियों को पुलिस ने गिरफ्तार किया है. इस बीच सरकार ने हाई कोर्ट में माना है कि अब तक करीब 2 हजार लोगों को नकली वैक्सीन लग चुकी है.

महाराष्ट्र सरकार ने बॉम्बे हाई कोर्ट को बताया कि अब तक करीब 2 हजार लोग फेक वैक्सीनेशन का शिकार हो चुके हैं. शहर में अब तक कम से कम नौ फर्जी शिविरों का आयोजन किया गया और इस सिलसिले में चार अलग-अलग केस दर्ज किए गए हैं. अब हाईकोर्ट ने इस मामले को लेकर राज्य सरकार और BMC को नई गाइडलाइन जारी करने को कहा है.

इसे भी पढ़ें :5 जुलाई को राजद का 25वां स्थापना दिवस, कार्यकर्ताओं को संबोधित करेंगे लालू प्रसाद, तैयारी शुरू

बोरिवली में 514 लोगों को लगाई फेक वैक्सीन

महाराष्ट्र सरकार के मुताबिक, 25 मई को मलाड में 30 लोगों को फर्जी वैक्सीन लगाई गई. अगले दो दिन बाद ठाणे में 122 और फिर बोरिवली में 514 लोगों को वैक्सीन की डोज़ लगाई गई. BMC के वकील अनिल साखरे ने बताया कि जिस दिन लोगों को फर्जी टीका लगाए गए, उसके कुछ दिन बाद में तीन अलग-अलग अस्पतालों के नाम पर प्रमाण-पत्र जारी किए गए.

इसे भी पढ़ें :छेड़छाड़ से रोका तो मनचले ने भरे बाजार में महिला सिपाही को पीटा, वर्दी भी फाड़ी

400 गवाहों के बयान दर्ज किए गये

महाराष्ट्र सरकार ने बताया कि पुलिस ने अब तक 400 गवाहों के बयान दर्ज किए हैं और अभी तक 8 लोगों को गिरफ्तार किया जा चुका है. इस पर हाई कोर्ट ने कहा कि राज्य सरकार और निगम अधिकारियों को इस बीच पीड़ितों में फर्जी टीकों के दुष्प्रभाव का पता लगाने के लिए उनकी जांच करवाने के लिए कदम उठाने चाहिए.

कोर्ट ने टीका लगवानेवालों की चिंता जताई

बॉम्बे हाई कोर्ट ने कहा, ‘हमारी चिंता इस बात को लेकर है कि टीका लगवाने वाले इन लोगों के साथ क्या हो रहा है. उन्हें क्या लगाया गया और फर्जी टीके का क्या असर पड़ा?’ इस मामले में सुनवाई की अगली तारीख 29 जून तय की गई है. तब तक महाराष्ट्र सरकार और बीएमसी को अपना जवाब दाखिल करना है.

इसे भी पढ़ें :vaccination in Jharkhand : स्टॉक में वैक्सीन नहीं, रोजाना ढाई लाख वैक्सीनेशन का निर्देश

Related Articles

Back to top button