JharkhandLead NewsRanchi

कड़ाई का दिखा असर, 100 से अधिक डिफॉल्टर मालिकों ने जमा किये टैक्स,1.40 करोड़ रु की हुई वसूली

Ranchi: जिला प्रशासन की कड़ाई का असर दिखने लगा है. रांची जिले के 247 डिफॉल्टर वाहन मालिकों में से 100 से अधिक ने टैक्स जमा कर दिये हैं. अब तक 1.40 करोड़ रू जमा हो चुके हैं. लगातार टैक्स जमा किये जा रहे हैं. इससे पहले रांची जिला परिवहन ने जिले के 2400 वाहनों से 2.40 करोड़ रु राजस्व की वसूली कर चुकी है. ये सारे वाहन डिफाल्टर हैं. इनका दो सालों से टैक्स बकाया था. टैक्स वसूली को लेकर जिला परिवहन की ओर से अख़बारों में इश्तेहार भी निकाला गया था. इसके अलावा शेष 247 डिफॉल्टर वाहनों की सूची जारी की गई थी. टैक्स जमा करने के लिये 7 दिनों की मोहलत दी गई थी. इधर, जिला परिवहन पदाधिकारी प्रवीण प्रकाश ने सारे डिफॉल्टर वाहन मालिकों को हिदायत दे दी थी कि तय समय तक टैक्स जमा नहीं करने पर गाड़ी सीज कर ली जाएगी.

वन टाइम टैक्स जमा कर रहे हैं

वाहन मालिकों को टैक्स वन टाइम जमा करने पड़ रहे हैं. यह व्यवस्था 2019 के बाद से लागू हुई है. वर्ष 2019 के पहले तिमाही और छमाही में टैक्स जमा लिया जाता था.

इसे भी पढ़ें : मजदूरी करने वाले साइबर ठग ने रांची में लगाया था 2,10,917 रुपये का चूना, जामताड़ा से गिरफ्तार

Sanjeevani

क्या कहते हैं जिला परिवहन पदाधिकारी

रांची के जिला परिवहन पदाधिकारी प्रवीण प्रकाश ने कहा कि इश्तेहार प्रकाशन के बाद डिफॉल्टर वाहन मालिकों ने टैक्स जमा करने शुरू कर दिये हैं. टैक्स जमा करने के लिए वाहन मालिकों को सात दिनों की मोहलत दी गई. टैक्स जमा नहीं करने वालों की गाड़ी जब्त कर ली जाएगी.

चार प्रकार के वाहनों की लिस्ट है तैयार

जिला परिवहन की ओर से चार प्रकार के वाहनों की सूची तैयार की गई है. इसके तहत हेवी गुड्स व्हीकल (ट्रक, हाइवा व डंपर आदि), मीडियम गुड्स व्हीकल (ट्रक 709, 909,1109 आदि), हेवी पैसेंजर और मीडियम पैसेंजर कैटगेरी के वाहनों को चिह्नित किया गया है. इन वाहनों पर रोड टैक्स के रूप में सरकार का लगभग 42 करोड़ रुपए से अधिक बकाया है. ऐसे वाहन मालिकों को जिला परिवहन कार्यालय की ओर से नोटिस भी भेजा गया है. नोटिस मिलने के बाद भी बकाया भुगतान नहीं करने पर मोटर वाहन एक्ट और राजस्व अधिनियम के तहत कार्रवाई की जाएगी.

इसे भी पढ़ें : DEOGHAR: 21 साइबर अपराधियों की संपत्ति होगी जब्त, ईडी को भेजा गया प्रस्ताव

Related Articles

Back to top button