JharkhandRanchi

हर बच्चे में प्रतिभा होती है, जरूरत है इसे निखारने कीः राज्यपाल

Ranchi : राज्यपाल रमेश बैस ने कहा कि इस प्रतियोगिता में बच्चों ने भाग लेकर उत्कृष्ट प्रदर्शन किया और अपनी कला को दर्शाया है. उन्होंने कहा कि इस प्रतियोगिता में बहुत छोटे-छोटे बच्चों को भाग लेते देख बहुत प्रसन्नता हो रही है. इन्होंने अपने अंदर निहित कला को प्रदर्शित किया है. बुधवार को  राजभवन में झारखंड राज्य बाल कल्याण परिषद द्वारा आयोजित ‘राज्यस्तरीय चित्रांकन प्रतियोगिता’ के अवसर पर राज्यपाल ने कहा कि बच्चे अपने जीवन में और आगे बढ़े, अच्छा करें एवं राष्ट्रीय व अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर ख्याति अर्जित करें. उन्होंने विजयी प्रतिभागियों समेत राज्यस्तरीय चित्रांकन प्रतियोगिता में भाग लेने वाले सभी प्रतिभागियों को शुभकामनाएं भी दीं. राज्यपाल ने दिव्यांग बच्चों की कला की सराहना करते हुए कहा कि हर बच्चे में विभिन्न प्रकार की प्रतिभा निहित रहती है. आवश्यकता है उनमें निहित प्रतिभा को निखारने की. उन्होंने कहा कि आज दिव्यांगों के लिए वर्तमान में जो कानून हैं. इस कानून के निर्माण के लिए समिति के अध्यक्ष के रूप में उन्होंने देश के कई हिस्सों में जाकर दिव्यांगों से मिलकर उनकी व्यथा सुनी. उनमें निहित प्रतिभाओं को देखा. उनको सहायता एवं स्नेह की जरूरत है ताकि जिससे वे और प्रगति कर सकें. इन्हें हर क्षेत्र में आगे ला सकते हैं. राज्यपाल को उक्त अवसर पर छात्र वैभव कुमार शर्मा ने अपने द्वारा राज्यपाल का बनाया गया चित्र उपहार स्वरूप भेंट की.

राज्यपाल के प्रधान सचिव डॉ. नितिन कुलकर्णी ने इस अवसर पर कहा कि यह चित्रांकन प्रतियोगिता बच्चों में निहित कला को प्रखर करने का सशक्त माध्यम है. प्रतियोगिता में राज्य के विभिन्न जिलों के बच्चों की सक्रिय भागीदारी रही. उन्होंने इस प्रतियोगिता में भाग लेने वाले सभी प्रतिभागियों को बधाई दी. विदित हो कि राज भवन में आयोजित इस राज्यस्तरीय चित्रांकन प्रतियोगिता में राज्य के 18 जिले के कुल 227 बच्चों ने भाग लिया, जिसमें 71 दिव्यांग बच्चों की भागीदारी रही। इन बच्चों को विभिन्न श्रेणी में वर्गीकृत किया गया. राज्यपाल द्वारा सभी श्रेणी के प्रथम, द्वितीय एवं तृतीय विजेता को सम्मान राशि से भी पुरस्कृत किया गया.

इसे भी पढ़ें – पारा शिक्षकों के समायोजन के मामले की सुनवाई 17 अक्टूबर को

Related Articles

Back to top button