JharkhandKhas-Khabar

बिजली व्यवस्था चरमरायी, राजधानी सहित सभी जिलों में दो-तीन घंटे पावर कट

  • टीवीएनएल की एक यूनिट और इंलैंड पावर से उत्पादन ठप
  • 122 मेगावाट बिजली की कटौती
  • राज्य का अपना उत्पादन सिर्फ 210 मेगावाट रहा
  • सिकिदिरी हाइडल से भी नहीं हो रहा उत्पादन

Ranchi: सरकार के लाख दावों के बावजूद प्रदेश की बिजली व्यवस्था चरमराई हुई है. पूरे प्रदेश में शनिवार को बिजली की आंख मिचौली जारी रही. राजधानी सहित सभी जिलों में दो से तीन घंटे बिजली की आपूर्ति बाधित रही. राज्य का अपना उत्पादन सिर्फ 210 मेगावाट ही रहा. टीवीएनएल की एक यूनिट से उत्पाद पिछले कई माह से ठप है. कोयले की कमी के कारण टीवीएनएल की एक यूनिट से उत्पादन नहीं हो पा रहा है. टीवीएनएल की दोनों यूनिट चलाने के लिए हर दिन 7000 टन कोयले की जरूरत है. वहीं शनिवार को इंलैंड पावर से भी उत्पादन ठप रहा. पानी की कमी के कारण सिकिदिरी हाइडल से बिजली का उत्पादन नहीं हो पा रहा है.

निजी और सेंट्रल एलोकेशन से ली गई 691 मेगावाट बिजली

प्रदेश में बिजली की कमी को देखते हुए शनिवार को निजी कंपनियों और सेंट्रल एलोकेशन से 691 मेगावाट बिजली ली गई. इसके बावजूद बिजली की मांग पूरी नहीं हो पायी. शनिवार को बिजली की मांग 1073 मेगावाट थी, जिसके एवज में 951 मेगावाट ही बिजली उपलब्ध रही. यही नहीं अन्य स्त्रोतों से 51 मेगावाट बिजली ली गई. इसके बावजूद 122 मेगावाट की कमी रही.

क्या रही पावर की स्थिति

  • टीवीएनएल- 210 मेगावाट
  • सीपीपी- 07 मेगावाट
  • सिकिदिरी- 00 मेगावाट
  • इंलैंड पावर- 00 मेगावाट
  • सेंट्रल एलोकेशन: 462 मेगावाट
  • आधुनिक- 184 मेगावाट
  • एसइआर- 38 मेगावाट
  • अन्य स्त्रोत : 51 मेगावाट
  • कुल बिजली उपलब्ध: 951 मेगावाट
  • बिजली की मांग: 1073 मेगावाट
  • बिजली की कमी: 122 मेगावाट

इसे भी पढ़ें – कट ऑफ डेट फिक्स नहीं होने से 9000 कांट्रैक्ट कर्मियों की जा सकती है नौकरी

Telegram
Advertisement

Related Articles

Back to top button
Close