GarhwaJharkhandPalamu

गढ़वा: कलयुगी बेटों की लापरवाही से बुजुर्ग मां की सड़क पर तड़पते हुई मौत

Palamu/Garhwa: मां और बेटे का रिश्ता अटूट और अमर है. दोनों में भावनात्मक लगाव इस रिश्ते को प्रगाढ़ बनता है. लेकिन इस रिश्ते को शर्मसार करते हुए बेटों द्वारा एक बुजुर्ग मां को घर से बाहर निकाल दिये जाने पर उसकी रातभर रास्ते में तड़प-तड़प कर मौत हो गयी. सुबह में जब इसकी जानकारी समाज को हुई तो उन्होंने बैठक कर महिला का दाह संस्कार किया और उसके बेटों का समाजिक बहिष्कार करने का निर्णय लिया.

इसे भी पढ़ेंः सी-विजिल ऐप से आचार संहिता के उल्लंघन की शिकायत मिलने के 10 मिनट के अंदर स्पॉट पर पहुंचेगी टीम, मिली ट्रेनिंग

कहां का है मामला?  

दरअसल, गढ़वा जिले के रंका अनुमण्डल मुख्यालय के सोनार मुहल्ला में दुर्भाग्यपूर्ण घटना सामने आयी है.  कलयुगी बेटे के कारण 85 वर्षीय राधिका कुवंर की मौत रात भर सड़क पर तड़पने के कारण हो गयी.

समय पर खाना नहीं देते थे बेटे

बताते चलें के रंका अनुमण्डल मुख्यालय के सोनार मुहल्ला निवासी राधिका कुंअर को तीन बेटों के रहते बिना मौत उसे सड़क पर मरना पड़ा. राधिका कुंअर के तीन बेटों में मानिकचंद सोनी, बसंत सोनी और प्रेम सोनी हैं. तीनो बेटे मां राधिका कुंअर को समय पर खाना नहीं देते थे और न ही सेवा करते थे. इस वजह से बुर्जुग राधिका कुंअर को खाने के लाले पड़ गये थे.

इसे भी पढ़ेंः पलामू: आठ साल पुराने मामले में पूर्व मुख्यमंत्री बाबूलाल मरांडी का कोर्ट में सरेंडर, मिली जमानत

रात भर सड़क पर पड़ी-पड़ी तोड़ दी दम

इस दौरान वह न्याय पाने के लिए दर-दर भटकती रही. मौत से कुछ घंटे पहले वह थाना का भी चक्कर काटती रही, लेकिन न्याय नहीं मिला. आसपास के लोगों का कहना है कि बीती रात उसके बेटों ने मां को जबरदस्ती घर से बाहर निकाल दिया था. भूख के कारण राधिका देवी रात भर सड़क पर तड़पती रही. सुबह में स्थानीय ग्रामीणों ने राधिका देवी को मूर्छित अवस्था में सड़क पर पड़ा देखा.

स्वर्णकार समाज ने किया बेटों का सामाजिक बहिष्कार  

स्थानीय लोग आनन-फानन में रेफरल हॉस्पिटल रंका 108 एम्बुलेंस के मध्यम से सदर अस्पताल पहुंचे, जहां डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया. इसके बाद शव को घर लाया गया. इस घटना की खबर आग की तरह फैल गयी. तत्काल ही स्वर्णकार समाज के लोगों ने मीटिंग बुलायी. समाज में घिनौना कार्य करने के लिए तीनों बेटों को सभी प्रकार के सामाजिक कार्यो में आने-जाने पर रोक लगा दी गयी.

इसे भी पढ़ेंः मेरा टिकट कटा तो पार्टी के लिए अच्छा नहीं होगाः साक्षी महाराज

Related Articles

Back to top button