न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

इलेक्ट्रो स्टील ने प्लांट लगाने के लिए 220.88 एकड़ वन भूमि पर किया कब्जा, मुक्त कराने के सरकारी प्रयास विफल

241

Pravin kumar

Ranchi : झारखंड में वन विभाग की जमीन पर भू माफियाओं की नजर लगी हुई है. वन भूमि का  गैर वन कार्यों के उपयोग राज्य में किया जा रहा है और ऐसे कई मामले भी समाने भी आ चुके हैं. फिर भी वन विभाग की ओर से किसी प्रकार की कोई कार्रवाई ना किया जाना, विभाग के अधिकारियों और भू माफियाओं की मिलीभगत होने का संदेह पैदा करती है. वहीं निजी तौर पर वन भूमि का खरीद फरोख्त तो किया ही जा रहा है. साथ ही उद्योग लगाने में भी बिना अनुमति के  वन भूमि पर कब्जा किया जा रहा है.

इलेक्ट्रो स्टील ने किया है 89.39 हेक्टेयर भूमि वन भूमि का अतिक्रमण

इलेक्ट्रो स्टील के द्वारा बोकारो में स्टील प्लांट 2008 में लगाया गया था. जिसमें बोकारो जिला के चंदनकियारी प्रखंड के 10 गांवों के 546.34 हेक्टेयर भूमि पर प्लांट के लिए वन एवं पर्यावरण मंत्रालय से मंजूरी लिया गया था. स्टील प्लांट के द्वारा वन एवं पर्यावरण मंत्रालय से ली गई मंजूरी के अनुसार प्लांट ना लगाकर तीन गांव बदलकर प्लांट लगाया गया. जिसमें 89.39 हेक्टेयर अधिसूचित वन भूमि ले लिया गया .जिसका वन अधिनियम के तहत किसी भी तरह की अनुमति सरकार से नहीं ली गई. वन एवं पर्यावरण मंत्रालय की ओर से अक्टूबर 2014 में वन संरक्षण अधिनियम के तहत वन भूमि में स्टील प्लांट संचालन को रोकने का आदेश भी दिया गया. जिसके बाद भी बोकारो वन के अधिकारियों के द्वारा इस वन भूमि पर से कब्जा हटाया नहीं जा सका है. बोकारो जिला के चंदनकियारी प्रखंड के जिन तीन गांवों के वन भूमि पर इलेक्ट्रो स्टील प्लांट ने कब्जा कर रखा है. उस भूमि का बिहार सरकार की अधिसूचना संख्या सी/एफ-17014/ 58-1429 आर दिनांक 24 मई 1958 में किया गया था.

किस-किस गांव के वन भूमि पर इलेक्ट्रोस्टील ने किया कब्जा

बोकारो जिला के चंदनकियारी प्रखंड के गांव भागाबांध, सियालजोरी, हतुपाथर, बांधडीह के वन क्षेत्र के भूमि पर इलेक्ट्रो स्टील ने बिना वन विभाग की मंजूरी के ही कब्जा कर रखा है. जिसे आज तक वन विभाग कब्जा मुक्त नहीं करा सका है.

 

गांव भूखंड संख्याअवैध कब्जा इलेक्ट्रो स्टील
भागाबांध112051.34 एकड़
 115951.62 एकड़
 138921.64 एकड़
 132108.78 एकड़
 110506.13 एकड़
 94101.94 एकड़
 88204.14 एकड़
 14280.38 एकड़
 11491.42 एकड़
सियालजोरी443652.98 एकड़
 48370.05 एकड़
 48390.06 एकड़
 48401.08 एकड़
 48561.04 एकड़
 497416.62 एकड़
हतुपाथर1092,10900.78 एकड़
बांधडीह16050.88 एकड़

 

इसे भी पढ़ें – पेयजल और स्वच्छता विभाग : कार्यपालक अभियंता की लापरवाही से सरकार के 2.02 करोड़ रुपये बेकार

इसे भी पढ़ें – झारखंड के कुछ अधिकारी अयोग्य, अनिर्णायक, उदासीन, हठी और धूर्त हैं: अनिल स्वरूप (Retd. IAS)

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: