Crime NewsJharkhandLead NewsRanchi

शर्मनाक: कई बार बेची गई रांची की बेटी, नोएडा, गाजियाबाद व फरिदाबाद में बिकी

पूर्व विधायक अमित महतो के प्रयासों से बेंगलुरू से किया गया रेस्क्यू, लाई जा रही रांची

RANCHI: झारखंड सरकार मानव तस्करी रोकने के लिए हर तरह से प्रयास कर रही है, इसपर लगाम लगाने के लिए राज्य के कई जिलों में “एंटी ह्यूमन ट्रैफिकिंग यूनिट” स्थापित किए गए हैं, फिर भी झारखंड की बेटियां दूसरे राज्यों में बेची जा रही है, गांव की गरीब बच्चियों को काम दिलवाने के बहाने इनको दूसरे राज्यों में ले जाकर बेच दिया जाता है. जहां वो यौन शोषण या शारीरिक शोषण का शिकार हो जाती हैं. ये दर्द तो तब असहनीय हो जाती है जब अपने ही रिश्तेदार ही दगा देते हैं.

इसे भी पढ़ेंः  जन्मदिन पर विशेष : धौनी के लिए ये साल होगा निर्णायक, नजर आ सकते हैं नये रोल में

ऐसा ही एक रोंगटे खड़ा कर देने वाला मामला सामने आया है राजधानी रांची से. यहां की रहने वाली संध्या पिछले चार साल से दिल्ली में बिकती रही, बच्ची को कभी नोएडा, कभी गाजियाबाद तो कभी फरिदाबाद में बेचा गया. बच्ची को एक जगह से दूसरे जगह पार्सल की तरह तस्कर एक शहर से दूसरे शहर में भेजते रहे. और अब बच्ची को बेंगलुरू में बेच दिया गया, जब इसकी जानकारी सिल्ली के पूर्व विधायक अमित महतो को हुई. अमित महतो के प्रयास से बच्ची को रेस्क्यू कर बेंगलुरू से रांची लाया जा रहा है.

ram janam hospital
Catalyst IAS

ममेरी बहन ले गई थी दिल्ली

The Royal’s
Sanjeevani

जानकारी के मुताबिक चाल साल पहले बच्ची की ममेरी बहन रीना केरकेट्टा और उसका पति जो सिमडेगा के निवासी है और वर्तमान में दिल्ली में रह रहा है, उसने रीना को उसके उज्ज्वल भविष्य का सपना दिखा कर गुमराह कर उस मासूम को दिल्ली बुलाया. कुछ दिनों तक संध्या पर लाड प्यार दर्शाया गया. दुनिया की सबसे अच्छी दीदी और जीजा बनने का ढोंग रचा गया और जब संध्या पुरी तरीक़े से अपने दीदी जीजा पर विश्वास करने लगी तब उन्होंने संध्या को ग़ैर के हाथों बेच दिया. संध्या कभी नोएडा कभी ग़ाज़ियाबाद, फ़रिदाबाद बिकती रही और फिर अंतिम में बेंगलुरू में बेच दी गई.

इसे भी पढ़ेंः Jharkhand News: अनुसूचित जिलों में 100 फीसदी आरक्षण के नियम रद्द करने की फाइल राजभवन में, हो रही समीक्ष

Related Articles

Back to top button