न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

इथोपिया विमान हादसा: चीन ने बोइंग-737 मैक्स 8 के उड़ान पर लगायी रोक, इंडोनेशिया ने की जांच में मदद की पेशकश

दो मिनट की देरी ने बचाई युनानी नागरिक की जान

985

Beijing: चीन के नागरिक उड्डयन प्राधिकरण ने सोमवार को अपने सभी चीनी एयलाइंस को अस्थायी तौर पर बोईंग 737 मैक्स 8 के विमानों का परिचालन रोकने का आदेश दिया है. इथोपिया में रविवार को इसी श्रेणी के विमान के दुर्घटनाग्रस्त होने से 157 लोगों की मौत के बाद यह फैसला लिया गया है. इथोपिया ने भी इस श्रेणी के विमानों का परिचान फिलहाल बंद करने का फैसला लिया है. चीन के नागरिक उड्डयन प्राधिकरण ने बताया कि स्थानीय समयानुसार सोमावर को सुबह नौ बजे आदेश जारी किया गया और यह नौ घंटे तक चलेगा.

इसे भी पढ़ेंःचुनाव कार्यक्रम पर EC की सफाईः जुम्मा का रखा ध्यान, पूरे रमजान नहीं टाल सकते वोटिंग

चीन के नागर विमानन प्राधिकरण ने एक बयान में कहा, विमान संरक्षा से संबंधित सभी पहलुओं की पुष्टि होने के बाद ही बोईंग 737 मैक्स-8 का व्यावसायिक इस्तेमाल फिर से शुरू होगा. इसमें कहा गया है कि सुरक्षा खतरों के लिए कतई बर्दाश्त नहीं करने के प्रबंधन सिद्धांत के तर्ज पर आदेश दिया गया, क्योंकि यह दूसरी दुर्घटना है. इससे पहले इसी तरह की परिस्थितियों में इंडोनेशिया के समुद्र तट पर 29 अप्रैल को एक विमान दुर्घटनाग्रस्त हो गया था जिससे उसमें सवार सभी 189 लोग मारे गये थे.

इंडोनेशिया ने की जांच में सहायता की पेशकश

इंडोनेशिया के राष्ट्रीय परिवहन सुरक्षा एजेंसी के प्रमुख सोरजंतो थहजोनो ने सोमवार को बोईंग 737 मैक्स 8 विमान दुर्घटना की जांच में सहयोग देने का प्रस्ताव दिया है. इथोपिया की राजधानी अदीस अबाबा से नैरोबी के लिए उड़ान भरने के तुरंत बाद इथोपियन एयरलाइंस का एक विमान रविवार सुबह दुर्घटनाग्रस्त हो गया, जिससे उसमें सवार सभी 157 लोग मारे गये. दुर्घटना के कारण दुनिया भर के उड्डयन अधिकारी अलर्ट हो गये हैं.

इसे भी पढ़ेंःचुनाव के दौरान निर्वाचन आयोग की फेसबुक, गुगल, ट्वीटर, व्हाट्सएप पर रहेगी नजर

महज दो मिनट की देरी ने बचायी जान

इथोपिया विमान हादसे के बाद से जहां लोग सदमे में हैं. वहीं इस विमान का 150वां सवारी एक भाग्यशाली यूनानी था. जो दो मिनट देर से पहुंचने के कारण विमान में सवार नहीं हो पाया था. यात्री का कहना है कि वह उड़ान के लिए दो मिनट देर से पहुंचा, जिसकी वजह से उनकी जान बच गई.
एंटोनिस मावरोपोलोस ने फेसबुक पर ‘मेरा भाग्यशाली दिन’ नामक एक पोस्ट में कहा, ‘‘मैं परेशान हो गया था क्योंकि किसी ने भी समय पर गेट तक पहुंचने में मेरी मदद नहीं की.’’ पोस्ट में उन्होंने अपने टिकट की तस्वीर भी साझा की है.

इसे भी पढ़ेंःदेश के 30 सर्वाधिक नक्सल प्रभावित जिलों में 13 जिले झारखंड के

एथेंस समाचार एजेंसी के अनुसार, गैर-लाभकारी संगठन इंटरनेशनल सॉलिड वेस्ट एसोसिएशन के अध्यक्ष मावरोपोलोस संयुक्त राष्ट्र पर्यावरण कार्यक्रम की वार्षिक सभा में भाग लेने के लिए नैरोबी जाने वाले थे. लेकिन वह प्रस्थान द्वार बंद होने के महज दो मिनट बाद वहां पहुंचे और विमान में सवार नहीं हो पाए. इस दो मिनट की देरी ने उनकी जान बचा दी.

इसे भी पढ़ेंः जेएनयू देशद्रोह मामलाः कोर्ट ने दिल्ली पुलिस से पूछा- चार्जशीट दाखिल करने की जल्दी क्या थी

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: