न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

एग्जिट पोल ने बढ़ाई सीएम नीतीश कुमार की परेशानी, बीजेपी नेता की मांग- पार्टी का हो मुख्यमंत्री

1,562

Patna: लगभग हर एग्जिट पोल में एनडीए को बहुमत मिलता दिख रहा है. इस बात से राजग खेमा जहां उत्साहित नजर आ रहा है. वहीं इस एग्जिट पोल ने नीतीश कुमार के लिए मुसीबत खड़ी कर दी है.

दरअसल, पोल बिहार में विधानसभा चुनावी नतीजों से इतर बीजेपी मजबूती के साथ वापसी कर रही है. एग्जिट पोल के अनुसार बिहार में भाजपा के क्लीन स्वीप की बात कही गई है. और 38 सीटें एनडीए के जीतने का अनुमान जताया जा रहा है.

लेकिन इन अनुमानों ने राज्य के मुखिया नीतीश कुमार का सिरदर्दी बढ़ा दिया है. प्रदेश में बीजेपी का सीएम होने की मांग शुरू होने लगी है.

इसे भी पढ़ेंःईवीएम-वीवीपैट से 100 फीसदी पर्ची मिलान वाली याचिका सुप्रीम कोर्ट ने की खारिज

बीजेपी का हो सीएम-सच्चिदानंद

दरअसल, बिहार के एमएलसी सच्चिदानंद राय उन नेताओं में शामिल हैं जिनका कहना है कि यदि वोट नरेंद्र मोदी के नाम पर मांगे गए हैं तो राज्य में नीतीश के स्थान पर भाजपा का मुख्यमंत्री क्यों नहीं होना चाहिए.

सच्चिदानंद राय की मानें तो बिहार में जीतन राम मांझी, उपेंद्र कुशवाहा जैसे नेता नीतीश कुमार के कारण ही एनडीए को छोड़ कर गए हैं. टेलीग्राफ के अनुसार, नीतीश कुमार के समर्थकों ने ही भाजपा और जदयू के बिहार में बराबर 17-17 सीटों पर चुनाव लड़ने की बात कही थी.

Related Posts

बोकारो अस्पताल के डॉक्टर्स का कमाल : नसबंदी के 10 साल बाद भी दंपत्ति को दिला दी संतान

- बोकारो जनरल अस्पताल के विख्यात रिकंस्ट्रक्टिव सर्जन अनिंदो मंडल की टीम ने 3:30 घंटे माइक्रोस्कोपिक सर्जरी कर बाल जैसी पतली नसों को जोड़ वापस वीर्य क्षमता प्रदान की.

SMILE

राय ने यह भी कहा, ‘पार्टी के विधायकों की संख्या के आधार पर कैबिनेट में भाजपा के मंत्रियों की संख्या तय है. लेकिन इस फॉमूले को सीटों के बंटवारे के समय नहीं माना गया. 2014 में जदयू के पास 2 सीट थी, जबकि बीजेपी के पास 22 सीटें थीं. इसके बावजूद दोनों दलों ने 17-17 सीटों पर चुनाव लड़ा. नीतीश लगातार भाजपा की महत्वपूर्ण नीतियों पर सवाल उठाते रहे चाहे वह अनुच्छेद 370 हो, समान नागरिक संहिता हो या राम मंदिर का मुद्दा हो.’

इसे भी पढ़ेंःचुनावी नतीजों से पहले ईवीएम पर बहस शुरू, निर्वाचन आयोग जायेंगे विपक्ष के नेता

ये सच्चिदानंद की निजी राय- नित्यानंद

हालांकि, एमएलसी सच्चिदानंद राय की बातों को राज्य भाजपा अध्यक्ष नित्यानंद राय और अन्य पार्टी नेताओं ने ज्यादा तरजीह नहीं देने की बात कही है. प्रदेश अध्यक्ष ने इसे सच्चिदानंद राय की व्यक्तिगत राय बताई है.

इधर एग्जिट पोल के बाद भाजपा के अध्यक्ष अमित शाह ने जदयू के प्रदेशाध्यक्ष और बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार, लोजपा प्रमुख राम विलास पासवान को गठबंधन के सहयोगियों के साथ आज डिनर पर आमंत्रित किया है.

इसे भी पढ़ेंःगिरिडीह : मातृत्व शिशु स्वास्थ्य इकाई में दो नवजात की मौत, हंगामा व तोड़फोड़

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
%d bloggers like this: