न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

शर्मनाकः GRP की पत्रकार के साथ बबर्रता, कपड़े उतार पीटा फिर चेहरे पर किया पेशाब

मामले का वीडियो वायरल होने के बाद इंस्पेक्टर और सिपाही निलंबित

694

Lucknow: यूपी में रेलवे पुलिस की अमानवीय हरकत सामने आयी है. एक पत्रकार के साथ रेलवे पुलिस ने अभद्र व्यवहार किया और ये सारी हरकत कैमरे में कैद हो गयी है.

पूरी घटना का वीडियो वायरल हो रहा है. पत्रकार का आरोप है कि पुलिस वालों ने पहले कैमरा छीन लिया और फिर मुंह में पेशाब कर दिया. उसे लॉकर में भी बंद किया गया.

इधर वीडियो वायरल होने के बाद मामला यूपी से लेकर दिल्ली पर उठने लगा है. और डीजी समेत तमाम अधिकारियों ने आरोपित इंस्पेक्टर के खिलाफ कार्रवाई के आदेश दिये.

इसे भी पढ़ेंःआर्थिक सलाहकार रह चुके अरविंद सुब्रमण्यन को  लंदन जाकर होश आया

सीओ जीआरपी सहारनपुर की जांच के बाद आरोपित इंस्पेक्टर व एक सिपाही को निलंबित कर दिया गया है. साथ ही अन्य आरोपितों की शिनाख्त की जा रही है.

Related Posts

मोदी सरकार खुफिया अफसरों के माध्यम से  महबूबा मुफ्ती  और उमर अब्दुल्ला का रुख भांप रही है!

केंद्र सरकार  घाटी में शांति और सद्भाव स्थापित करने के मकसद से राज्य दो पूर्व मुख्यमंत्रियों को साधने की कोशिश में जुटी है.

SMILE

क्या है मामला

दरअसल, शामली में मंगलवार रात धीमानपुरा फाटक के पास दिल्ली से आ रही मालगाडी के दो डिब्बे व गार्ड का डिब्बा पटरी से उतर गए थे. इस घटना में दो सौ मीटर तक रेलवे ट्रैक भी क्षतिग्रस्त हो गया था. घटना की सूचना मिलने पर पत्रकार भी कवरेज के लिए पहुंचे.

इस दौरान कवरेज कर रहे एक टीवी चैनल के पत्रकार अमित शर्मा से जीआरपी इंस्पेक्टर राकेश बहादुर सिंह, आधा दर्जन सिपाहियों ने अभद्रता शुरू कर दी.

उसके मोबाइल व कैमरे में हाथ मारकर तोड़ दिया. इतना ही नहीं विरोध करने पर उसके साथ मारपीट की गई. जीआरपी एसओ की मौजूदगी में एक सिपाही पिटाई करता रहा. पत्रकार का आरोप है कि उसके मुंह पर इंस्पेक्टर व सिपाहियों ने पेशाब किया और हवालात में बंद कर दिया.

इधर घटना के बाद सूचना पर तमाम पत्रकार जीआरपी थाने पहुंच गए. लेकिन जीआरपी ने जर्नलिस्ट को छोड़ने से मना कर दिया. लेकिन मामले का वीडियो वायरल होने के बाद प्रशासन जागा. और तत्काल इंस्पेक्टर और एक सिपाही को निलंबित किया गया.

इसे भी पढ़ेंःIFS संजय कुमार और राजीव लोचन बख्शी पर वित्तीय अनियमितता के आरोप की जांच हो या न हो मंतव्य नहीं दे रहा वन विभाग

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
%d bloggers like this: