न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

दलमा वन्य जीव आश्रयणी में हाथियों की आपसी लड़ाई में नन्हे हाथी की मौत

जांच में जुटा वन विभाग

3,166

Jamshedpur: दलमा वन्य जीव आश्रयणी में हाथियों की आपसी लड़ाई में नन्हे हाथी को अपनी जान गंवानी पड़ी. यह घटना कोंकादशा से 6 किलोमीटर दूर घूटझरना में हुई. इधर नन्हे हाथी की मौत की जानकारी मिलने के बाद वन विभाग सक्रिय हो गया है. नन्हे हाथी के शव को कब्जे में लेकर घटना की जांच शुरू कर दी गई है. साछ ही अन्य बिंदुओं पर भी निगरानी रखी जा रही है.

इसे भी पढ़ेंःजेएन कॉलेज धुर्वा के प्रोफेसर पर यौन शोषण का आरोप, दर्जनभर महिलाकर्मियों ने की शिकायत

नन्हे हाथी की मौत

दरअसल, गर्मी के दिनों में दलमा से पश्चिम बंगाल की ओर रुख करने वाला हाथियों का झुंड अब वापसी की राह में है. झुंड दलमा की ओर लौट रहा है. पिछले महीने पटमदा इलाके के धुसरा गांव के आस-पास के जंगलों में एक झुंड को देखा गया. ग्रामीणों का कहना है कि 13 जून की रात में एक मादा हाथी ने एक हाथी को जन्म दिया है. जैसे ही हाथी के बच्चे को जन्म देने की सूचना धुसरा सहित आसपास के गांव के लोगों को लगी, नन्हे हाथी को देखने की होड़ सी लग गई. काफी संख्या में ग्रामीण हाथियों के झुंड व नन्हे हाथी को देखने पहुंच गए.

इसे भी पढ़ेंःघोषणा कर भूल गयी सरकारः 19 जुलाई- ना शेट्टी जी आये सदर अस्पताल चलाने, ना हर अनुमंडल में बना पॉलिटेक्निक कॉलेज

इस दौरान जिसने भी हाथी के बच्चे को सामने से जाकर देखने की कोशिश की, झुंड ने उसे ही दौड़ाकर बच्चे से दूर कर दिया. झुंड में करीब 6-7 हाथियों के साथ बच्चे भी शामिल हैं. संभावना है कि इसी झुंड के हाथियों की लड़ाई में नन्हे हाथी की जान चली गई. इसके अलावा दूसरे झुंड के भी दलमा पहुंचने के बाद आपसी टकराव की संभावना है.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
क्लर्क नियुक्ति के लिए फॉर्म की फीस 1000 रुपये, कितना जायज ? हमें लिखें..
झारखंड में नौकरी देने वाली हर प्रतियोगिता परीक्षा विवादों में घिरी होती है.
अब JSSC की ओर से क्लर्क की नियुक्ति के लिये विज्ञापन निकाला है.
जिसके फॉर्म की फीस 1000 रुपये है. यह फीस UPSC के जरिये IAS बनने वाली परीक्षा से
10 गुणा ज्यादा है. झारखंड में साहेब बनानेवाली JPSC  परीक्षा की फीस से 400 रुपये अधिक. 
क्या आपको लगता है कि JSSC  द्वारा तय फीस की रकम जायज है.
इस बारे में आप क्या सोंचते हैं. हमें लिखें या वीडियो मैसेज वाट्सएप करें.
हम उसे newswing.com पर  प्रकाशित करेंगे. ताकि आपकी बात सरकार तक पहुंचे. 
अपने विचार लिखने व वीडियो भेजने के लिये यहां क्लिक करें.

you're currently offline

%d bloggers like this: