न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें
bharat_electronics

चुनाव आयोग की सरकार को नसीहतः एजेंसियों का हो निष्पक्ष इस्तेमाल

वित्त मंत्रालय को पत्र लिख निर्वाचन आयोग ने किया आगाह

730

New Delhi: निर्वाचन आयोग ने सरकार को चेतावनी देते हुए कहा है कि चुनाव के दौरान सरकारी एजेंसियों का निष्पक्ष ढंग से इस्तेमाल होना चाहिये.

mi banner add

रविवार को वित्त मंत्रालय को आयोग ने सलाह दी कि चुनाव के दौरान उसकी प्रवर्तन एजेंसियों की कोई भी कार्रवाई निष्पक्ष और भेदभाव रहित होनी चाहिये तथा ऐसी कार्रवाई की जानकारी चुनाव आयोग के अधिकारियों के संज्ञान में होनी चाहिये.

कमलनाथ के करीबियों के घर हुई छापेमारी

आयोग की यह सलाह रविवार को मध्य प्रदेश में की गई आयकर विभाग की छापेमारी और हाल ही में कर्नाटक, आंध्र प्रदेश तथा तमिलनाडु में राजनीतिक नेताओं या उनसे जुड़े लोगों के ठिकानों पर मारे गए छापों की पृष्ठभूमि में आई है.

इसे भी पढ़ेंः सरहुल को लेकर पुलिस-प्रशासन मुस्तैद, सुरक्षा व्यवस्था में लगाये गये 1000 से अधिक जवान

आदर्श आचार संहिता के 10 मार्च को लागू होने के बाद आयकर विभाग ने राजनीतिक नेताओं और उनके सहयोगियों पर कई छापे मारे हैं. जिसे विपक्ष चुनावी मौसम में केंद्रीय एजेंसियों का दुरुपयोग करार दे रहा है. वित्त मंत्रालय के तहत आने वाली एजेंसियों ने पिछले कुछ समय में 55 छापेमारी की हैं.

छापेमारी पर विपक्ष ने उठाये थे सवाल

चुनाव आयोग की यह सलाह उन आरोपों के बीच आई है कि सरकार चुनावी मौसम में विपक्षी पार्टियों को निशाना बनाने के लिए इन एजेंसियों का प्रयोग कर रही है.

केंद्रीय राजस्व सचिव को लिखे पत्र में आयोग ने कहा कि वह, “सभी एजेंसियों को सख्त सलाह देते हैं कि चुनाव के दौरान सभी कानूनी कार्रवाइयां भले ही स्पष्ट रूप से चुनावी कदाचार को रोकने के लिहाज से की गई हो, लेकिन वे पूरी तरह निष्पक्ष एवं भेदभाव रहित होनी चाहिए.”

वित्तीय अपराधों से निपटने के लिए आयकर विभाग, प्रवर्तन निदेशालय और राजस्व खुफिया निदेशालय राजस्व विभाग की कार्यकारी शाखाएं हैं. आयकर विभाग ने रविवार को मध्य प्रदेश में छापेमारी की और हाल ही में कर्नाटक, आंध्र प्रदेश तथा तमिलनाडु में भी छापेमारी की थी.

इसे भी पढ़ेंःबेरोजगारी और किसानों की समस्याएं महागठबंधन के मुख्य चुनावी मुद्दे :…

पत्र में कहा गया कि चुनावी मकसद के लिए अवैध धन के संदिग्ध इस्तेमाल के मामले में राज्य के मुख्य चुनाव अधिकारी को आदर्श आचार संहिता लागू रहने के दौरान उपयुक्त प्रकार से सूचित रखा जाना चाहिए.

पत्र में यह भी उल्लेख किया गया है कि कुछ वर्षों में मतदाताओं का मत बदलने की मंशा से धनबल का इस्तेमाल निष्पक्ष, नैतिक एवं विश्वसनीय चुनाव कराने में बड़ी चुनौती के तौर पर उभरा है.

इसे भी पढ़ेंःकोडरमा लोकसभा : आरजेडी से बीजेपी में आयींं अन्नपूर्णा का होगा बेड़ा…

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

dav_add
You might also like
addionm
%d bloggers like this: