न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

सीएस आवास में विस्फोटक बरामदगी मामला : निजी क्लीनिक का संचालक निकला मास्टरमाइंड

 डॉक्टर ने सीएस को बदनाम करने की रची थी साजिश

632

Giridih : गिरिडीह सिविल सर्जन डॉ रामरेखा प्रसाद के निजी आवास में पिछले दिनों विस्फोटक की बरामदगी मामले का उद्भेदन गिरिडीह पुलिस ने कर लिया है. गिरिडीह एसपी सुरेन्द्र कुमार झा ने रविवार को प्रेस वार्ता में इसकी जानकारी दी. इस पूरे मामले में मुख्य साजिशकर्ता के रूप में शहर के एक स्थानीय क्लीनिक के संचालक डॉ बर्नवास हेम्ब्रम का नाम सामने आया है. इस साजिश को अमलीजामा पहनाने में सहयोग करने वाले दो दोषियों जितेन्द्र तांती और ऋषभ जैन को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है.

इसे भी पढ़ेंः रिम्स के सुरक्षाकर्मी मरीजों को बरगला कर निजी अस्पतालों में कराते हैं डायवर्ट

डॉक्टर ने 60 हजार रुपये में की थी डील

एसपी सुरेन्द्र कुमार झा ने बताया कि सीएस डॉ रामरेखा प्रसाद ने अपने आवास में विस्फोटक मिलने के बाद इसे फंसाने की साजिश बताते हुए थाने में शिकायत दर्ज की थी. उसी आधार पर पुलिस ने अनुसंधान को आगे बढ़ाते हुए छानबीन की और जांच के बाद इस मामले का उद्भेन किया गया. उन्होंने बताया कि पिछले 9 अगस्त को जिस दो मोबाइल नंबर से एसडीएम के पास सीएस आवास में विस्फोटक होने की सूचना आई थी, उसे ट्रेस करने पर मालूम चला कि उक्त नंबर स्थानीय दर्जी मुहल्ला के अरमान अंसारी और महेशलुंडी के राजेश रजक के नाम से दर्ज है.

उनसे पूछताछ पर उन्होंने बताया कि उक्त नंबर का सिम उनके पास नहीं है. लेकिन वे सिम खरीदने बस स्टेण्ड में सिम बेचने वाले ऋषभ जैन और राजा के पास गए थे. अनुसंधान से पता चला कि उक्त सिम कार्ड ऋषभ जैन ने ही निर्गत किए थे. ऋषभ ने पुलिस को बताया कि उसने धोखे से अरमान और राजेश के आईडी पर दो सिम ले लिया और उसे 200 रुपये में जितेन्द्र तांती को बेच दिया. ऋषभ के बयान पर जितेन्द्र तांती को पकड़ा गया.

जितेन्द्र ने अपना गुनाह स्वीकार करते हुए पुलिस को बताया कि उसने ऋषभ से सिम लिया और डॉ बर्नवास हेम्ब्रम के कहने पर अपने दोस्त हमीद उर्फ छोटू और एक साथी के साथ मिलकर सिविल सर्जन के निजी आवास में डेटोनेटर रख दिया. जितेन्द्र ने पुलिस को यह भी बताया कि इस काम के लिए डॉ बर्नवास हेम्ब्रम ने उसे अलग-अलग किश्तों में कुल 60 हजार रुपये दिए हैं. उसने पुलिस को बताया कि पूछने पर डॉ हेम्ब्रम ने बताया कि सिविल सर्जन उन्हें क्लीनिक नहीं चलाने देते हैं. हमेशा तंग करते हैं और हर माह एक लाख रुपए रिश्वत की मांग करते हैं. इसी कारण उन्हें यह कदम उठाना पड़ रहा है, ताकि सीएस केस में फंसकर गिरिडीह छोड़कर भाग जाए.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें
स्वंतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता का संकट लगातार गहराता जा रहा है. भारत के लोकतंत्र के लिए यह एक गंभीर और खतरनाक स्थिति है.इस हालात ने पत्रकारों और पाठकों के महत्व को लगातार कम किया है और कारपोरेट तथा सत्ता संस्थानों के हितों को ज्यादा मजबूत बना दिया है. मीडिया संथानों पर या तो मालिकों, किसी पार्टी या नेता या विज्ञापनदाताओं का वर्चस्व हो गया है. इस दौर में जनसरोकार के सवाल ओझल हो गए हैं और प्रायोजित या पेड या फेक न्यूज का असर गहरा गया है. कारपोरेट, विज्ञानपदाताओं और सरकारों पर बढ़ती निर्भरता के कारण मीडिया की स्वायत्त निर्णय लेने की स्वतंत्रता खत्म सी हो गयी है.न्यूजविंग इस चुनौतीपूर्ण दौर में सरोकार की पत्रकारिता पूरी स्वायत्तता के साथ कर रहा है. लेकिन इसके लिए जरूरी है कि इसमें आप सब का सक्रिय सहभाग और सहयोग हो ताकि बाजार की ताकतों के दबाव का मुकाबला किया जाए और पत्रकारिता के मूल्यों की रक्षा करते हुए जनहित के सवालों पर किसी तरह का समझौता नहीं किया जाए. हमने पिछले डेढ़ साल में बिना दबाव में आए पत्रकारिता के मूल्यों को जीवित रखा है. इसे मजबूत करने के लिए हमने तय किया है कि विज्ञापनों पर हमारी निभर्रता किसी भी हालत में 20 प्रतिशत से ज्यादा नहीं हो. इस अभियान को मजबूत करने के लिए हमें आपसे आर्थिक सहयोग की जरूरत होगी. हमें पूरा भरोसा है कि पत्रकारिता के इस प्रयोग में आप हमें खुल कर मदद करेंगे. हमें न्यूयनतम 10 रुपए और अधिकतम 5000 रुपए से आप सहयोग दें. हमारा वादा है कि हम आपके विश्वास पर खरा साबित होंगे और दबावों के इस दौर में पत्रकारिता के जनहितस्वर को बुलंद रखेंगे.

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Open

Close
%d bloggers like this: