NationalUttar-Pradesh

गैंगस्टर विकास दुबे के दो सहयोगियों का एनकाउंटर, कानपुर में प्रभात मिश्रा व इटावा में बउआ दुबे ढेर

विज्ञापन
Advertisement

Kanpur: उत्तर प्रदेश के कानपुर में आठ पुलिसकर्मियों की हत्या का आरोपी और कुख्यात गैंगस्टर विकास दुबे के दो और करीबी सहयोगियों को पुलिस ने ढेर कर दिया. मारे गये लोगों में प्रभात मिश्रा व बउआ दुबे शामिल हैं. बताया जा रहा है कि दोनों की विकास दुबे के करीबी थे और प्रभात मिश्रा को पुलिस ने फरीदाबाद के होटल से गिरफ्तार किया था.

इसे भी पढ़ें- CORONA UPDATE : झारखंड में बुधवार को मिले 119 नये केस, कुल आंकड़ा पहुंचा 3175

पुलिस कस्टडी से भाग रहे प्रभात मिश्रा का एनकाउंटर

मामले को लेकर एक अधिकारी ने गुरुवार को बताया कि एक तरफ जहां कानपुर में प्रभात मिश्रा को मार गिराया वहीं दूसरी ओर पुलिस की एक अलग टीम ने इटावा में विकास दुबे के सहयोगी बउआ दुबे का एनकाउंटर किया. पुलिस हिरासत से भागने की कोशिश करते समय प्रभात मिश्रा की गोली लगने से मौत हो गयी.

advt

उत्तर प्रदेश के अतिरिक्त महानिदेशक (कानून एवं व्यवस्था) प्रशांत कुमार ने बताया कि प्रभात मिश्रा ऊर्फ कार्तिकेय ने ट्रांजिट रिमांड पर फरीदाबाद से कानपुर लाये जाने के दौरान पुलिस हिरासत से भागने की कोशिश की. उन्होंने बताया कि प्रभात ने पुलिसकर्मी की पिस्तौल छीन कर एसटीएफ कर्मियों पर गोली चला दी, जिसमें दो कर्मी घायल हो गए. जिसके बाद पुलिस की जवाबी कार्रवाई में प्रभात घायल हो गया था और उसे अस्पताल ले जाया गया, जहां उसने दम तोड़ दिया.

इसे भी पढ़ें- बिहार में Corona के 24 घंटे में रिकॉर्ड 749 नये केस, मृतक संख्या बढ़कर 100 हुई

कानपुर शूटआउट का आरोपी था बउआ दुबे

पुलिस के मुताबिक, बउवा दुबे ने देर रात महेवा के पास हाईवे पर स्विफ्ट डिजायर कार को लूटा था. उसके साथ तीन और लोग शामिल थे. पुलिस को जैसे ही लूट की खबर मिली वह फौरन मौके पर पहुंची और लूट में शामिल चारों आरोपियों को सिविल लाइन थाने के काचुरा रोड पर घेर लिया.

इसके बाद पुलिस और बउवा दुबे के बीच फायरिंग शुरू हो गयी. इस गोलीबारी में बउवा दुबे को पुलिस की गोली लग गयी और मौ2के पर ही उसकी मौत हो गयी. वहीं उसके तीनों साथी भागने में कामयाब रहे. इस घटना के बाद इटावा पुलिस ने आस-पास के जिलों को अलर्ट कर दिया है. गौरतलब है कि बउवा दुबे पर  50 हजार का इनाम था. मालूम हो की बउआ दुबे भी कानपुर शूटआउट का एक आरोपी था.

इसे भी पढ़ें- CID ने धनबाद के पूर्व SSP कौशल किशोर से की पूछताछ, ECL कर्मी को गांजा तस्करी के फर्जी केस में भेजा था जेल

advt
Advertisement

Related Articles

Back to top button
Close
%d bloggers like this: