National

निर्वाचन आयोग को चुनाव आयुक्त लवासा ने सौंपा लिखित जवाब

New Delhi : निर्वाचन आयुक्त अशोक लवासा के बारे में पता चला है कि उन्होंने आदर्श आचार संहिता उल्लंघन के मामले में असहमति और अल्पमत विचार को आदेश का हिस्सा बनाने पर अपने रुख के बारे में लिखित में चुनाव आयोग को बता दिया है.

इसे भी पढ़ें – राफेल  डील : SC में प्रशांत भूषण सहित अन्य याचिकाकर्ताओं ने लिखित पक्ष रखा

advt

असहमति को आदेश का हिस्सा बनाना जरूरी

हालांकि, अभी यह पता नहीं चला है कि उन्होंने क्या लिखा है. समझा जाता है कि आयोग की पूर्ण बैठक में उन्होंने कहा कि चूंकि चुनाव आयोग के आदेश संविधान के अनुच्छेद 324 के तहत जारी किए जाते हैं, इसलिए प्रचार पर पाबंदी से जुड़े मामले में वे सभी प्रशासनिक फैसले से बढ़कर होते हैं.

इसे भी पढ़ें –  एग्जिट पोल्स से परेशान विपक्षी दलों का चुनाव आयोग के बाहर प्रदर्शन, उदित राज ने सुप्रीम कोर्ट पर सवाल उठाया

सूत्रों ने बताया कि जरूरत पड़ने पर लवासा अपनी राय फिर से लिखित में देने के इच्छुक थे. संविधान के अनुच्छेद 324 के तहत निर्वाचन आयोग को विभिन्न शक्तियां मिली हुई है. समझा जाता है कि उन्होंने कहा कि फैसले लेने से पहले और निष्कर्ष पर पहुंचने के लिए राय ली जाती है. लिहाजा असहमति को आदेश का हिस्सा बनाना जरूरी है.

लवासा द्वारा उठाए गए मुद्दों पर चर्चा के लिए हुई बैठक में मुख्य चुनाव आयुक्त सुनील अरोड़ा और आयुक्त सुशील चंद्रा ने आदर्श आचार संहिता उल्लंघन संबंधी आदेश में अल्पमत आदेश को शामिल करने की उनकी मांग को ठुकरा दिया था.

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: