1st LeadChaibasaHEALTHTODAY'S NW TOP NEWSTOP SLIDERTop Story

शर्मनाक! यह 18वीं सदी का नहीं, आज का झारखंड है – यहां अभी भी गर्भवती आदिवासियों और बीमारों को खटिया पर लाद कर अस्पताल ले जाना पड़ता है

कोटसोना में महिला को हुई प्रसव पीड़ा, सड़क नहीं होने के कारण खटिया पर लिटा कर ग्रामीण सड़क तक लाये, फिर भेजा अस्पताल

Rajeshwar Pandey

Chkaradharpur  :  यह तसवीर हुक्मरानों के लिए शर्मनाक है. विकास के दावे करनेवालों के मुंह पर तमाचा है. यह 18वीं सदी का नहीं, आज का झारखंड है, लेकिन दो सदी बाद भी यहां के आदिवासी गांवों में ज्यादा कुछ नहीं बदला है.   

चक्रधरपुर प्रखंड कार्यालय से महज 25 किलोमीटर दूर होयोहातू पंचायत के एक पहाड़ पर बसा है कोटसोना गांव. इस गांव में एक पक्की सड़क तक नहीं है. सोमवार को यहां की एक गर्भवती महिला शुक्रमुनि हेंब्रम को की तबीयत अचानक बिगड़ गयी. सड़क नहीं होने के कारण ग्रामीणों की मदद से साढ़े तीन माह की गर्भवती शुक्रमुनी को खटिया में लिटा कर करीब ढाई किलोमीटर पैदल चलते हुए मुख्य सड़क तक लाया गया. इसके बाद गांव के बुद्धिजीवी बहादुर लोहार एवं मुखिया रघुनाथ गुंदुवा ने 108 एंबुलेंस बुलाकर उक्त गर्भवती महिला को एक निजी नर्सिंग होम में भर्ती कराया. वहां महिला का इलाज चल रहा है.

Sanjeevani

बुधवार की सुबह शुक्रमुनि के पति चंपाई हेंब्रम ने बताया कि गांव में पक्की सड़क नहीं होने के कारण गर्भवती महिला व बीमार लोगों को कंधे या खटिया के सहारे इलाज के लिए मुख्य सड़क तक लाया जाता है. उन्होंने कहा कि जब उसकी पत्नी शुक्रमुनि हेंब्रम की तबीयत खराब हुई, तो वह मजदूरी करने गया था. ग्रामीणों ने मदद करते हुए उसकी बीमार पत्नी को एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया. अभी वह ठीक है. चंपाई ने प्रशासन एवं क्षेत्र के जनप्रतिनिधियों से कोटसोना गांव जाने के लिए 2.5 किलोमीटर पक्की सड़क बनाने के लिए आग्रह किया है. पंचायत के मुखिया रघुनाथ गुंडुवा ने कहा कि कोटसोना गांव में 200 से अधिक परिवार रहते हैं. यह पश्चिम सिंहभूम जिले के अंतिम गांव की गिनती में आता है. गांव के लोगों को मूलभूत सुविधा तक नहीं मिल पा रही है. उन्होंने मांग की है कि  लोगों की इस समस्या को देखते हुए गांव में एक पक्की सड़क का निर्माण सरकार द्वारा कराया जाये.

इसे भी पढ़ें – Jamshedpur : ज्‍यादा ब‍िजली ब‍िल चुकाने को हो जाएं तैयार, 45 दिनों में तय होगा टाटा स्टील यूआईएसएल (जुस्को) का नया टैरिफ, जनसुनवाई पूरी

Related Articles

Back to top button