न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

आदर्श आचार संहिता का पालन हो, इसके लिए चुनाव आयोग जारी करेगा C-Vigil App

88
  • लंबे समय से पद पर बने अधिकारियों के स्थानांतरण पर मुख्य सचिव को कार्रवाई का निर्देश

Ranchi : लोकसभा चुनाव की तैयारी को लेकर विभिन्न राजनीतिक दलों के साथ बैठक के बाद भारत निर्वाचन आयोग ने कहा कि आयोग स्वतंत्र, निष्पक्ष, शांतिपूर्ण, पारदर्शी और समावेशी निर्वाचन कराने के लिए संकल्पित है. इसके लिए राज्य के सभी अधिकारियों को मतदान प्रक्रिया का सुचारु संचालन सुनिश्चित करने का निर्देश दिया गया है, ताकि राजनीतिक दलों की चिंताओं का समाधान निकाला जा सके. मालूम हो कि बुधवार को रांची पहुंची भारत निर्वाचन आयोग की टीम ने लोकसभा चुनाव को लेकर विभिन्न राजनीतिक दलों से विचार-विमर्श किया था. इस दौरान इन राजनीतिक दलों ने आयोग के समक्ष चुनाव को लेकर कई बिंदुओं पर अपने सुझाव दिये थे. इसके अलावा टीम ने कई विभागों सहित अधिकारियों संग शांतिपूर्ण चुनाव को लेकर वार्ता की थी.

आयोग ने दिये ये निर्देश

बुधवार शाम आयोजित प्रेसवार्ता में भारत निर्वाचन आयोग ने शांतिपूर्ण व निष्पक्ष चुनाव कराने को लेकर कई निर्देश दिये. इनमें प्रमुख निर्देश हैं-

  • सभी राजनीतिक दल BLA (बूथ लेवल एजेंट) की नियुक्ति करें, ताकि चुनाव संचालन प्रक्रिया में उनकी भागीदारी सुनिश्चित हो सके.
  • जिन मतदाताओं का नाम निर्वाचक नियमावली में छूट गया है, वे online nvsp website या 1950 हेल्पलाइन का उपयोग कर नाम जुड़वा सकते हैं. इसी क्रम में आयोग द्वारा Go Verify Campaign चलाया जा रहा है, ताकि प्रत्येक मतदाता अपना नाम पुनः स्वयं मतदाता सूची में सुनिश्चित कर ले.
  • सुदूर इलाके में रहनेवाले लोगों को मतदान सुविधा देने के लिए पास में ही पोलिंग स्टेशन बनाने की पहल की जाये.
  • EVM- VVPAT की विश्वसनीयता को बढ़ाने के लिए सार्वजनिक स्थानों पर उपयोग कर प्रदर्शन किया जाये. इससे मतदाताओं और राजनीतिक पार्टियों का इसके प्रति विश्वास बढ़ेगा.
  • अधिकारियों के तबादले की राजनीतिक दलों की मांग पर मुख्य सचिव को आयोग की नीति अनुसार कार्रवाई करने का निर्देश दिया है.
  • लोकसभा चुनावों में पहली बार Accessibility Observers की नियुक्ति की जायेगी. साथ ही दिव्यांग मतदाताओं और सुविधाविहिनजनों की सुविधाओं, सभी मतदान केंद्रों पर Assured Minimun Facilty (पानी, शेड, बिजली) की भी उचित व्यवस्था होगी.
  • कम से कम एक मतदान केंद्र पर महिलाओं द्वारा संचालित मतदान दल का गठन किया जायेगा.
  • आदर्श आचार संहिता का पालन राजनीतिक दल करें, इसके लिए हर संभव प्रयास किया जायेगा. इस दिशा में प्रत्येक शिकायत पर तत्परता से कार्रवाई की जायेगी. इसके लिए आयोग द्वारा चुनाव के समय C -Vigil App लॉन्च किया जायेगा. इस एप के माध्यम से कोई भी नागरिक आचार संहिता के उल्लंघन पर शिकायत दर्ज करा सकेगा.
  • मतदान प्रक्रिया से जुड़े सभी कर्मचारियों और अधिकारियों के प्रशिक्षण की व्यवस्था आयोग के निर्देशानुसार समय पर संपन्न की जायेगी.

सभी लोकसभा क्षेत्रों के सभी मतदान केंद्रों पर ईवीएम के साथ वीवीपैट का होगा इस्तेमाल

Related Posts

बोकारो : तीन साल में बनना था ढाई किलोमीटर का ओवरब्रिज, साढ़े चार साल में भी अधूरा

डीवीसी बोकारो थर्मल की विलंब से पूरी होनेवाले प्रोजेक्ट (किस्त- 01) : 134 करोड़ का है ओवरब्रिज प्रोजेक्ट

SMILE

प्रेसवार्ता के दौरान आयोग ने राज्य की 14 लोकसभा क्षेत्रों की स्थिति की भी जानकारी दी. मुख्य निर्वाचन आयुक्त ने बताया कि वर्तमान में सभी लोकसभा क्षेत्रों के सभी 29464 मतदान केंद्रों पर ईवीएम के साथ ही वीवीपैट का प्रयोग किया जायेगा. इसके लिए हर स्तर पर जागरूकता अभियान वर्तमान में पूरे में राज्य में चल रहा है. मतदान के दौरान सुरक्षा व्यवस्था को देखते हुए राज्य प्रशासन को निषेधात्मक कार्रवाई करने का निर्देश दिया गया है. निर्वाचन की घोषणा के बाद राज्य में सामान्य एवं पुलिस प्रेक्षक की नियुक्ति की जायेगी. सीआरपीएफ का उपयोग आम जनों में आत्मविश्वास जगाने के लिए, आपातकालीन व्यवस्था के लिए एयर एंबुलेंस की व्यवस्था की जायेगी.

निर्वाचन व्यय पर निगरानी के लिए नियुक्त होंगे व्यय प्रेक्षक

निर्वाचन व्यय पर प्रभावी निगरानी के लिए आयोग द्वारा व्यय प्रेक्षकों की नियुक्ति की जायेगी. इसकी निगरानी के लिए आयकर अधिकारियों की भी प्रतिनियुक्ति हर जिले में की जायेगी. प्रत्येक जिले और राज्य मुख्यालय में मीडिया सर्टिफिकेशन और मॉनिटरिंग कमिटी (एमसीएमसी) का गठन किया जायेगा. इसी तरह आगामी चुनावों को देखते हुए नये आईटी तंत्र का उपयोग किया जायेगा. इसमें एकल खिड़की अनुमति प्रणाली, लोक शिकायत निवारण एवं निगरानी प्रणाली, वाहन प्रबंधन प्रणाली,  वेबकास्टिंग आदि की सुविधा देना प्रमुख हैं.

इसे भी पढ़ें- फिलहाल लोकसभा चुनाव पर ही है आयोग का फोकस : मुख्य चुनाव आयुक्त

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
%d bloggers like this: