न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

#GOSSIP: बिजली विभाग भोरे दिमाग खराब किया, फिर मैडमो सुनायी आ साहब तो डांटबे करते हैं

782

Sweta Kumari

Ranchi : भोरे-भोरे उठे तो देखे कि लाइन कटल है. फिर सोचे कि इ तो रोजे के बात है थोड़ा देर में आइए जायेगा. फिर सोचे कि पहले पेपरे पढ़ लेते हैं. लेकिन इ का..पेपर उठाये तो देखे कि लाइन तो साहब लोग 8 बजे से 4 बजे तक काटले रखेंगे. फिर घड़ी देखे तो 6 बजने वाला है आ लाइन कट गया है. लिजिए अब त लग गया कि दिन खराब हो गया आज.

Aqua Spa Salon 5/02/2020

इसे भी पढ़ें – #Bihar में जारी है पोस्टर वारः RJD के पोस्टर में कुर्सी से बंधे दिखें नीतीश कुमार और डूबता हुआ बिहार

फिर सोचे कि कुछ देर पेपर पढ़ते हैं आ लाइन के आते ही काम में लग जायेंगे. बाकि बड़ी ठंडो लग रहा था. फिर देखे कि घर में मैडम भी गुस्सा से लाल थी आ घूरे जा रही थी. फिर सोचे कि इहो तो रोजे के बात है. एतने में मैडम चिलायी कि बैइठल रहिये आ टाइम पास करत रहिये साथे पेपर भी चाटत रहिये. जब टंकी के सब पानी खत्म हो जायेगा, तब बैइठके झाल बजाइएगा.

चलिए फिर आगे घर के काम में लगे और इंतजार करते रहे कि आठ तो बजल नहीं है और लाइनो नहीं है. मन में बहुते गाली घूमने लगा, मगर दे केकरा के इहो ना बुझा रहा था. फोन घुमाये बिजली ऑफिस तो कोनो उठाइबे नहीं किय़ा. फिर त औरे दिमाग खराब हो गया. फिर बड़बड़ाये कि बिजली विभाग के त कोनो नहीं सुधार सकता है.

इसे भी पढ़ें – शिक्षा मंत्री ने शराबी शिक्षक को गुलाब देकर लगायी क्लास, बच्चों संग जमीन पर बैठ लिया टेस्ट

हमरा भर मोहल्ला पानी खातिर बइठल था और हम मगे-मगे नल से निकालकर ओकरो से बूंद-बूंदे लेकर काम कर रहे थे. फिर सोचे कि पानी के ऐतना दिक्क्त हो गया है पता नहीं ऑफिसो जा पायेंगे कि नहीं.

Gupta Jewellers 20-02 to 25-02

फिर दिमाग में आया कि समय के पक्का अगर बिजली विभाग के साहेब लोग भी हो जाएं त पूरी विभाग के काया कल्पे हो जाए. काहे कि कहते हैं आठ बजे से लाइन काटेंगे और काट देते हैं भोरे 6 बजे के पहले ही. काहे कि पेपर में ता लाइन काटे का समय 8 बजे दिये थे ना.

मन में तो बहुत गुस्सा आ रहा था पर करते का, कोनो साहब के छोड़े सोचना है पानी आ बिजली खातिर. फिर इहो ख्याल आया कि कौन से साहब के सोचना है बिजली आ पानी खातिर. उनकर घर में तो सब कुछ छकाछक रहता होगा. इनकर मन किया त 8 बजे के बदला भोरे 6 बजे के पहिले ही लाइन काट दिये.

 

फिर ईहो सोचे कि जैसे पड़ोसी के बचवन सब स्कूल ना गया, घर में पानी ना रहने के खातिर, त का साहबो के साथ एसन थोड़े होगा कि जे सोचेगा इ बारे में.

फिर मन को तसल्ली दिये कि जाने दिजिए अब हमरा हाथ में त कुछ है नहीं सिवा गरियाने आ खुद के तसल्ली देने के. फिर कौवा नहान किये आ निकल लिये ऑफिस के खातिर ना तो ऊंहा के साहब के डांट फोकट में पड़ जाता.

इसे भी पढ़ें – जनहित के मुद्दों की फाइलों को अब रघुवर सरकार की तरह अटकाया नहीं जायेगाः शिक्षा मंत्री

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like