न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

2019-20 में भारतीय विमानन कंपनियों को 4,200 करोड़ रुपये से अधिक का घाटा होने का आकलन

सीएपीए की राय में स्थानीय एयरलाइनें जेट एयरवेज के बंद होने और ईंधन सस्ता होने का पूरा लाभ नहीं उठा सकीं.

49

NewDelhi :  भारतीय विमानन कंपनियों को वित्त वर्ष 2019-20 में सम्मिलित रूप से 60 करोड़ डॉलर (4,230 करोड़ रुपये) से अधिक का घाटा हो सकता है, हालांकि पहले कंपनियों के कुल मिला कर फायदे में रहने का आकलन था. जान लें कि  विमानन क्षेत्र में परामर्श देने वाली कंपनी सीएपीए ने जून के अपने पूर्वानुमान में कहा था कि भारतीय विमानन कंपनियों को 2019-20 में सम्मिलित तौर पर 50-70 करोड़ डॉलर का शुद्ध लाभ हो सकता है.

इसे भी पढ़ें : #CAB पर प्रदर्शन का असरः टला जापान के पीएम शिंजो आबे का दौरा, गुवाहाटी में होनेवाली भारत-जापान शिखर वार्ता स्थगित

Sport House
Related Posts

#Amazon के CEO जेफ बेजोस चाहते थे PM मोदी से मिलना, लेकिन अपॉइन्टमेंट नहीं  मिला! क्या रही वजह

पीएम मोदी के बेजोस से न मिलने को अमेजन के स्वामित्व वाले अखबार वाशिंगटन पोस्ट में सरकार विरोधी आर्टिकल्स से जोड़कर भी देखा जा रहा है.

16 साल से अधिक की अवधि का सबसे खराब वर्ष साबित होगा

बहरहाल सीएपीए इंडिया का वित्त वर्ष 2019-20 में घाटे का अनुमान सही निकला तो यह घरेलू विमानन क्षेत्र के लिए 16 साल से अधिक की अवधि का सबसे खराब वर्ष साबित होगा.  फर्म ने अपनी एक ताजा रपट में कहा है कि चालू वित्त वर्ष के दौरान नवंबर अंत के आकलन के हिसाब से घरेलू विमानन कंपनियों को सम्मिलित तौर पर 60 करोड़ डॉलर से अधिक का घाटा उठाना पड़ सकता है. सीएपीए की राय में स्थानीय एयरलाइनें जेट एयरवेज के बंद होने और ईंधन सस्ता होने का पूरा लाभ नहीं उठा सकीं.

इसे भी पढ़ें : केंद्र ने कहा- राज्यों को कैब लागू करने से इनकार करने का हक नहीं, ममता बोलीं, बाध्य नहीं कर सकती केंद्र सरकार

Vision House 17/01/2020
Mayfair 2-1-2020

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like