DeogharJharkhand

उपायुक्त व सिविल सर्जन के आदेश के बाद भी नहीं हुआ बकाया वेतन भुगतान

Deoghar : दुर्गा पूजा के मौके पर भी स्वास्थ्य विभाग के 2211 कर्मचारियों को बकाया वेतन का भुगतान नहीं होने से मायूसी छायी हुई है. उनका व उनके परिवार का दुर्गा पूजा का उत्साह फीका पड़ गया है. इस बाबत झारखंड चिकित्सा एवं जन स्वास्थ्य कर्मचारी संघ के जिला अध्यक्ष मनोज कुमार मिश्रा ने कड़ी आपत्ति दर्ज करते हुए दोषियों पर कार्रवाई की मांग की है. उन्होंने कहा कि उपायुक्त के अनुमोदन व सिविल सर्जन द्वारा 30 सितंबर को ही एक महीने के वेतन भुगतान का आदेश सभी प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारियों को देने के बाद भी अब तक 2211 शीर्ष के कर्मचारियों को वेतन भुगतान नहीं होना किया. यह साबित करता है कि जिले में पदस्थापित वेतन भुगतान से संबंधित कर्मियों के उपर उपायुक्त और सिविल सर्जन के आदेश का कोई प्रभाव नहीं रहता है. इन कर्मियों की मानवता भी खत्म हो गई है. बता दें कि स्वास्थ्य विभाग में 2211 शीर्ष के कर्मचारियों को आठ महीने से वेतन नहीं मिलने से उनके परिवार के समक्ष भुखमरी की स्थिति आ गयी है. लगातार उपायुक्त तथा सिविल सर्जन से मांग करने के बाद दुर्गा पूजा को देखते हुए एक महीने का वेतन एनएचएम के मद से भुगतान कराने का आदेश जारी किया गया. शुक्रवार को आदेश जारी किया गया और शनिवार को बैंक खुला रहने के बावजूद इनके खाते में राशि नहीं जाने पर सभी कर्मचारियों में मायूसी छा गयी. झारखंड चिकित्सा एवं जन स्वास्थ्य कर्मचारी संघ के जिलाध्यक्ष मनोज कुमार मिश्र ने इस पर कठोर आपत्ति दर्ज की है. उन्होंने सिविल सर्जन व उपायुक्त से वेतन भुगतान नहीं होने के जिम्मेवार पदाधिकारियों व कर्मचारियों पर कठोर कारवाई की मांग की है.

इसे भी पढ़ें – कोडरमा पुलिस ने 2 जुआरियों को भेजा जेल, 5 मोटरसाइकिल और 1 बोलेरो भी जब्त

Related Articles

Back to top button