न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

बच्चों की किताबों पर हर साल 150 करोड़ का वारा न्यारा, खेल में ब्यूरोक्रेट्स भी खिलाड़ी

किताब छपाई टेंडर घोटाले के कारण अब एक वरिष्ठ IAS केंद्र में सचिव रैंक पर इंपैनेल नहीं हुये

149

Ravi Bharti

Ranchi : निजी स्कूलों के बच्चों की किताबों, ड्रेस और बस फीस पर कमिशन का खेल जारी है. बच्चों की किताबों पर हर साल 150 करोड़ का वारा न्यारा होता है. इस खेल में ब्यूरोक्रेट्स भी शामिल हैं. इन अधिकारियों का धंधा बोकारो से लेकर रांची तक फैला हुआ है. राजधानी के सरकुलर रोड स्थित दुकान से पूरी व्यवस्था की डीलिंग होती है. फिलहाल ये अफसर बड़े ओहदे पर काबिज हैं. वहीं एक अफसर पर जांच जारी है. इन्होंने सरकारी स्कूलों में किताब छपाई के टेंडर अनियमितता बरती थी. जांच जारी है. इसी अनियमितता के कारण ये केंद्र में सेक्रेट्री रैंक में इंपैनल नहीं हो पाये हैं. इस रैकेट में शामिल लोग 50 फीसदी कमिशन पर काम करते हैं.

इसे भी पढ़ें- प्रधानमंत्री के दावे को गलत साबित कर रहा है सरकार का ही आंकड़ा

किताब तय करने के लिये अब तक कमेटी ही नहीं

बच्चे कौन-कौन सी किताबें पढ़ेंगे, इसके लिये कोई कमेटी ही नहीं बनी है. नियमत: सभी स्कूलों में एनसीईआरटी की किताबों से पढ़ाने का प्रावधान है. स्कूल प्रबंधनों ने इस नियम को भी ताक में रख दिया. वहीं हेल्पबुक के नाम पर एनसीईआरटी की डुप्लीकेट किताब बाजार में उपलब्ध हैं. इन किताबों में एनसीईआरटी के तर्ज पर टेक्स्ट और जवाब छपे हुए हैं. डुप्लीकेट बुक में एनसीईआरटी का लोगो भी नहीं है.

इसे भी पढ़ें- माइक पकड़ते ही पाकुड़ डीसी हो गए बेकाबू ! अधिकारियों को कहा निकम्मा, की बहुत सारी अनर्गल बातें

शुरू से आखिरी तक तय है कमिशन

किताब दुकानदार, प्रकाशक और लेखक स्कूल मैनेजमेंट को मोटी रकम देते हैं. नर्सरी से 5वीं तक की किताबों पर 30 फीसदी और 5वीं से 10वीं तक की किताब लेने पर 40 फीसदी कमिशन मिलता है. नर्सरी से पांचवीं तक के बच्चे पर औसतन 3000 (स्टेशनरी सहित) रुपये और छठे से 10वीं तक के बच्चों पर स्टेशनरी सहित औसतन 5000 रुपये खर्च आता है.

इसे भी पढ़ें- लोकमंथन कार्यक्रम में मुख्य अतिथि उपराष्ट्रपति, अध्यक्ष मुख्यमंत्री, राज्यपाल अतिथि तक नहीं

स्कूल पोशाक में 30 फीसदी कमिशन

स्कूल प्रबंधन को पोशाक के एवज में 30 फीसदी कमिशन मिलती है. स्कूल प्रबंधन एक ही ड्रेस की दुकान के साथ टाइ-अप करता है. औसतन पोशाक की कीमत 700 से 800 रुपये होती है. अगर दो लाख बच्चों के ड्रेस पर विभिन्न स्कूल प्रबंधन को लगभग चार करोड़ का फायदा होता है.

इसे भी पढ़ें- ‘इंफ्रास्ट्रक्चर लीजिंग एंड फाइनेंशियन सर्विसेस लिमिटेड’ की तेजी से बिगड़ती वित्तीय स्थिति

अभिभावकों के डूबते हैं 35 करोड़ से अधिक रुपये

बस फीस के नाम पर अभिभावकों के पांच माह में लगभग 35 करोड़ रुपये डूब जाते हैं. बस फीस के एवज में सालाना 80 करोड़ रुपये आते हैं. स्कूल प्रबंधनों ने 570 से 950 रुपये बस फीस निर्धारित की है. राज्यभर में लगभग 2000 स्कूल बसों का संचालन होता है. वहीं साल में सात महीने ही पढ़ाई होती है. केंद्र के निर्देशानुसार साल में 210 दिन की पढ़ाई जरूरी है. शेष चार महीने पढ़ाई नहीं होती है. जबकि स्कूल प्रबंधन 11 महीने का बस फीस वसूल करता है.

palamu_12

इसे भी पढ़ें- ADG डुंगडुंग उतरे SP महथा के बचाव में, DGP को पत्र लिख कहा वायरल सीडी से पुलिस की हो रही बदनामी, करायें जांच

ऐसा है बस फीस का गणित

  • 1.25 लाख बच्चे बस से स्कूल जाते हैं.
  • 53 सीटर बस में 75 और 45 सीटर बस में 66 बच्चों को बैठाने की अनुमति है.
  • औसतन बस फीस हर माह लगभग 6.50 करोड़ रुपये की प्राप्ति होती है.
  • बस ऑनर को प्रति माह 35 से 40 हजार रुपये मिलता है.
  • एक बस से हर माह 43000 रुपये की प्राप्ति होती है.
  • 13000 रुपये स्कूल प्रबंधन को बचता है.

इसे भी पढ़ें- सुप्रीम कोर्ट ने IPC की धारा 497 को किया रद्द, कहा महिला-पुरुष एक समान, विवाहेतर संबंध अपराध नहीं

ऐसा है किताबों का गणित

  • किताबों पर हर साल 150 करोड़ रुपये का होता है वारा-न्यारा.
  • कमिशन पर जाते हैं 30 करोड़ रुपये.
  • दुकानदारों को मिलते हैं 40 फीसदी कमिशन.
  • स्कूलों का बनता है 20 फीसदी हिस्सा.
  • एजेंट का बनता है 10 फीसदी कमिशन.

इसे भी पढ़ें- करोड़ों के मुआवजे पर दलालों की नजर, पहले भी खाते से निकाले जा चुके हैं 1.2 करोड़

कैसे बढ़ता है अभिभावकों पर बोझ

  • सीबीएसई से संबद्धता प्राप्त 620 स्कूल झारखंड में हैं.
  • वर्ग एक से 12वीं तक दो लाख बच्चे अध्ययन करते हैं।.
  • नर्सरी से पांचवीं तक के बच्चे पर औसतन स्टेशनरी सहित 3000 रुपये और पांचवीं से 10वीं तक के बच्चों पर औसतन 5000 रुपये खर्च होता है.
  • बीच में और प्रोजेक्ट सहित अन्य किताबों की भी मांग की जाती है.

इन प्रकाशकों की पाइरेटेड किताब है उपलब्ध

  • आरएस अग्रवाल की मैथ
  • केसी सिन्हा की मैथ
  • एनसीईआरटी की हेल्पबुक
  • साइंस में प्रदीप प्रकाशन की फिजिक्स, केमिस्ट्री और मैथ
  • एससी वर्मा की फिजिक्स
  • कांप्रिहेंसिव एबीसी

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

%d bloggers like this: