JharkhandRanchi

पांच से दस हजार बिजली बिल बकायेदारों की कभी भी कट सकती है बिजली

जारी हुआ आदेश, शहरी क्षेत्र के उपभोक्ताओं के लिये दस हजार और ग्रामीण क्षेत्र के उपभोक्ताओं के लिए पांच हजार है सीमा

Ranchi: पांच से दस हजार बकायेदारों की बिजली अब कभी भी कट सकती है. रांची विद्युत आपूर्ति क्षेत्र के महाप्रबंधक की ओर से इस संबध में आदेश जारी किया गया है. आदेश शनिवार को दिया गया.

आदेश में लिखा है कि शहरी क्षेत्र के दस हजार और ग्रामीण क्षेत्र के पांच हजार से अधिक बिजली बकायेदारों से बिल वसूला जाये. अगर ऐसे उपभोक्ता किस्त में भी बिल भुगतान नहीं करते है तो बिजली काटी जाये. साथ ही हर दिन कम से कम 150 उपभोक्ताओं की बिजली हर दिन काटी जाये, जो लंबे बकायेदार है.

यह आदेश रांची समेत विद्युत आपूर्ति क्षेत्र में आने वाले सभी पांच जिलों के लिये है. जिसमें रांची, लोहरदगा, गुमला, सिमडेगा और खूंटी शामिल है. इसके साथ ही सभी सर्किल कार्यालयों को राजस्व वसूली में तेजी लाने का निर्देश दिया गया है.

इसे भी पढ़ें- कुंडली बॉर्डर पर पकड़े गए संदिग्ध का बड़ा खुलासा, किसानों के दबाव में बनाई कहानी

राजस्व वसूली में तेजी लायें

रांची विद्युत आपूर्ति क्षेत्र के महाप्रबंधक पीके श्रीवास्तव की ओर से इस संबध में पत्र जारी किया गया है, जिसमें लिखा है कि राजस्व वसूली मे तेजी लाने की आवश्यकता है. दिसंबर माह में की तुलना में राजस्व वसूली कम हुई है, जो कि दो करोड़ कम है. साथ ही यह भी तय किया जायें दिसंबर महीने से अधिक वसूली इस महीने की जाये.

बता दें दिसंबर महीने में 90 करोड़ बिलिंग वसूली हुई थी. यह पत्र विद्युत सहायक अभियंताओं के नाम जारी किया गया है जिसे प्राथमिकता देने कहा गया है.

इसे भी पढ़ें- मैट्रिक पास युवाओं के लिए सरकारी नौकरी पाने का गोल्डन चांस, 8632 पोस्ट के लिए करें एप्लाई

राजस्व वसूली पर जोर

कोरोना लॉकडाउन के बाद से ही जेबीवीएनएल मुख्यालय से राजस्व वसूली पर जोर दिया जा रहा है. ऐसे में इस दौरान अलग-अलग कार्रवाई कर लंबित बकायेदारों पर कार्रवाई की गयी, जिसमें अखबार में बकायेदारों के नाम छापे गये, गांवों में बिल भुगतान के लिये प्रचार किया गया, डिस्कनेक्शन गैंग बनाये गये आदि शामिल हैं.

कोरोना लॉकडाउन के बाद से ही जेबीवीएनएल के राजस्व वसूली में कमी देखी गयी. पिछले कुछ महीने से इसमें सुधार है.

इसे भी पढ़ें- एनआईटी,ट्रिपलआईटी समेत अन्य तकनीकी संस्थानों में 3 फीसदी अधिक हुआ एडमिशन, फिर भी 1939 सीटें खाली

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: