NationalUttar-Pradesh

UP के कानपुर में पुलिस व अपराधियों के बीच मुठभेड़, DSP समेत आठ पुलिसकर्मी शहीद, दो अपराधी भी मारे गये

विज्ञापन

Lucknow: कानपुर में अपराधियों के साथ हुई मुठभेड़ में एक पुलिस उपाधीक्षक सहित उत्तर प्रदेश पुलिस के कम से कम आठ कर्मी मारे गये. इस घटना में आठ पुलिस कर्मी घायल भी हो गये हैं, जबकि दो अपराधी भी इस दौरान मारे गये. पुलिस ने शुक्रवार को यह जानकारी दी.

अधिकारियों ने बताया कि दो और तीन जुलाई की देर रात चौबेपुर पुलिस थाने के अंतर्गत दिकरू गांव में पुलिस का दल आदतन अपराधी विकास दुबे को गिरफ्तार करने जा रहा था. उसी दौरान मुठभेड़ हो गयी. दुबे के खिलाफ करीब 60 आपराधिक मामले चल रहे हैं.

अधिकारियों ने बताया कि पुलिस का एक दल अपराधी के ठिकाने के पास पहुंचने ही वाला था. उसी दौरान एक इमारत की छत से पुलिस दल पर अंधाधुंध गोलीबारी की गयी. जिसमें पुलिस उपाधीक्षक एस पी देवेंद्र मिश्रा, तीन उप निरीक्षक और चार कॉन्स्टेबल मारे गये.

advt

शुक्रवार सुबह फिर हुई मुठभेड़

कानपुर के पुलिस महानिरीक्षक मोहित अग्रवाल ने शुक्रवार सुबह बताया कि पुलिस और अपराधियों के बीच शुक्रवार सुबह मुठभेड़ में दो अपराधी मारे गये हैं. अभी तक मारे गये अपराधियों की पहचान नहीं हो पायी है. मारे गये पुलिस कर्मियों के चार हथियार भी अपराधी छीन ले गये थे, जिसमें से एक पिस्तौल मुठभेड़ में मारे गये एक अपराधी के पास से शुक्रवार सुबह बरामद हुई. अग्रवाल ने बताया कि गुरुवार रात हुई मुठभेड़ के बाद शुक्रवार सुबह एक बाद फिर मुठभेड़ हुई.

उन्होंने बताया कि शुक्रवार सुबह हुई मुठभेड़ में दो पुलिसकर्मी घायल हो गये. उन्होंने बताया कि 6 पुलिसकर्मी रात में घायल हुये थे. अब तक आठ पुलिसकर्मी घायल हुये हैं. अग्रवाल ने कहा कि फरार अपराधियों को पकड़ने के प्रयास किये जा रहे हैं. यह पूछे जाने पर कि क्या मुख्य अपराधी विकास दुबे मारा गया, अग्रवाल ने कहा कि यह शवों की पहचान के बाद ही पता चल पाएगा. अभी तलाश कार्य जारी है.

इसे भी पढ़ें- जम्मू कश्मीर: सुरक्षाबलों व आतंकियों के बीच मुठभेड़, साहिबगंज का रहने वाले कुलदीप उरांव शहीद

अपराधियों ने की अंधाधुंध गोलीबारी 

उत्तर प्रदेश के पुलिस महानिदेशक एस सी अवस्थी ने बताया कि कुख्यात अपराधी को छापेमारी की संभवत: भनक लग गयी थी. अवस्थी ने बताया कि दुबे और उसके साथियों ने अपने ठिकाने की ओर बढ़ रहे पुलिस कर्मियों को रोकने के लिए जेसीबी आदि लगा कर रास्ते को बाधित कर दिया था. पुलिस के दल को इसकी जानकारी नहीं थी.

adv

उन्होंने बताया कि रास्ता बाधित होने से पुलिस दल रुका और उसी दौरान अपराधियों ने एक इमारत की छत से अंधाधुंध गोलीबारी शुरु कर दी. घटना की सूचना पा कर अतिरिक्त महानिदेशक (कानून और व्यवस्था), महानिरीक्षक (कानपुर) और कानपुर के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक मौके पर पहुंच गये हैं. कानपुर की फॉरेंसिक टीम जाँच कर रही है, लखनऊ से भी एक टीम आएगी. डीजीपी ने बताया कि उत्तर प्रदेश पुलिस के विशेष कार्य बल (एसटीएफ) को भी वहां भेजा गया है.

इसे भी पढ़ें- Bollywood की मशहूर कोरियोग्राफर सरोज खान का मुंबई में कार्डियक अरेस्ट से निधन

योगी ने शहीदों को दी श्रद्धांजलि 

अपर मुख्य सचिव गृह अवनीश अवस्थी ने बताया कि प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कानपुर में कर्तव्यपालन के दौरान जान गंवाने वाले आठ पुलिस कर्मियों को श्रद्धांजलि दी और उनके परिजनों के प्रति संवेदना जाहिर की है.

एक प्रवक्ता ने बताया कि मुख्यमंत्री ने पुलिस महानिदेशक को इस दुर्दांत घटना को अंजाम देने वाले अपराधियों के खिलाफ सख्त से सख्त कार्रवाई करने तथा मौके से रिपोर्ट तत्काल उपलब्ध कराने के निर्देश दिये हैं. पुलिस महानिदेशक एच सी अवस्थी ने बताया कि विकास दुबे कानपुर का शातिर अपराधी और हिस्ट्रीशीटर है तथा उस पर 60 मामले दर्ज हैं. उन्होंने बताया कि कानपुर के ही राहुल तिवारी नाम के व्यक्ति ने इसके खिलाफ एक मामला दर्ज कराया था.

इसे भी पढ़ें- 6th JPSC में उत्तीर्ण अभ्यर्थियों और वासुकीनाथ धर्मरक्षिणी सभा से मिले सीएम, सभा ने श्रावणी मेले को लेकर सरकार के निर्णय का किया स्वागत

advt
Advertisement

Related Articles

Back to top button