न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

लोहरदगा में माओवादी कमांडर रवींद्र गंझू के दस्ता और पुलिस के बीच मुठभेड़

156

Lohardaga : किस्को थाना क्षेत्र के भूसाखाड़ जंगल में शनिवार की शाम को माओवादी कमांडर रवींद्र गंझू के दस्ता और पुलिस के बीच मुठभेड़ हुई है. नक्सलियों की धरपकड़ के पुलिस सर्च ऑपरेशन चला रही थी, इसी दौरान भूसाखाड़ जंगल में नक्सलियों ने पुलिस पर गोलीबारी शुरू कर दी. इसके बाद पुलिस ने जवाबी कार्रवाई में फायरिंग शुरू कर दी. खबर लिखे जाने तक दोनों ओर से गोलीबारी जारी थी.

नक्सलियों के खिलाफ चल रहा था सर्च ऑपरेशन

मिली जानकारी के अनुसार, दस लाख के इनामी भाकपा माओवादी कमांडर रवींद्र गंझू के हथियारबंद दस्ते के लोहरदगा के किस्को और पेशरार के जंगलों में घूमने की सूचना पुलिस को मिली थी. इसके बाद पुलिस द्वारा सर्च ऑपरेशन चलाया गया. पुलिस की टीम जैसे ही किस्को थाना क्षेत्र के भूसाखाड़ जंगल में पहुंची, वैसे ही नक्सलियों ने पुलिस को देखकर फायरिंग शुरू कर दी, जिसके बाद जवाबी कार्रवाई करते हुए पुलिस ने भी फायरिंग शुरू कर दी.

पुलिस कर रही है नक्सलियों की घेराबंदी

खबर लिखे जाने तक नक्सली घने जंगल और पहाड़ों बीच छिपकर पुलिस पर फायरिंग कर रह रही थी. दरअसल पुलिस नक्सलियों को घेरने को लेकर अभियान चला रही है. एसपी प्रियदर्शी आलोक और एसपी पुरुषोत्तम के नेतृत्व में जिला पुलिस बल, कोबरा, जगुआर की टीम ने नक्सलियों के खिलाफ घेराबंदी शुरू कर दी है.

इससे पहले भी रवींद्र गंझू के दस्ते के साथ हुई थी मुठभेड़

इससे पहले भी 30  नवंबर को पुलिस की दस लाख के इनामी नक्सली रवींद्र गंझू के दस्ते के साथ मुठभेड़ हुई थी. लेकिन, पुलिस को भारी पड़ता देख सभी नक्सली वहां से फरार हो गये थे. यह अभियान पुलिस बल और सीआरपीएफ द्वारा एसपी प्रियदर्शी आलोक के नेतृत्व में चलाया गया था. पुलिस के मुताबिक रवींद्र गंझू का दस्ता दस से ज्यादा लोगों का है, जिसके खिलाफ पुलिस लगातार कार्रवाई कर रही है. मुठभेड़ के बाद सर्च अभियान के दौरान पुलिस को बंदूक, छह कारतूस, बैग, कपड़े सहित कई चीजें बरामद हुई हैं. फिलहाल पुलिस ने पूरे मामले में रवींद्र गंझू के विरुद्ध मामला दर्ज किया है.

इसे भी पढ़ें- लेवी से पैसे कमाने के लालच में दूसरे राज्यों के बड़े नक्सली कर रहे हैं झारखंड का रुख

इसे भी पढ़ें- दीपिका-अतनु के रिश्ते से खुश नहीं है गोल्डेन गर्ल का ननिहाल, अंतरजातीय विवाह को लेकर है नाराजगी

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Comments are closed.

%d bloggers like this: