न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

ईवीएम को आधार से लिंक करने की सोच रहा है चुनाव आयोग, विपक्ष ने कहा पहले UIAID डाटा सुरक्षित करे सरकार

बीजेपी और आजसू ने किया समर्थन

314

Ranchi: एक और जहां विपक्षी पार्टियां ईवीएम की जगह बैलेट पेपर की पुरानी पद्धति की मांग कर रही हैं, वहीं दूसरी ओर निर्वाचन आयोग ईवीएम को आधार से लिंक करने की दिशा में सोच रहा है. इससे ईवीएम में आधार प्रमाणीकरण का नया आयाम जुड़ जायेगा. सबकुछ ठीक-ठाक रहा तो आने वाले लोकसभा चुनाव में इसकी शुरूआत हो सकती है. हालांकि मुख्य निर्वाचन आयुक्तं ओपी रावत ने एक समाचार पत्र को बताया कि आधार के मामले में सुप्रीम कोर्ट का फैसला आना बाकी है. हम उसका इंतजार कर रहे हैं. यदि हरी झंडी मिलती है तो हम उसके बाद मतदाता सूची को ‘आधार’ से जोड़ने के काम को आगे बढ़ायेंगे. साथ ही ईवीएम में तकनीकी सुधार करके उसमें ‘आधार’ को भी समायोजित कर सकते हैं.

इसे भी पढ़ें-नेतरहाट एवं इंदिरा गांधी आवासीय विद्यालय होगा सीबीएसई, राज्य के हर पंचायत में प्लस टू स्कूल खोलेगी सरकार

इसी के साथ राजनीतिक गलियारों में ईवीएम की विश्वमसनीयता को लेकर नई सोच और बदलाव देखा जा रहा है. झारखंड में भी पहले चुनाव नतीजों के बाद ईवीएम पर सवाल उठते रहे हैं और बैलेट पेपर से चुनाव कराने की मांग उठी है. लेकिन अब ईवीएम के आधार से लिंक होने की खबर के बाद विपक्षी दलों के तेवर में कमी नहीं आई है.

इसे भी पढ़ें-छात्रावास में रह रहे छात्रों को मिला नोटिस, बंधु तिर्की ने कहा- आदिवासी विरोधी है सरकार

बैलेट पेपर से चुनाव के पक्ष में झारखंड मुक्ति मोर्चा

झारखंड मुक्ति मोर्चा के महासचिव सुप्रियो भट्टाचार्य ने कहा है आधार सब जगह लिंक हो रहा है तो ईवीएम से जुड़े तो गलत नहीं होगा. चुनाव में सबसे बड़ी बात विश्वहसनीयता की होती है. करीब 17 से भी ज्याजदा दल इसकी विश्वहसनीयता पर सवाल उठा रहे हैं. हम बार-बार कह रहे हैं कि बैलेट पेपर से चुनाव कराइये. अभी तक हमने देखा है कि जहां पर चुनाव बैलेट से हुए हैं, वहां के नतीजे विपक्ष के पक्ष में आये हैं और जहां ईवीएम से चुनाव हुए हैं, वहां एकतरफा बीजेपी की जीत होती है. लिट्टीपाड़ा चुनाव में हम पहले नंबर पर थे, लेकिन नतीजे हमारे पक्ष में नहीं आये, तब हमने चुनाव आयोग के सामने धरना दिया था. हमने कहा था कि बैलेट पेपर से चुनाव की अनिवार्यता हो. हम चाहते हैं कि बैलेट पेपर नहीं भी हो, तो इस राज्यब में वीवीपैट ईवीएम के साथ चुनाव हो.

इसे भी पढ़ें-मानव तस्करी के शिकार 1000 पीड़ितों ने लिखा पीएम को पत्र, मानव तस्करी निरोधक विधेयक पारित कराने की मांग

देश में आधार का डाटा सुरक्षित नहीं- भाकपा माले

भाकपा माले के राज्या सचिव जनार्दन प्रसाद ने कहा कि अभी तक देश में आधार का डाटा ही सुरक्षित नहीं है. ऐसे में इसे ईवीएम के साथ जोड़कर कैसे चुनावी प्रक्रिया की विश्व सनीयता को मजबूत किया जा सकता है ? चुनाव में पारदर्शिता लानी है तो बैलेट पेपर से चुनाव प्रक्रिया हो या फिर सभी ईवीएम को वीवीपैट से जोड़ा जाय और मतगणना के दौरान ईवीएम के आंकड़े के साथ-साथ वीवीपैट की पर्चियों की भी गिनती हो.

इसे भी पढ़ें-यशवंत,शौरी व प्रशांत ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कहा, राफेल डील आजाद भारत का सबसे बड़ा घोटाला

ईवीएम को आधार से जोड़ने की योजना को बीजेपी का समर्थन

बीजेपी के प्रदेश प्रवक्ताी प्रतुल शाहदेव ने कहा कि जब विपक्ष चुनाव जीतता है तो उसको ईवीएम में कोई खोट नजर नहीं आता है, और जब वह चुनाव हारता है तो ईवीएम पर प्रश्नचिन्ह उठने लगते हैं. राजनीति में यह दोहरा चरित्र नहीं चलता. ईवीएम को आधार कार्ड से जोड़ने से चुनाव सुधारों को बल मिलेगा.

इसे भी पढ़ें-चिकनगुनिया : चार दिन बाद हरकत में आयी सरकार, मंत्री ने अधिकारियों को लगायी फटकार

ईवीएम के साथ आधार और वीपीपैट दोनों जोड़ा जाय- आजसू

आजसू के केंद्रीय उपाध्यपक्ष हसन अंसारी ने कहा है कि ईवीएम के साथ आधार लिंक हो जाने के बाद उम्मी.द है कि सभी तरह के विवाद खत्मी हो जाएंगे. इससे लोगों की विश्वेसनीयता बढ़ेगी. ईवीएम के साथ वीवीपैट और आधार लिंक हो जाय तो बोगस वोटिंग पर रोक लग सकती है.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Comments are closed.

%d bloggers like this: