न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

सीएम के सीधी बात कार्यक्रम में व्यवस्था की खुली पोलः शिकायतकर्ता ने कहा- कितना जूता टूट गया, नहीं हुआ भुगतान

'अफसरों ने बहाना बनाते-बनाते बना दी मोटी फाइल, फिर भी कहते हैं कार्रवाई कर रहे हैं'

1,006

Ranchi: सूचना भवन में मंगलवार को सीएम के सीधी बात कार्यक्रम में सरकारी व्यवस्था की पोल खुली. कई ऐसे मामले आये जिसमें शिकायतकर्ता को अपने हक के लिए कोर्ट का चक्कर लगाना पड़ा. सीएम ने कुल 16 मामलों को सुना. इसी क्रम में एक शिकायतकर्ता अरूण कुमार सिंह ने कहा कि वित्तीय वर्ष 2013-14 और 2014-15 में पेयजल विभाग में आउट सोर्सिंग से मरम्मत का काम कराया. पांच साल से 5.13 लाख रुपये का भुगतान नहीं हुआ. शिकायतकर्ता ने कहा कि सर कितने जूते टूट गये. अफसरों ने बहाना बनाते-बनाते फाइल मोटी कर दी. फिर भी कह रहे हैं कि कार्रवाई कर रहे हैं. इस पर सीएम ने रांची नगर निगम के आयुक्त मनोज कुमार को पैसा देने के लिये कहा.

इसी तरह एक अन्य मामले में बोकारो के गणेश कुमार ने कहा कि 18 साल से पारिश्रमिक का भुगतान नहीं हुआ. मानव शास्त्र से ग्रेजुएट हूं. दौड़ा-दौड़ा कर मानसिक और शारीरिक स्थिति को खराब कर दिया गया. इस पर बोकारो डीसी ने कहा कि एक सप्ताह में 53 हजार रुपये का भुगतान कर दिया जायेगा. इस पर गणेश कुमार ने कहा कि वर्तमान दर से भुगतान किया जाये. सीएम ने कहा कि जिस समय जो रेट था, उसी दर से भुगतान होगा.

सुनील वर्णवाल ने वितरण निगम के एमडी को घेरा

वहीं रामगढ़ के असिस्टेंट इंजीनियर ब्रजमोहन प्रसाद ने कहा कि 31 जनवरी 2018 को रिटायर हुए, लेकिन अब तक उन्हें पेंशन नहीं मिला. इस पर झारखंड राज्य बिजली वितरण निगम के एमडी राहुल पुरवार ने कहा कि पुराने मामलों में थोड़ी देरी होती है. इस पर सीएम के प्रधान सचिव सुनील वर्णवाल ने कहा कि यह तो पुराना मामला नहीं है. 2018 का मामला है. वैसे भी रिटायरमेंट के दो साल पहले से ही पेंशन मामले में कार्रवाई होनी चाहिए. वहीं सीएम ने भी कहा रिटायरमेंट बेनिफिट जल्द दें.

इधर एक दूसरे शिकायतकर्ता पलामू के विवेकानंद त्रिपाठी ने मेदनीनगर के वार्ड नंबर 18 में पेयजलापूर्ति के मामले को रखा. इस पर सीएम ने डीसी को इंटायड फंड से निर्माण कराने की बात कही. लातेहार के कमलेश कुमार गुप्ता और अमलेश कुमार गुप्ता के मानदेय भुगतान सात दिनों के अंदर करने की बात कही गई. विंदा प्रसाद सिन्हा का भी बकाया भुगतान दो दिन के अंदर करने को कहा गया.

पेड़ के नीचे इलाज करने की शिकायत

चतरा के जीतेंद्र रजक ने कहा कि उपस्वास्थ्य केंद्र का भवन जर्जर हो गया है. पेड़ के नीचे इलाज होता है. इस पर चतरा डीसी ने कहा कि पुराने भवन को जोड़कर नये भवन का निर्माण किया जा रहा है. चार माह में भवन निर्माण कार्य पूरा हो जायेगा. फिलहाल मरीजों का इलाज पंचायत भवन में हो रहा है. इधर धनबाद के वैद्यनाथ प्रसाद ने कहा कि लूतीपहाड़ी औरुरायडीह के लगभग 40 किसानों को नुकसान हुआ. मुआवजा नहीं मिला. इस पर धनबाद डीसी ने कहा कि एक सप्ताह में मुआवजा मिल जायेगा. किसानों की सूची तैयार कर ली गई है.

जामताड़ा के मनोज मंडल ने द मिशन हॉस्पीटल दुर्गापुर में आयुष्मान भारत के तहत इलाज नहीं होने की बात कही. इस पर सीएम के सचिव ने कहा कि वेल्लोर और दुर्गापुर आयुष्मान भारत से अटैच नहीं है. इस पर सीएम ने कहा कि आवंटन दिया जाये. दुर्गापुर हॉस्पीटल में पेमेंट कर दिया जायेगा. बोकारो की शिप्रा प्रसाद ने कहा कि बोकारो स्टील सिटी कॉलेज में पति द्वारा कराये गये काम का भुगतान नहीं हुआ है. इस पर भी दो दिन के अंदर भुगतान करने की बात कही गई.

जमीन ले ली, फिर भी नहीं दिया मुआवजा

दुमका के राम कोल ने कहा कि 2004 में एक बीघा 18 कट्ठा जमीन स्कूल के लिए ली गयी. उस समय कहा गया था कि नौकरी और मुआवजा दिया जायेगा. लेकिन अब तक कोई कार्रवाई नहीं हुई. इस पर दुमका डीसी मुकेश कुमार ने कहा कि लिखित साक्ष्य दें तो इस पर आगे की कार्रवाई की जायेगी. फिलहाल इस जमीन पर कल्याण विभाग द्वारा स्कूल का संचालन हो रहा है.

सीएम के प्रधान सचिव ने कहा कि अधिकांश अनुकंपा और जमीन से जुड़े मामले आ रहे हैं. अब तक 3.18 लाख शिकायतों का निपटारा हो चुका है. कार्यक्रम के अंत में सीएम ने पीरटांड़ के कुम्हरलालो पंचायत के ग्रामीणों से बात की.

इसे भी पढ़ेंः कठौतिया कोल माइंस मामले में दायर एसएलपी स्वीकृत, जुलाई में होगी सुनवाई, आईएएस पूजा सिंघल समेत 13 हैं…

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Comments are closed.

%d bloggers like this: