न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

मिड डे मील: अब तीन के बजाय सिर्फ दो दिन ही बच्चों को दिया जायेगा अंडा

1,335

Ranchi:  मिड डे मील योजना के अंतर्गत अब बच्चों को तीन दिन के बजाय सिर्फ दो दिन ही अंडा दिया जायेगा. इससे पहले राज्य के सभी सरकारी स्कूल, अल्पसंख्यक स्कूल, स्वीकृत मदरसा एवं संस्कृत स्कूलों में बच्चों को तीन दिनों तक अंडा दिया जाता था.

पहले बच्चों को सोमवार, बुधवार और शुक्रवार को खाने के अलावा पूरण पोषक के रुप में तीन दिन अंडा दिया जाता था.

इस संकल्प को सभी जिला के जिला शिक्षा अधीक्षक और जिला शिक्षा पदाधिकारियों को पहले ही उपलब्ध करा दिया गया था. राज्य के 39,888 स्कूलों के 40 लाख से अधिक बच्चों को अब महीने में चार दिन कम अंडा मिलेगा.

इसे भी पढ़ेंः लोकसभा चुनाव : मतदाताओं में भारी उत्साह, तीन बजे तक यूपी में 51, पश्चिम बंगाल में 70 फीसदी वोटिंग

प्रति बच्चा अंडा के लिए मिलता है 12 रुपये सप्ताह

तीन दिन से घटाकर दो दिन किया गया है. दिन घटाने के पीछे प्रति अंडा का दाम बढ़ जाना है.

इससे पहले सरकार चार रुपये के दर से सप्ताह में प्रति बच्चों के लिए तीन अंडा खरीदती थी, अब दाम बढ़ने के वजह से इसे दो दिन ही खरीदा जा सकेगा. बजट में अंडा के लिए अतिरिक्त पैसा का प्रावधान नहीं करना पड़े इसलिए सरकार ने ऐसा निर्णय लिया है.

इसे भी पढ़ेंः लोकसभा चुनाव : मतदाताओं में भारी उत्साह, तीन बजे तक यूपी में 51, पश्चिम बंगाल में 70 फीसदी वोटिंग

शिक्षा मंत्री ने कहा था बच्चों को अंडा देने में कोई फंड आड़े नहीं आयेगा

सितंबर 2017 में राज्य की शिक्षा मंत्री ने दोबार आदेश जारी कर सप्ताह में तीन दिन अंडा देने का निर्देश जारी किया था. उससे पहले तीन महीने तक बच्चों को अंडा मिलना बंद हो गया था.

उस वक्त शिक्षा मंत्री ने कहा था कि बच्चों को अंडा देने में ना तो कोई फंड आड़े आयेगा. और न ही कोई कोताही बरती जायेगी. अंडे की खरीददारी सरस्वती वाहिनी के द्वारा स्थानीय बाजार से की जानी है.

अंडा के लिए राशि अभी डीएसई ही सरस्वती विद्या वाहिणी के बैंक खाते में भेजते हैं. इस योजना का सीए द्वारा वार्षिक अंकेक्षण कराया जाता है.

इसे भी पढ़ेंः पलामू : चतरा सीट को लेकर महागठबंधन में हालात ठीक नहीं, राजद ने कांग्रेसियों का किया विरोध, धीरज साहू वापस जाओ के लगे नारे

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
क्लर्क नियुक्ति के लिए फॉर्म की फीस 1000 रुपये, कितना जायज ? हमें लिखें..
झारखंड में नौकरी देने वाली हर प्रतियोगिता परीक्षा विवादों में घिरी होती है.
अब JSSC की ओर से क्लर्क की नियुक्ति के लिये विज्ञापन निकाला है.
जिसके फॉर्म की फीस 1000 रुपये है. यह फीस UPSC के जरिये IAS बनने वाली परीक्षा से
10 गुणा ज्यादा है. झारखंड में साहेब बनानेवाली JPSC  परीक्षा की फीस से 400 रुपये अधिक. 
क्या आपको लगता है कि JSSC  द्वारा तय फीस की रकम जायज है.
इस बारे में आप क्या सोंचते हैं. हमें लिखें या वीडियो मैसेज वाट्सएप करें.
हम उसे newswing.com पर  प्रकाशित करेंगे. ताकि आपकी बात सरकार तक पहुंचे. 
अपने विचार लिखने व वीडियो भेजने के लिये यहां क्लिक करें.

you're currently offline

%d bloggers like this: