HazaribaghJharkhandRanchi

हजारीबाग में  # EnforcementDirectorate ने नक्सली बिनोद कुमार गंझू,प्रदीप राम और उसके परिजनों  की 2.89 करोड़ रुपये की संपत्ति जब्त की

विज्ञापन

Ranchi :  चतरा जिले के मगध और आम्रपाली कोल परियोजना में टीपीसी उग्रवादी संगठनों के द्वारा समितियों के नाम पर  की जाने वाले वसूली को लेकर ईडी ने गुरुवार को बड़ी कार्रवाई की है.  ईडी ने कार्रवाई करते हुए प्रतिबंधित उग्रवादी संगठन टीपीसी के  नक्सली बिनोद कुमार गंझू, प्रदीप राम और परिवार के सदस्यों की हजारीबाग स्थित कुल 2.89 करोड़ रुपये की संपत्ति जब्त की है.  ईडी के द्वारा कुर्क की गयी संपत्तियों में इन नक्सलियों के परिवार के सदस्यों के नाम पर अचल संपत्ति शामिल हैं.

जानकारी के अनुसार धन शोधन रोकथाम अधिनियम के तहत ईडी ने संपत्तियों को अस्थायी तौर पर कुर्क करने का एक आदेश दिया था.जब्त की गयी अचल संपत्तियां हैं. जब्त संपत्तियों में आरोपियों के घरों से जब्त 1.49 करोड़ रुपये नकद, 89 लाख रुपये मूल्य के पांच वाहन और आठ बैंक खातों में कुल 35.18 लाख रुपये की बैंक एफडी शामिल है.

इसे भी पढ़ेंः क्या #GharGharRaghubar अभियान को बीजेपी ने नकार दिया!

advt

ईडी ने पुलिस की प्राथमिकी के आधार पर आरोपियों के खिलाफ मामला दर्ज किया है

बता दें कि ईडी द्वारा धन शोधन जांच का मामला प्रतिबंधित उग्रवादी संगठन  टीपीसी द्वारा राज्य में  चतरा जिले के मगध-आम्रपाली कोयला क्षेत्र में ठेकेदारों और कोयला व्यापारियों से आपराधिक वसूली और भयादोहन का है.  टीपीसी को झारखंड सरकार ने प्रतिबंधित कर रखा है और इसके ज्यादातर सदस्य भाकपा माओवादी के पूर्व सदस्य हैं. ईडी ने राज्य पुलिस की प्राथमिकी के आधार पर आरोपियों के खिलाफ मामला दर्ज किया है.

इसे भी पढ़ेंः 13 महीने के वेतन पर बोले पुलिस कर्मी- हमें सरकारी कैलेंडर में जितनी छुट्टी है दे दें और कुछ नहीं चाहिए

समितियों की आड़ में वसूली गयी है लेवी

जानकारी के अनुसार जांच एजेंसी ने आरोप लगाया है कि बिनोद, प्रदीप अन्य नक्सलियों के साथ मगध आर्गेनाइजिंग कमेटी और आम्रपाली शांति समिति के नाम से स्थानीय समितियां चला रहे हैं. इन समितियों की आड़ में आरोपियों ने ठेकेदारों, ट्रांसपोर्टरों, डिलेवरी आर्डर धारकों और कोयला व्यापारियों से लेवी वसूली की,जिसे टीपीसी सदस्यों को सौंपा गया.

इसे भी पढ़ेंः SC के सीनियर वकील हरीश साल्वे ने #EconomicSlowDown के लिए सुप्रीम कोर्ट के कुछ फैसलों को जिम्मेदार ठहराया

adv
advt
Advertisement

Related Articles

Back to top button