न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

सीएस आवास में विस्फोटक बरामदगी मामला : निजी क्लीनिक का संचालक निकला मास्टरमाइंड

 डॉक्टर ने सीएस को बदनाम करने की रची थी साजिश

658

Giridih : गिरिडीह सिविल सर्जन डॉ रामरेखा प्रसाद के निजी आवास में पिछले दिनों विस्फोटक की बरामदगी मामले का उद्भेदन गिरिडीह पुलिस ने कर लिया है. गिरिडीह एसपी सुरेन्द्र कुमार झा ने रविवार को प्रेस वार्ता में इसकी जानकारी दी. इस पूरे मामले में मुख्य साजिशकर्ता के रूप में शहर के एक स्थानीय क्लीनिक के संचालक डॉ बर्नवास हेम्ब्रम का नाम सामने आया है. इस साजिश को अमलीजामा पहनाने में सहयोग करने वाले दो दोषियों जितेन्द्र तांती और ऋषभ जैन को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है.

mi banner add

इसे भी पढ़ेंः रिम्स के सुरक्षाकर्मी मरीजों को बरगला कर निजी अस्पतालों में कराते हैं डायवर्ट

डॉक्टर ने 60 हजार रुपये में की थी डील

एसपी सुरेन्द्र कुमार झा ने बताया कि सीएस डॉ रामरेखा प्रसाद ने अपने आवास में विस्फोटक मिलने के बाद इसे फंसाने की साजिश बताते हुए थाने में शिकायत दर्ज की थी. उसी आधार पर पुलिस ने अनुसंधान को आगे बढ़ाते हुए छानबीन की और जांच के बाद इस मामले का उद्भेन किया गया. उन्होंने बताया कि पिछले 9 अगस्त को जिस दो मोबाइल नंबर से एसडीएम के पास सीएस आवास में विस्फोटक होने की सूचना आई थी, उसे ट्रेस करने पर मालूम चला कि उक्त नंबर स्थानीय दर्जी मुहल्ला के अरमान अंसारी और महेशलुंडी के राजेश रजक के नाम से दर्ज है.

Related Posts

शिक्षा विभाग के दलालों पर महीने भर में कार्रवाई नहीं हुई तो आमरण अनशन करूंगा : परमार

सैकड़ो अभिभावक पांच सूत्री मांगों को लेकर शनिवार को रणधीर बर्मा चौक पर एक दिवसीय भूख हड़ताल पर बैठे

उनसे पूछताछ पर उन्होंने बताया कि उक्त नंबर का सिम उनके पास नहीं है. लेकिन वे सिम खरीदने बस स्टेण्ड में सिम बेचने वाले ऋषभ जैन और राजा के पास गए थे. अनुसंधान से पता चला कि उक्त सिम कार्ड ऋषभ जैन ने ही निर्गत किए थे. ऋषभ ने पुलिस को बताया कि उसने धोखे से अरमान और राजेश के आईडी पर दो सिम ले लिया और उसे 200 रुपये में जितेन्द्र तांती को बेच दिया. ऋषभ के बयान पर जितेन्द्र तांती को पकड़ा गया.

जितेन्द्र ने अपना गुनाह स्वीकार करते हुए पुलिस को बताया कि उसने ऋषभ से सिम लिया और डॉ बर्नवास हेम्ब्रम के कहने पर अपने दोस्त हमीद उर्फ छोटू और एक साथी के साथ मिलकर सिविल सर्जन के निजी आवास में डेटोनेटर रख दिया. जितेन्द्र ने पुलिस को यह भी बताया कि इस काम के लिए डॉ बर्नवास हेम्ब्रम ने उसे अलग-अलग किश्तों में कुल 60 हजार रुपये दिए हैं. उसने पुलिस को बताया कि पूछने पर डॉ हेम्ब्रम ने बताया कि सिविल सर्जन उन्हें क्लीनिक नहीं चलाने देते हैं. हमेशा तंग करते हैं और हर माह एक लाख रुपए रिश्वत की मांग करते हैं. इसी कारण उन्हें यह कदम उठाना पड़ रहा है, ताकि सीएस केस में फंसकर गिरिडीह छोड़कर भाग जाए.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
%d bloggers like this: