DhanbadJharkhand

धनबाद : 28 सालों में तीन बार हुआ विद्युत शवदाह गृह का उद्घाटन, बिना चालू हुए खंडहर में तब्दील

Dhanbad : धनबाद की जनता को अपने जिले में खंडहर में तब्दील हो चुके विद्युत शवदाह गृह के चालू होने ने इंतजार आज भी है. पिछले 28 वर्षों में मोहलबनी में दामोदर नदी के घाट पर स्थित इस शवदाह गृह का तीन बार उद्घाटन किया गया, लेकिन महज बिजली कनेक्शन के अभाव में आज भी शुरू नहीं हो पाया है.

प्रशासनिक उदासीनता के कारण चोरों की मौज रही और शवदाह गृह की हालत अब खंडहर जैसी हो गयी है.

इसे भी पढ़ें : JCECEB का कारनामा : आवेदन किया मेडिकल काउंसलिंग का, कंफर्मेशन मिला इंजीनियरिंग काउंसलिंग का

1991 में हुआ था निर्माण

धनबाद में 1991 में तत्कालीन डीसी व्यासजी के कार्यकाल में मोहलबनी में दामोदर नदी के तट पर एक विद्युत शव दाह गृह बनाया गया था. पहली बार व्यासजी ने ही इसका उद्घाटन बड़े ताम-झाम के साथ किया था.

28 वर्ष बीत गये लेकिन आज तक इस शवदाह गृह को महज बिजली कनेक्शन के अभाव में अब चालू नहीं किया जा सका है. तब से लेकर अब तक इस शव दाह गृह का तीन बार उद्घाटन किया जा चुका ह. तीसरी और अंतिम बार धनबाद की तत्कालीन डीसी बीला राजेश ने 2008 में इसका उद्घाटन किया था. हर बार उद्घाटन के बाद यही कहा गया कि बिजली कनेक्शन मिलते ही इसे चालू कर दिया जायेगा. लेकिन आज तक ना तो बिजली का कनेक्शन हुआ और ना ही यह शुरू हो पाया है.

इसे भी पढ़ें :तीन साल में 23 गुना रिटर्न देने का दावा कर लोगों से पैसे इन्वेस्ट करा रहा झारखंड सरकार से MoU करने वाला SkyWay Group

असली वजह बीसीसीएल और जिला प्रशासन का विवाद

इस शव दाह गृह के शुरू नहीं हो पाने की असल वजह जिला प्रशासन और बीसीसीएल के बीच का विवाद है. जिला प्रशासन के अनुसार इस शवहाद गृह के संचालन और रखरखाव की जिम्मेदारी बीसीसीएल की है. वहीं बीसीसीएल प्रबंधन इस मामले में खुद को अनजान बताता है. उसका कहना है कि अब तक उसे प्रशासन की तरह से इस संबंध में कुछ लिखित में नहीं बताया गया है.

इस उपेक्षा का पूरा फायदा चोरों ने उठाया है. धनबाद के इस एकलौते विद्युत शवदाह गृह के खिड़की-दरवाजे के साथ इसके वायरिंग के तार तक चोर नोचकर ले गये हैं.

फिलहाल धनबाद नगर निगम ने इस घाट के जीर्णोधार और विद्युत शवदाह गृह को फिर चालू करने की कवायद तेज कर दी है. इसके लिए टेंडर की प्रक्रिया भी पूरी हो गयी है.

इसे भी पढ़ें : सिदो कान्हु मुर्मू यूनिवर्सिटी : ब्लैक लिस्टेड और गलत रिजल्ट बनाने वाली NCCF एजेंसी को  दिया कॉन्ट्रैक्ट

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: