National

33 साल बाद भी ‘रामायण’ का जादू बरकरारः री-टेलीकास्ट को मिली हाईएस्ट रेटिंग, बनाया रिकॉर्ड

NW Desk: लॉकडाउन के बीच दूरदर्शन के लिए अच्छी खबर है. दूरदर्शन पर लॉकडाउन के दौरान दोबारा से टेलीकास्ट हो रहे रामायण को दर्शकों का वही प्यार मिल रहा है, जो 33 साल पहले था. दरअसल 21 दिनों के बंद के बीच लोगों की बोरियत दूर करने के लिए दूरदर्शन पर रामायण और महाभारत जैसे धार्मिक सीरियल्स का रिपीट टेलीकास्ट हो रहा है.

रामायण को दर्शकों का भरपूर प्यार मिल रहा है. और इसे देखना लोग कितना पसंद कर रहे हैं, इसका अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि शो की टीआरपी ने नया रिकॉर्ड बनाया है.

इसे भी पढ़ेंःबिहार: #CoronaVirus संदिग्ध की मौत, संक्रमितों की संख्या हुई 29

Catalyst IAS
SIP abacus

4 शोज में 170 मिलियन दर्शक

Sanjeevani
MDLM

1987 में प्रसारित हुई रामानंद सागर की रामायण लॉकडाउन के कारण फिर से दूरदर्शन पर टेलीकास्ट हो रही है. और इसने एकबार फिर रिकॉर्ड बनाया है. दरअसल, प्रेस इन्फिर्मेशन ब्यू्रो (पीआइबी) ने ट्वीट कर जानकारी दी कि BARC रेटिंग में रामायण के रिपीट शो ने बाजी मारी है.

इसे 4 शोज में 170 मिलियन दर्शक मिले हैं. रामायण की टीआरपी के टक्कर में अभी कोई भी शो नहीं है. यहां तक कि साल 2015 से लेकर अब तक जनरल एंटरटेनमेंट कैटगरी के मामले में यह बेस्ट सीरियल बना गया है. प्रसार भारती के सीईओ शशि शेखर ने भी इसकी जानकारी दी है.

पीआईबी ने ट्वीट किया, ‘BARC के मुताबिक, हमने 2015 से टीवी ऑडियंस को मीजर करना शुरू किया। उस वक्ती से किसी भी हिंदी जीईसी शो को इतनी ज्याBदा रेटिंग नहीं मिली है जितनी रामायण के री-टेलिकास्टु को मिली है.’

रामानंद सागर की रामायण ने पहले भी रिकॉर्ड बनाए थे. इस टीवी सीरीज को 82% व्यूअरशिप मिल थी. ये किसी भी टीवी सीरीज के लिए रिकॉर्ड है.

इसे भी पढ़ेंःइंदौर में स्वास्थ्य कर्मियों पर पथराव का मामला: गिरफ्तार सात आरोपियों में से चार पर रासुका, अन्य छह हिरासत में

देश में रहते थे लॉकडाउन जैसे हालात

बता दें कि 25 जनवरी, 1987 से 31 जुलाई, 1988 तक यानी कि लगातार 75 रविवारों तक रामायण का प्रसारण हुआ था. उस दौरान देश के अधिकांश हिस्सों में लॉकडाउन जैसी ही स्थिति रहती थी. न कोई दुकान खुलती थी औऱ न ही लोग सड़कों पर निकलते थे. इस सीरियल में नजर आया हर किरदार लोगों के दिलों पर छा गया था. रामायण की वजह से उस समय सड़कें खाली हो जाती थी. लोग टीवी पर बैठकर बस श्री राम के जीवन की इस कहानी को पूरे भाव से देखते थे.

रामानंद सागर निर्मित रामायण का प्रसारण प्रत्येक रविवार को राष्ट्रीय टेलीविजन दूरदर्शन पर 35 मिनट के लिए होता था. इसकी लोकप्रियता इतनी थी कि जी टीवी और एनडीटीवी इमेजिन जैसे निजी चैनलों ने भी दोबारा इसका सफलतापूर्वक प्रसारण किया.

रामायण का प्रसारण इसी 28 मार्च से शुरू हुआ है और ये हर रोज दिन में दो बार प्रसारित हो रहा है. दोनों समय दो अलग-अलग एपिसोड प्रसारित होते हैं यानी दर्शको को एक ही दिन में दो एपिसोड देखने को मिल रहे हैं. ये दूरदर्शन पर रोज सुबह 9 बजे और रात में 9 बजे प्रसारित हो रहा हैं.

इसे भी पढ़ेंःMLA विनोद सिंह ने कहा- CM को उलझा रहे हैं अफसर, जिस नियम से हाथी उड़ाया, उसी नियम से गरीबों की करें मदद 

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button