न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें
bharat_electronics

नक्सलियों तक पहुंचाये जा रहे पत्थर खनन में उपयोग होने वाले विस्फोटक

719

Ranchi: झारखंड में नियम को ताक पर रख पत्थरों का अवैध खनन किया जा रहा है. पत्थरों को तोड़ने के लिए भारी मात्रा में अवैध विस्फोटकों का इस्तेमाल होता है.

eidbanner

लेकिन खबर है कि इन विस्फोटकों को अब नक्सलियों तक पहुंचाया जा रहा हैं. झारखंड में अवैध विस्फोटक का कारोबार सबसे अधिक पाकुड़ जिले में हो रहा है.

इसे भी पढ़ेंःझारखंडः तो क्या तमाम व्यवस्था डिरेल हो गयी है मुख्यमंत्री जी

नक्सलियों की मिलीभगत से हो रहा अवैध खनन का कारोबार

जानकारी के अनुसार, झारखंड के कई नक्सल प्रभावित क्षेत्रों में नक्सलियों की मिलीभगत से पत्थर कारोबारी अवैध पत्थर का कारोबार भी कर रहे हैं.

इसके लिए कारोबारी अवैध विस्फोटकों का इस्तेमाल कर रहे हैं. और यह विस्फोटक नक्सलियों तक भी पहुंचाए जा रहे हैं. मिली जानकारी के अनुसार, झारखंड में पत्थर कारोबारी बिना किसी डर के विस्फोटकों की कालाबाजारी कर रहे है. इस कालाबाजारी को सबसे ज्यादा क्रशर संचालक अंजाम दे रहे हैं.

विस्फोटक की कालाबाजारी

जानकारी के अनुसार, झारखंड में खुलेआम विस्फोटकों की कालाबाजारी होती है. लाइसेंस के अभाव में क्रशर संचालक गैरकानूनी रूप से विस्फोटकों की खरीददारी कर पत्थर की खुदाई करते हैं.

इसे भी पढ़ेंःIFS संजय कुमार और राजीव लोचन बख्शी पर वित्तीय अनियमितता के आरोप की जांच हो या न हो मंतव्य नहीं दे रहा वन विभाग

वहीं जिन्हें विस्फोटक खरीदने का लाइसेंस है वह अपने लाइसेंस पर लिए गए विस्फोटक की कालाबाजारी करते हैं. कालाबाजारी के इस खेल में वन विभाग, खनन विभाग व पुलिस विभाग के अधिकारियों की भूमिका से इनकार नहीं किया जा सकता है.

Related Posts

डॉ अजय कुमार के नेतृत्व में ही कांग्रेस लड़ेगी झारखंड विधानसभा चुनाव

बगावती सुर के खिलाफ सभी जिलाध्यक्षों से मांगी गयी रिपोर्ट

अधिवक्ता सहित तीन हुए थे गिरफ्तार

पिछले सप्ताह नक्सलियों को विस्फोटकों पहुंचाते हुए अभियंता सहित हार्डकोर नक्सली रूपेश को गया पुलिस ने गिरफ्तार किया था. नक्सली रुपेश ने पूछताछ में स्वीकार किया कि आसपास के कई राज्यों में नक्सलियों को विस्फोटक की आपूर्ति करता था.

इससे पहले भी तीन खेप आपूर्ति कर चुका है. वह जिस टीम का सदस्य है, उसका काम विस्फोटकों की आपूर्ति करना है. इससे पहले दो दिनों तक अधिवक्ता की तलाश में रामगढ़ पुलिस हलकान रही.

अधिवक्ता मिथिलेश सिंह व रूपेश कुमार नईसराय निवासी नीरज वर्णवाल की कार किराये पर लेकर रामगढ़ से गया जिले के नक्सल प्रभावित क्षेत्र चमराबंदा इलाके में जा रहे थे.

हाल के महीने में बरामद हुए विस्फोटक

26 नवंबर 2018- रांची जिले के तुपुदाना ओपी क्षेत्र के ढूंढीगढ़ा से भारी मात्रा में विस्फोटक बरामद किया गया था. वहीं,एक आरोपित को गिरफ्तार किया गया था.

9 मार्च 2019- बोकारो में वाहन चेकिंग के दौरान एक गाड़ी से भारी मात्रा में विस्फोटक बरामद हुए थे. चालक समेत दो लोगों को गिरफ्तार कर लिया गया था. पुलिस के मुताबिक, गाड़ी से पांच हजार इलेक्ट्रिक डेटोनेटर और 48 सौ जिलेटिन पावर जेल बरामद किये गये थे.

20 अप्रैल 2019- पाकुड़ जिले के पाकुड़िया थाना क्षेत्र के डोमनगढ़िया गांव के पास रात में भारी मात्रा में विस्फोटक पकड़ा गया.

इसे भी पढ़ेंःशर्मनाकः GRP की पत्रकार के साथ बबर्रता, कपड़े उतार पीटा फिर चेहरे पर किया पेशाब

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

dav_add
You might also like
addionm
%d bloggers like this: