न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

  ईवीएम-वीवीपैट प्रणाली में छेड़छाड़ संभव नहीं,  चुनाव आयोग संदेह दूर करे : पूर्व मुख्य चुनाव आयुक्त

चुनाव आयोग को विपक्ष और लोगों को समझाकर उसके बारे में संदेह को दूर चाहिए.

58

Bengaluru : पूर्व मुख्य चुनाव आयुक्त एसवाई कुरैशी ने शनिवार को कहा कि ईवीएम और वीवीपैट प्रणाली में छेड़छाड़ की कोई संभावना नहीं है, लेकिन चुनाव आयोग को विपक्ष और लोगों को समझाकर उसके बारे में संदेह को दूर चाहिए. बता दें कि हाल के लोकसभा चुनाव में विपक्ष ने आरोप लगाया था कि इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन (ईवीएम) और वीवीपैट (वोटर वेरिफाइड पेपर ट्रेल मशीन) से छेड़छाड़ की जा रही है. हालांकि चुनाव आयोग ने आरोपों को खारिज कर दिया था.

छेड़छाड़ के आरोपों के बारे में टिप्पणी पूछे जाने पर कुरैशी ने कहा, ईवीएम या वीवीपैट प्रणाली में छेड़छाड़ की कोई संभावना नहीं है. मशीन अलग आंकड़े नहीं दिखा सकती. उन्होंने कहा, प्रत्येक बार आप बटन दबायेंगे, उसमें एक ही आंकड़ा होगा. मैं आरोप समझ भी नहीं पा रहा. यद्यपि चुनाव आयोग को विपक्ष और लोगों को यह समझाना चाहिए कि प्रणाली पुख्ता है. हमें लोगों को साथ लेना होगा. उन्होंने डिजिटल मीडिया कंपनी डाटालीड की वेबसाइट शुरू होने के मौके पर कहा कि लोगों का विश्वास बरकरार रखना होगा और उसे जीतना होगा.

इसे भी पढ़ें – इस्लामाबाद  : भारतीय उच्चायोग की इफ्तार पार्टी में आये मेहमानों के साथ पाक अधिकारियों  की बदसलूकी  

ईवीएम में छेड़छाड़ नहीं हो सकती क्योंकि कई जांचें होती हैं

कुरैशी ने कहा किअभी तक कोई भी यह साबित नहीं कर पाया है कि इससे छेड़छाड़ हो सकती है और वीवीपैट शुरू होने के बाद छेड़छाड़ की कोई भी आशंका पूरी तरह से समाप्त हो जानी चाहिए. मतपत्र प्रणाली की ओर वापस लौटने की विपक्ष की मांग पर कुरैशी ने कहा कि ईवीएम समाप्त करने की बजाय, इन मशीनों में सुधार की संभावना तलाशी जानी चाहिए. उन्होंने कहा, मतपत्र की ओर वापस लौटने का कोई सवाल नहीं है. हम वीवीपैट और ईवीएम प्रणाली में सुधार करते रहे हैं. यदि और सुधार की जरूरत होगी, उसे देखा जाना चाहिए

23 मई को मतगणना से दो दिन पहले ईवीएम में कथित छेड़छाड़ को लेकर एक राजनीतिक विवाद उत्पन्न हो गया था. SC ने पिछले महीने 21 राजनीतिक दलों की ओर से दायर एक अर्जी को खारिज कर दिया था. इस अर्जी में उससे आठ अप्रैल के उस आदेश की समीक्षा का अनुरोध किया गया था, जिसमें चुनाव आयोग को निर्देश दिया गया था कि प्रति विधानसभा क्षेत्र में पांच पोलिंग बूथ के ईवीएम के वोटों का मिलान वीवीपैट पर्चियों से किया जाये.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
क्लर्क नियुक्ति के लिए फॉर्म की फीस 1000 रुपये, कितना जायज ? हमें लिखें..
झारखंड में नौकरी देने वाली हर प्रतियोगिता परीक्षा विवादों में घिरी होती है.
अब JSSC की ओर से क्लर्क की नियुक्ति के लिये विज्ञापन निकाला है.
जिसके फॉर्म की फीस 1000 रुपये है. यह फीस UPSC के जरिये IAS बनने वाली परीक्षा से
10 गुणा ज्यादा है. झारखंड में साहेब बनानेवाली JPSC  परीक्षा की फीस से 400 रुपये अधिक. 
क्या आपको लगता है कि JSSC  द्वारा तय फीस की रकम जायज है.
इस बारे में आप क्या सोंचते हैं. हमें लिखें या वीडियो मैसेज वाट्सएप करें.
हम उसे newswing.com पर  प्रकाशित करेंगे. ताकि आपकी बात सरकार तक पहुंचे. 
अपने विचार लिखने व वीडियो भेजने के लिये यहां क्लिक करें.

you're currently offline

%d bloggers like this: