lok sabha election 2019

जनबल और धनबल के बीच हो रहा चुनाव, जनबल ही तय करेगा कौन पार्टी आयेगी सत्ता में: सीपीआइएम

Ranchi: देश के पिछले कुछ सालों को देखा जाये तो यह पता चलता है कि किस तरह सरकार की गलत नीतियों के कारण आम जनता को परेशानी हुई है. निम्न वर्ग की बगैर चिंता किये सरकार ने कई योजनाएं लागू कीं, जिसकी मार निम्न वर्गों को झेलना पड़ी. उक्त बातें मार्क्र्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी के वरीय नेताओं ने कहीं. वे पार्टी के साहेबगंज स्थित कार्यालय में प्रेस वार्ता को संबोधित कर रहे थे. इस दौरान नेताओं ने कहा कि सत्ताधारी पार्टी ने चुनाव को भी खेल बना कर रख दिया है. जिस तरह से देश भर में भाजपा अपना प्रचार-प्रसार कर रही है. उससे यही लगता है कि पार्टी लोकतंत्र को अधिक महत्व नहीं देती. खुले आम पार्टी धार्मिक मुद्दों को उठा रही है. धर्म की आड़ में पार्टी चुनाव भी लड़ रही है. जनता भी अब जागरूक है, पिछले पांच सालों के रिकॉर्ड पर ही वोट दिया जायेगा.

इसे भी पढ़ें – आर्थिक क्षेत्र में मंदी की आशंका के बीच चुनावों में दरकिनार जरूरी सवाल

चुनाव तय करेगा कौन पार्टी आयेगी सत्ता में

इस दौरान जनवादी महिला समिति की राष्ट्रीय उपाध्यक्ष रामपरी ने आगामी चरण के चुनावों का जिक्र करते हुए कहा कि यह चुनाव काफी महत्वपूर्ण है. देश जिस आर्थिक और राजनीतिक दिशा की ओर चल पड़ा है ऐसे में जरूरी है सत्ता में ऐसी पार्टी आये जो देश की आर्थिक और राजनीतिक स्थिति में सुधार करे. उन्होंने कहा कि कई अखबारों और सर्वे से जानकारी हुई है कि देश की आर्थिक स्थिति बहुत खराब है. फिर भी सरकार इस बात तो मानने को तैयार नहीं. उन्होंने कहा कि देश फिर से लोकतंत्र की राह पर चल पड़ा है. चुनाव तय करेगा कि यहां लोकतांत्रिक पार्टियां आयेगी या फासिस्ट ताकतों की जीत होगी. मौके पर पार्टी का राजमहल लोकसभा सीट के लिए स्थानीय घोषणा पत्र जारी किया गया.

Sanjeevani

इसे भी पढ़ें – 113 घोषणाओं पर खर्च होंगे 64,389 करोड़, राज्य की आमद सिर्फ 26,250 करोड़, कैसे पूरी होंगी घोषणाएं?

जनबल और धनबल के बीच का चुनाव

यह चुनाव सिर्फ राजनीतिक पार्टियों के बीच नहीं है. बल्कि चुनाव धनबल और जनबल के बीच है. जिसमें जनबल को ही तय करना है कि कौन सी पार्टी आनेवाले पांच सालों में सत्ता में आयेगी. अब जनता समझ चुकी है चुनावी प्रलोभनों में आकर कम से कम वोट नहीं देती. मौके पर सचिव मंडल सदस्य प्रकाश विप्लव, मो. इकबाल, प्रभु लाल, श्याम सुंदर पोद्दार, आशीष रंजन, जयंत पासवान, डा. एसएन प्रसाद समेत अन्य लोग उपस्थित थे.

इसे भी पढ़ें – दल बदल मामले में चार विधायकों को हाई कोर्ट से मिला चार सप्ताह का समय  

Related Articles

Back to top button