National

मोदी-शाह को क्लीन चिट देने का विरोध करने वाले चुनाव आयुक्त लवासा की असहमति सार्वजनिक करने की मांग खारिज    

NewDelhi : चुनाव आयुक्त अशोक लवासा की उस मांग को चुनाव आयोग ने खारिज कर दिया है, जिसमें आयोग के सदस्यों की असहमति या अल्पमत को सार्वजनिक करने की मांग की गयी थी. चुनाव आयोग ने मंगलवार को अशोक लवासा की इस मांग के मुद्दे पर बैठक की. खबरों के अनुसार बैठक में फैसला किया गया कि असहमति को रिकॉर्ड में रखा जायेगा, लेकिन उसे फैसले के साथ सार्वजनिक नहीं किया जायेगा. बता दें कि चुनाव आचार संहिता के उल्लंघन के मामलों में चुनाव आयोग ने पीएम मोदी और अमित शाह को क्लीन चिट दे दी थी.

इसे भी पढ़ें – राफेल  डील : SC में प्रशांत भूषण सहित अन्य याचिकाकर्ताओं ने लिखित पक्ष रखा

तीन सदस्यीय चुनाव आयोग में फैसला बहुमत के आधार पर लिया जाता है

इंडियन एक्सप्रेस के अनुसार, अशोक लवासा ने क्लीन चिट दिये जाने वाले 5 मामलों में अपनी आपत्ति जतायी थी और पीएम मोदी और अमित शाह को क्लीन चिट दिये जाने का विरोध किया था. चूंकि नियमों के अनुसार तीन सदस्यीय चुनाव आयोग में फैसला बहुमत के आधार पर लिया जाता है और मुख्य चुनाव आयुक्त सुनील अरोड़ा और चुनाव आयुक्त सुशील चंद्रा, पीएम मोदी और अमित शाह को क्लीन चिट देने के पक्ष में थे, इसलिए बहुमत के आधार पर अशोक लवासा के विरोध को दरकिनार करते हुए चुनाव आयोग ने प्रधानमंत्री को क्लीन चिट दे दी थी.

advt

अशोक लवासा ने बीती 16 मई को मांग की कि चुनाव आयोग की बैठकों में किसी सदस्य की असहमति या अल्पमत को भी सार्वजनिक किया जाये. इस पर चुनाव आयोग ने मंगलवार को बैठक कर अशोक लवासा की इस मांग को खारिज कर दिया. चुनाव आयोग ने बताया कि बैठक में चर्चा के बाद यह फैसला किया गया है कि आयोग की बैठक में सभी सदस्यों की राय को रिकॉर्ड में रखा जायेगा,लेकिन इसे सार्वजनिक फैसले में शामिल नहीं किया जायेगा.

अपने इस फैसले के पीछे आयोग ने तर्क दिया कि चुनाव आचार संहिता का उल्लंघन कोई न्यायिक मामला नहीं है, ऐसे में इसे सार्वजनिक करने की जरुरत नहीं है और यह सिर्फ फाइलों में रहेगा. आयोग ने ये भी बताया कि आरटीआई एक्ट के तहत लोग फाइलों में दर्ज राय के बारे में जानकारी ले सकते हैं. मंगलवार को हुई चुनाव आयोग की बैठक में मुख्य चुनाव आयुक्त सुनील अरोड़ा, चुनाव आयुक्त सुशील चंद्रा और अशोक लवासा शामिल  थे.

इसे भी पढ़ें – एग्जिट पोल्स से परेशान विपक्षी दलों का चुनाव आयोग के बाहर प्रदर्शन, उदित राज ने सुप्रीम कोर्ट पर सवाल उठाया

adv
advt
Advertisement

Related Articles

Back to top button